शर्मनाक : डेथ सर्टिफिकेट के लिए मांगी अस्थि कलश की फोटो

Karnal Updated Fri, 09 Nov 2012 12:00 PM IST
कुरुक्षेत्र। ‘यार मैं खुशी दे कम्म नी आया, मेरी मां मरी सी, ओदी मौत दा सर्टिफिकेट बणवाण लई 11वीं बार आया हां।’ कुरुक्षेत्र के जिला अस्पताल में ये पीड़ा गांव मुर्तजापुर वासी जतिंदर सिंह ने जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र दफ्तर में व्यक्त की। अपने बुजुर्ग पिता सुखवंत सिंह के साथ आए जतिंदर ने बताया कि वह 11वीं बार प्रमाणपत्र के लिए फाइल लेकर आए हैं। इस फाइल में एक दो या चार नहीं, 17 दस्तावेज लगाए गए हैं। जतिंदर की मां का निधन 21-8-2011 को हुआ था। इसके तुरंत बाद उन्होंने अपने गांव की हेल्थ वर्कर (एएनएम) को इसकी सूचना दर्ज कराई थी। इसके बाद उन्हें अपनी मां का मृत्यु प्रमाणपत्र बनवाने के लिए कई चक्कर जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र कार्यालय में लगाए और उन्हें एक साल बाद भी यह नसीब नहीं हुआ। इस प्रमाणपत्र के कारण उनके कई मामले अटके पड़े हैं।
जतिंदर सिंह ने बताया कि अस्पताल के जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र शाखा में कार्यरत कर्मचारी उनसे अब संस्कार की लकड़ी की फोटो और अस्थि विसर्जन की फोटो मांगने जैसे बेतुके प्रमाणों की डिमांड कर रहे हैं। अब वे ऐसे प्रूफ कहां से लाएं, उन्हें जानबूझकर परेशान किया जा रहा है। वहीं पिहोवा का एक मामला ज्यादा पुराना नहीं है, जब एक आदमी की जगह कुत्ते का संस्कार कराकर मृत्यु प्रमाणपत्र बनवा लिया गया था। अमर उजाला ने इस प्रकरण का खुलासा किया और इस प्रकरण में कई लोगों के खिलाफ मुकदमे दर्ज हुए और सलाखों के पीछे भी पहुंचे।

ये दस्तावेज लगे हैं जतिंदर की फाइल में
गांव मुर्तजापुर की हेल्थ वर्कर की पुष्टि के दस्तावेज, सामुदायिक चिकित्सा केंद्र पिहोवा के एसएमओ के पत्र की प्रति, गांव के दो गणमान्य लोगों की गवाही का दस्तावेज, गांव के पंच की रिपोर्ट और पुष्टि का दस्तावेज, मृतका पहचान पत्र, वोटर कार्ड, राशनकार्ड, गांव के चौकीदार की पुष्टि, आवेदक का शपथ पत्र, नंबरदार की रिपोर्ट जैसे 17 दस्तावेज ऐसे लगाए गए हैं, जोकि जतिंदर सिंह ने अपनी मां के मृत्यु प्रमाणपत्र को हासिल करने के लिए सरकारी महकमे ने मांगे हैं।

कई बार हो चुके हैं प्रदर्शन
जिला स्वास्थ्य विभाग के जन्म-मृत्यु प्रमाण शाखा में यह घटना एक या दो नहीं, बल्कि रोजाना सामने आती है। सबसे ज्यादा परेशानी ग्रामीणों को होती है। बुधवार को भी एक महिला ने ऐसी ही शिकायत की थी। उल्लेखनीय है कि इस शाखा के खिलाफ कई बार प्रदर्शन भी हो चुके हैं, जबकि कई बार शिकायतें कर्मचारियों के सीट पर नहीं मिलने की आलाधिकारियों तक पहुंचती रही हैं।

एडिशनल रजिस्ट्रार ने लगाई फटकार
जतिंदर सिंह की फाइल जन्म-मृत्यु प्रमाण शाखा के एडिशनल रजिस्ट्रार एवं कुरुक्षेत्र के डिप्टी सीएमओ डा. एनके झांब को दिखाई गई तो उन्होंने इस कार्य को फौरी तौर पर करने के आदेश दिए। इसके साथ ही पिहोवा जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र आफिस के स्टाफ को कड़ी फटकार लगाई। डा. झांब ने आश्वासन दिया कि यह प्रमाणपत्र शुुक्रवार तक तैयार हो जाएगा।

मुझे आज तक नहीं मिला आवेदक
हरियाणा स्वास्थ्य विभाग के काउंसिलर और पिहोवा जन्म-मृत्यु प्रमाण शाखा में एडिशनल कार्य कर रहे गुरप्रीत सिंह ने कहा कि आवेदक जतिंदर उन्हें एक बार भी नहीं मिला और उसके सभी आरोप झूठे हैं, जबकि जतिंदर ने बताया कि गांव की हेल्थ वर्कर नोरमा के साथ जाकर गुरप्रीत सिंह को मिले थे।

ये है प्रमाणपत्र की प्रक्रिया
ग्रामीण क्षेत्र में मृतक व्यक्ति के परिजन मौत की सूचना गांव की हेल्थ वर्कर को देते हैं, जिसके बाद हेल्थ वर्कर यह सूचना जन्म-मृत्यु रजिस्ट्रार आफिस में देगी और रजिस्ट्रार आफिस इसे दर्ज करेगा, शून्य से 21 दिन के भीतर मृत्यु प्रमाणपत्र बनवाने की कोई फीस नहीं होती, जबकि 22वें दिन से 30 दिन के भीतर 10 रुपये लेट फीस का भुगतान करके यह सूचना दर्ज होती है। एक साल तक सीएमओ और जिला रजिस्ट्रार की अनुमति से प्रमाणपत्र बन सकता है, अगर एक साल से ज्यादा है तो इसके लिए क्षेत्र के एसडीएम की अनुमति के साथ एडीआर की अनुमति लेनी होती है, जिसके बाद ही रजिस्ट्रार आफिस से ये प्रमाणपत्र तैयार होता है।

यहां लगे हैं चार सीसीटीवी
जन्म-मृत्यु प्रमाण शाखा के छोटे से कमरे में गड़बड़ियों को रोकने के लिए हाल ही में सीएमओ ने चार सीसीटीवी कैमरे लगवाए हैं। जबकि पूरे अस्पताल में एक भी नहीं है। इससे पता चलता है कि यहां कितने बडे़ पैमाने पर गड़बड़झाले हो रहे हैं।

Spotlight

Most Read

Lucknow

1300 भर्तियों के मामले में फंसे आजम खां, एसआईटी ने जारी किया नोटिस

अखिलेश सरकार में जल निगम में हुई 1300 पदों पर हुई भर्ती को लेकर आजम खा के खिलाफ नोटिस जारी किया गया है।

16 जनवरी 2018

Related Videos

इन हुनरबाजों ने जीती इंडिया बेस्ट ऐरोमॉडलिंग ट्रॉफी तो ऐसे हुआ स्वागत

ऑल इंडिया बेस्ट ऐरोमॉडलिंग पर कब्जा जमाकर जोधपुर से करनाल पहुंचे NCC कैडेट्स का शानदार स्वागत किया गया।

9 नवंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper