शहर के आटो चालकाें ने बढ़ाया किराया

Karnal Updated Sat, 29 Sep 2012 12:00 PM IST
पानीपत। डीजल की बढ़ी कीमताें का असर दिखने लगा है। शहर में दौड़ रहे करीब 4 हजार आटो चालकाें ने किरायाें में 20 से 30 फीसदी तक की बढ़ोतरी कर दी है। न्यूनतम किराया पांच से बढ़ाकर सात रुपये हो गया है। किराये बढ़ने से रोजाना इन आटो में सफर करने वाले 80 हजार से अधिक यात्रियाें पर बोझ पड़ेगा।
शहर का तेजी से विस्तार होने के कारण लोगाें को एक से दूसरे स्थान तक पहुंचाने के लिए आटो अहम साधन बन चुके हैं। यही वजह है कि शहर में आटो की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। आलम यह है कि पानीपत शहर में विभिन्न रूटों पर करीब 4 हजार आटो दौड़ रहे हैं। आम आदमी के वाहन का दर्जा हासिल कर चुके आटो ने लोगाें को डीजल के दाम बढ़ने के साथ ही झटका दे दिया।
मध्यम वर्गीय दुकानदार विनोद गर्ग ने बताया कि वह रोजाना गोहाना रोड से रेलवे रोड तक सफर करते हैं। पहले उन्हें सात रुपये चुकाने पड़ते थे, अब यह किराया बढ़कर 9 रुपये हो गया है। उसे दिन में दो-तीन चक्कर भी लगाने पड़ते हैं। मगर अब किराया बढ़ने से उस पर मासिक 200 से 250 रुपये का भार पडे़गा। सरकार को डीजल के बढ़े भाव वापस लेने चाहिए अन्यथा आम आदमी की कमर टूट जाएगी।
धागा के फुटकर सप्लायर मनोज गुप्ता ने बताया कि वे रोजाना आटो से धागा विभिन्न फैक्टरियों में भेजते हैं। ये फैक्टरियां शहर के अलग-अलग हिस्सों में हैं। इससे उसे 20 से 30 प्रतिशत किराया अधिक चुकाना पड़ेगा।
आर्य पीजी कालेज की बीकॉम द्वितीय वर्ष की छात्रा प्रियंका ने बताया कि वह कालेज जाने के लिए आटो का सहारा लेती है। पहले उसका आटो का खर्च 300 से 400 रुपये प्रति माह था, मगर वह बढ़कर 550 रुपये हो गया। इसका असर उनकी जेब खर्च पर पडे़गा। डीजल के भाव का सीधा असर उनके कालेज से घर तक अप डाउन पर पड़ रहा है।
एसडी पीजी कालेज की छात्रा रुचिका सिंघल ने बताया कि वह किराया बढ़ाने के लिए आटो वालाें को दोष नहीं देती। इसके लिए सरकार सीधे तौर पर जिम्मेदार है। वह काबड़ी रोड से कालेज आती है और इसके लिए उसे तीन बार आटो बदलने पड़ते हैं। अब उसका एक माह का आटो खर्च ही 200 से 300 रुपये बढ़ गया है।
बहु तकनीकी कालेज के छात्र अभिषेक वर्मा ने बताया कि वह रामलाल चौक से रिफाइनरी रोड स्थित संस्थान जाता है। इसके लिए उसे आटो का सहारा लेना पड़ता है। पहले उसे इस मद में हर माह 700 रुपये चुकाने पड़ते थे, मगर अब इस मद में 1000 रुपये से अधिक खर्च करने होंगे।
आर्य पीजी कालेज के बीकॉम द्वितीय छात्र अमित कुमार ने बताया कि उसे कालेज तक पहुंचने के लिए उसे 400 से 500 रुपये खर्च करने पड़ते थे, मगर अब यह खर्च 700 के पार चला गया। इससे उनकी जेब खर्च पर भी असर पड़ रहा है।
गृहिणी दर्शना चोपड़ा ने बताया कि उसे बाजार आदि जाने के लिए आटो का सहारा लेना पड़ता है। कई बार उसे लगातार कई दिन तक बाजार भी जाना पड़ता था, मगर अब किराए में बढ़ोतरी के बाद बाहर निकलने से पहले कम से कम एक बार तो सोचना ही होगा।
गृहिणी रश्मि गोयल बताती है कि उसके परिवार के कई सदस्य आटो में सवार होकर बाजार, स्कूल और कालेज जाते हैं। परिवार का हर माह का आटो खर्च 1200 रुपये था, मगर अब यह बढ़कर 1800 से अधिक हो जाएगा।
वर्जन
डीजल की कीमत बढ़ने से उनका खर्च बढ़ गया। पहले डीजल 39.90 रुपये लीटर था, जो बढ़कर 45.50 रुपये प्रति लीटर हो चुका है। शहर में ट्रैफिक बढ़ने की वजह से कई अवसराें पर जाम आदि के कारण डीजल की खपत पहले ही बढ़ी थी। ऐसे में खर्च चलना मुश्किल हो गया था। यूनियन ने 5 साल में किराये बढ़ाए हैं। ऐसे में खर्च चलना मुश्किल
काला और बिट्टू, प्रधान आटो यूनियन असंध रोड
वर्जन
डीजल की कीमत बढ़ने से किराये बढ़ाए गए होंगे। आटो यूनियन जायज किराये बढ़ा सकती है। अगर किराये ज्यादा बढ़ाए और लोगाें ने शिकायत की तो फिर विभाग उन पर कार्रवाई करेगा।
सुरेंद्र सिंह, आरटीओ, पानीपत

मुख्य रूट की नई किराया सूची
शहर से काबड़ी 8 रुपये
काबड़ी से रेलवे स्टेशन 10 रुपये
पानीपत से थर्मल 10 रुपये
शहर से गढ़ी सिकंदरपुर 10 रुपये
शहर से नेफ्था क्रैकर 20 रुपये
कच्चा कैंप से बस स्टैंड 7 रुपये
शोदापुर से बस स्टैंड 8 रुपये
कच्चा कैंप से बस स्टैंड 8 रुपये
जेपी सीमेंट से बस स्टैंड 10 रुपये
बतरा कालोनी से बस स्टैंड 7 रुपये
बस स्टैंड से महराणा 10 रुपये
बस स्टैंड से नौल्था 10 रुपये
बस स्टैंड से इसराना 15 रुपये
बस स्टैंड से सब्जी मंडी 7 रुपये
बस स्टैंड से उग्रा खेड़ी 10 रुपये
पानीपत से सिवाह 8 रुपये
पानीपत से सोंदापुर 7 रुपये
पानीपत से जाटल 8 रुपये
बाबरपुर से पानीपत 10 रुपये

Spotlight

Most Read

Lucknow

शिवपाल के जन्मदिन पर अखिलेश ने उन्हें इस अंदाज में दी बधाई, जानें- क्या बोले

शिवपाल यादव ने अपने समर्थकों संग लखनऊ स्थित आवास पर जन्मदिन मनाया। अखिलेश यादव ने उन्हें मीडिया के माध्यम से बधाई दी।

22 जनवरी 2018

Related Videos

हरियाणा में इस नौकरी के लिए उमड़ा बेरोजगारों का हुजूम

हरियाणा में बेरोजगारी का क्या आलम है, ये देखने को मिला करनाल में। दरअसल मंगलवार को करनाल में ईएसआई हेल्थ केयर में चपरासी के 70 पदों के लिए प्रदेश भर से हजारों युवाओं की भीड़ उमड़ पड़ी।

17 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper