अब पेंशन समस्या से मिलेगी मुक्ति

Karnal Updated Sat, 22 Dec 2012 05:31 AM IST
कैथल। रात्रि प्रवास कार्यक्रम के साथ-साथ जिला प्रशासन की ओर से जनता की समस्याओं के समाधान की दिशा में एक और कारगर कदम उठाया जा रहा है। जिला प्रशासन ने फैसला लिया है कि एक समय में एक गांव को चुनकर गांव के सभी पात्र लोगों का सर्वे किया जाएगा। इसमें 60 साल से ऊपर के सभी बुजुर्गों सहित विकलांग एवं विधवा पेंशनधारकों के लिए आवश्यक मापदंडों के अनुसार गांव में ही डाक्टरी मुआयना करवाकर उनकी बुढ़ापा पेंशन बनवाई जाएगी। इस पायलट प्रोजेक्ट के लिए सर्वप्रथम गांव खरकां को चुना गया है। इसमें गांव के बुजुर्गों का सर्वे किया गया है। प्रथम चरण में गांव में करीब 200 लोगों के आवेदन मिले हैं।

पेंशन बनवाने के लिए भटकते हैं बुजुर्ग
जिले भर के गांवों में पेंशन बनवाए जाने के बावजूद बुजुर्ग पेंशन के लिए भटकते रहते हैं। कई बार सही जानकारी न होने के कारण बुजुर्गों को कार्यालयों में भटकना पड़ता है। अधिकतर बुजुर्ग डीसी एवं एडीसी कार्यालय में पेंशन की मांग के लिए जाते हैं, जबकि यह कार्य समाज कल्याण विभाग के अंतर्गत आता है। इसके अलावा विधवा एवं विकलांगों को भी कई बार पेंशन के लिए कार्यालयों में चक्कर लगाते देखा जा सकता है। बुजुर्गों सहित पात्र लोगों की परेशानी को देखते जिला प्रशासन के साथ विचार करके जिला समाज कल्याण अधिकारी सत्यवान सिंह ने यह फैसला लिया है। इसके अनुसार एक बार में एक गांव के सभी पात्र बुजुर्गों, विधवा महिलाओं एवं विकलांगों का सर्वे करवाया जाएगा। इस सर्वे में पात्र लोगों की गांव में ही पेंशन बनवाई जाएगी। इसके लिए एक दिन तय करके गांव में ही संबंधित चिकित्सा अधिकारियों को भेजा जाएगा, ताकि वे पात्र लोगों का डाक्टरी मुआयना करके पेंशन बनवा सकें। एडीसी दिनेश सिंह यादव के अनुसार रात्रि प्रवास के साथ-साथ गांव स्तर पर एक पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया गया है। इसके तहत एक समय में एक गांव में पेंशन संबंधित सभी पात्रों का सर्वे करवाकर उनका एक दिन में डाक्टरी मुआयना करवा दिया जाएगा, ताकि पात्र लोगों की कम से कम एक गांव की तो समस्या खत्म हो जाए। पंद्रह दिन या एक माह की अवधि में एक गांव लिया जाएगा। इसके लिए शीघ्र ही फैसला लिया जाएगा कि कितनी अवधि में एक गांव का प्रोजेक्ट पूरा किया जाना है।


कोट
गांव खरकां सबसे पहले इस प्रोजेक्ट के तहत चुना गया है। गांव में सभी प्रकार की पेंशन के लिए 200 आवेदन फार्म वितरित किए गए हैं। इसमें पात्र लोगों के फार्म भरवाकर उनका गांव में ही डाक्टरी मुआयना करवाया जाएगा। एक गांव के सभी पेंशन पात्रों की पेंशन बनवाकर अगले गांव को चुना जाएगा।

सत्यवान सिंह, जिला समाज कल्याण अधिकारी

Spotlight

Most Read

Varanasi

मतदाता पुनरीक्षण में लापरवाही, चार अफसरों को नोटिस

मतदाता पुनरीक्षण में लापरवाही, चार अफसरों को नोटिस

19 जनवरी 2018

Related Videos

हरियाणा में इस नौकरी के लिए उमड़ा बेरोजगारों का हुजूम

हरियाणा में बेरोजगारी का क्या आलम है, ये देखने को मिला करनाल में। दरअसल मंगलवार को करनाल में ईएसआई हेल्थ केयर में चपरासी के 70 पदों के लिए प्रदेश भर से हजारों युवाओं की भीड़ उमड़ पड़ी।

17 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper