भाकियू ने दो घंटे बंधक बनाए अधिकारी

Karnal Updated Fri, 26 Oct 2012 12:00 PM IST
लाडवा। भारतीय किसान यूनियन के सदस्यों और किसानों ने धान को कम दामों पर खरीदने के विरोध में बृहस्पतिवार को मार्केट कमेटी कार्यालय पर ताला जड़कर अधिकारियों को बंधक बना लिया। किसानों की अगुवाई भाकियू प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने की। किसानों ने खरीद एजेंसियों, प्रशासन और राइस मिल मालिकों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। जिस समय भाकियू सदस्यों और किसानों ने कार्यालय पर ताला जड़ा, उस समय जिला विकास, पंचायत अधिकारी और नोडल अफसर तैनात गगनदीप सिंह और मार्केट कमेटी के सभी अधिकारी कार्यालय में मौजूद थे। किसान यूनियन ने आरोप लगाया कि राइस मिल मालिक खरीद एजेंसियों से मिलीभगत कर किसानों का धान औने-पौने दामों में खरीद रहे हैं, बल्कि किसानों के साथ-साथ सरकार को भी चूना लगा रहे हैं। भाकियू प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने आरोप लगाया कि एक तरफ तो आए दिन सरकार डीजल, खाद, दवाइयों और बीज के दामों में वृद्धि कर रही हैं, दूसरी तरफ, किसानों को मंडियों में अपनी फसल के उचित दाम नहीं मिल रहे हैं। ऐसे में किसान कर्जदार हो रहे हैं। राइस मिल मालिक कभी नमी, तो कभी किसी बहाने से धान को लूटने में लगे हैं। किसानों ने इस दौरान किसी भी अधिकारी और कर्मचारी को कार्यालय से बाहर नहीं आने दिया। ऐसे में नोडल अधिकारी गगनदीप ने किसानों और भाकियू प्रदेशाध्यक्ष से बातचीत की और आश्वासन दिया कि शनिवार तक किसानों के सामने आ रही सभी समस्याओं को दूर कर दिया जाएगा। नोडल अधिकारी के आश्वासन पर गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने दो घंटे बाद कार्यालय का ताला खोल दिया। उन्होंने ऐलान किया कि शनिवार तक किसानों के सामने आ रही दिक्कतों को दूर नहीं किया गया तो भाकियू जोरदार प्रदर्शन करेगी और सारे अधिकारियों को बंधक बनाकर तब तक नहीं छोडे़गी, जब तक प्रशासन कार्रवाई नहीं करेगा। तालाबंदी के दौरा प्रशासन के हाथपांव फूले रहे। इस दौरान मार्केट कमेटी के सचिव श्यामलाल, भाकियू सदस्य मामचंद बपदी, मेहरसिंह, रणसिंह, बरखाराम, सुखविंद्र, रतन सिंह, निर्मल, जोगेंद्र सिंह, जगतार सिंह, अंग्रेज सिंह उपस्थित रहे।

खरीद एजेंसियों के खिलाफ नारेबाजी
कच्चे आढ़तियों ने खोला राइस मिल मालिकों के खिलाफ मोर्चा
उत्तरप्रदेश से धान मंगवाकर कोटा पूरा करवाने का आरोप
नोडल अधिकारी ने दिया आश्वासन, हर समस्या का होगा समाधान

अनाज मंडी में कच्चे आढ़तियों ने वीरवार को राइस मिल संचालकों और सरकारी खरीद एजेंसियों के खिलाफ मोर्चा खोलकर जमकर नारेबाजी की। आढ़तियों ने आरोप लगाया कि सरकारी खरीद एजेंसियां और राइस मिल संचालक मिलकर आढ़तियों और किसानों को ठग रहे हैं। मनदीप सिंह तूर, नितिन बंसल, नरेश शर्मा, प्रेम सिंह, अश्वनी, विनोद कुमार, अर्जन सिंह, नरेंद्र गोयल, नरेंद्र सिंह, रणसिंह बकाली, विजयपाल, रमेश बंसल, अनुज, धर्मपाल, मनोहर लाल, महावीर प्रसाद सिंघल, मनजीत सिंह, ऋषिपाल, महिपाल आदि आढ़तियों ने आरोप लगाया कि सरकारी खरीद एजेंसियों से सांठगांठ कर राइस मिल संचालकों ने अपना पुल तैयार कर कभी नमी तो कभी किसी कारण से किसानों का धान औने-पौने दामों में खरीदा। आपस में मंडी की दुकानें बांटकर भी चूना लगाने का काम किया जा रहा है। राइस मिल संचालक कमाई करने के चक्कर में अपना कोटा पूरा होने की बात कह रहे हैं और उत्तर प्रदेश से धान मंगवा रहे हैं। गुस्से भरे आढ़तियों ने नोडल अधिकारी गगनदीप और मार्केट कमेटी सचिव श्यामलाल से मुलाकात कर अपनी समस्या रखी। नोडल अधिकारी गगनदीप ने आश्वासन दिया कि उनकी हर समस्या को दूर कर दिया जाएगा। उन्होंने कोटा खत्म होने की समस्या को दूर करने के लिए एसडीएम से बातचीत कर राइस मिलों का कोटा 15 फीसदी बढ़ाने घोषणा की। उन्होंने आश्वासन दिया कि आढ़तियों व किसानों को कोई समस्या नहीं आने दी जाएगी और जो भी राइस मिल संचालक और खरीद एजेंसी धान खरीद से आनाकानी करेगी, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

RLA चंडीगढ़ में फिर गलने लगी दलालों की दाल, ऐसे फांस रहे शिकार

रजिस्टरिंग एंड लाइसेंसिंग अथॉरिटी (आरएलए) सेक्टर-17 में एक बार फिर दलाल सक्रिय हो गए हैं, जो तरह-तरह के तरीकों से शिकार को फांस रहे हैं।

21 जनवरी 2018

Related Videos

हरियाणा में इस नौकरी के लिए उमड़ा बेरोजगारों का हुजूम

हरियाणा में बेरोजगारी का क्या आलम है, ये देखने को मिला करनाल में। दरअसल मंगलवार को करनाल में ईएसआई हेल्थ केयर में चपरासी के 70 पदों के लिए प्रदेश भर से हजारों युवाओं की भीड़ उमड़ पड़ी।

17 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper