भारत बंद का असर रेल और बाजार पर

Karnal Updated Fri, 21 Sep 2012 12:00 PM IST
करनाल। एफडीआई और महंगाई के खिलाफ सत्ताधारी दल को छोड़कर तमाम विरोधी पार्टियों ने बंद को सफल बनाने के साथ अपना कड़ा विरोध दर्ज कराया। भाजपा-हजकां, इनेलो ने जहां सड़कों पर उतर कर बंद को सफल बनाने के लिए पूरा काम किया। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के कार्यकर्ताओं ने भी प्रदर्शन कर अपना विरोध दर्ज कराया। जिला भर में दोपहर तक मुख्य बाजार बंद रहा है।
करनाल शहर के हार्ट माने गए कर्ण गेट, गुड़ मंडी, कमेटी चौक पर इक्का-दुक्का दुकान को छोड़ पर मुकम्मल बंद रहा। अन्य क्षेत्रों में भी करीब 70 प्रतिशत दुकान व व्यापारिक संस्थान बंद नजर आए। सुरक्षा के लिहाज से पूरा जिला छावनी बना रहा। सुबह करीब सात बजे ही शहर में मधुबन से अतिरिक्त पुलिस बल पहुंच गया था।
दूसरी ओर घरौंडा में आल इंडिया एगेंस्ट एंटी करप्शन कार्यकर्ताओं ने रेलवे लाइन पर लेट कर पैसेंजर ट्रेन को करीब दस मिनट तक रोके रखा।
वीरवार को भारतीय जनता पार्टी और हरियाणा जनहित कांग्रेस के सैकड़ों कार्यकर्ता अलग-अलग टोलियां बना कर सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते बाजारों में उतर गए। दूसरी ओर इनेलो कार्यकर्ताओं ने भी पूरे शहर में टीम बना कर काम किया। विरोध जताने वाले लोग मुख्य तौर पर शहर के कमेटी चौक, कर्ण गेट, सदर बाजार, नेहरू पैलेस, गुड़मंडी, पुराना जीटी रोड, कुंजुपरा रोड, ओल्ड तहसील मार्केट सहित सभी क्षेत्रों में दुकानदारों से अपनी दुकानें बंद रख बंद में शामिल होने की अपील करते रहे। सभी व्यापारियों और दुकानदारों ने अपने संस्थान और दुकानें बंद कर सहयोग किया। दोहपर बाद तक तमाम विरोधी पार्टियों के नेता और कार्यकर्ता शहर के कमेटी चौक पर जमा देखे गए।

भाजपा-हजकां के यह लोग रहे शामिल
इस मौके पर भाजपा के जिला अध्यक्ष एडवोकेट जंग बहादुर चौहान और हजकां के जिलाध्यक्ष पवन शाहपुर की अगुवाई में विरोध प्रदर्शन किया गया। भाजपा के पूर्व केंद्रीय गृह राज्य मंत्री आईडी स्वामी व भाजपा राष्ट्रीय परिषद के सदस्य एवं पूर्व मंत्री शशिपाल मेहता, भाजपा नेता चंद्रप्रकाश कथूरिया, पूर्व जिलाध्यक्ष रामकुमार आर्य, पूर्व विधायक रमेश कश्यप, सरदार बख्शीश सिंह, ईलमसिंह, अशोक सुखीजा, जयभगवान,एडवोकेट वेदपाल, उमेश चानना, जगमोहन आनंद, केएल तनेजा, अशोक भंडारी, दीपक धवन, अतर सिंह संधु, गुरचरण लखनपाल, कुलदीप शर्मा, समेत कई अन्य मौजूद रहे।


इनेलो के यह नेता रहे मौजूद
इनेलो के राष्ट्रीय महासचिव बृज शर्मा, जिलाध्यक्ष यशवीर कुक्कू, हलका अध्यक्ष ओमप्रकाश सलूजा, पिछडा वर्ग सैल के जिलाध्यक्ष पालेराम धनखड़, नगर परिषद के पूर्व अध्यक्ष ज्ञानसिंह चावला, मीडिया प्रभारी हरपाल कलामपुरा, एडवोकेट संतोष यादव, अमन चावला समेत काफी कार्यकर्ताओं ने बंद कराने में सहयोग किया।

केंद्र और प्रदेश सरकार सरकार से मांगा इस्तीफा
विपक्षी नेताओं ने कहा बंद के असर के बाद देश व प्रदेश में कांग्रेस की उल्टी गिनती शुरू हो जाएगी। जिस प्रकार दुकानदारों व व्यापारियों ने बंद में शामिल होकर अपना विरोध जताया, उससे साबित हो गया है कि लोग अब कांग्रेस को और बर्दाश्त नहीं कर सकते।
कांग्रेस सरकार दोनों हाथों से देश की जनता को लूटने का काम कर रही है। डीजल व एलपीजी के दाम बढ़ाकर सरकार ने आम आदमी की जेब पर कांग्रेस ने डाका डालने का काम किया है। सरकार को नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे देना चाहिए।

भाकपा ने भी किया विरोध
भारत की कम्युनिस्ट पार्टी की ओर से भारत बंद के समर्थन में शहर में प्रदर्शन किया गया। इस दौरान कर्मचारियों ने सरकार की नीतियों के खिलाफ जोरदार नारेबाजी करते हुए अपना रोष जताया। प्रदर्शन की अगुवाई जिला कमेटी के मेंबर हरीश बागी, विजय कांबोज, जगपाल राणा, भवन निर्माण कामगार यूनियन के नेता राम बिलास, ग्रामीण चौकीदारों के नेता चूड़ियाराम, भीमसिंह, लिबर्टी यूनियन के नेता जोगा सिंह ने की। प्रदर्शनकारियों ने सदर बाजार, सब्जी मंडी, सर्राफा बाजार, चौड़ा बाजार, जुंडला गेट, बासो गेट, नावल्टी रोड, रेलवे रोड से होते हुए शहर में केंद्र और प्रदेश सरकार विरोधी नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया।

रेलवे स्टेशन पर ट्रेन रोकी
घरौंडा। एफडीआई, डीजल व गैस के दामों बढ़ोतरी करने के विरोध में देश के विभिन्न संगठनों को आह्वान पर शहर में इनेलो और हजकां कार्यकर्ताओं ने शहर में प्रदर्शन करके दुकानों को बंद कराया। इनेलो और आल इंडिया एंटी करप्शन के सदस्य रेलवे स्टेशन पहुंचे। आल इंडिया एंटी करप्शन के अध्यक्ष जेपी शेखपुरा के नेतृत्व में लोगों ने पैसेंजर रेलगाड़ी को लगभग दस मिनट तक रोके रखा और केन्द्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। स्टेशन पर थाना प्रभारी नायब सिंह पुलिस बल के साथ पहुंच गए और कार्यकर्ताओ को समझा बुझाकर रेल को रवाना किया। हलका विधायक नरेन्द्र सांगवान के नेतृत्व में इनेलो कार्यकर्ताओ ने शहर के रेलवे रोड, मंडी मनीराम, मुख्य बाजार सहित अन्य कई मार्गो पर केन्द्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।


व्यापक रहा असर
असन्ध। प्रस्तावित भारत बंद का असन्ध क्षेत्र में व्यापक असर देखने को मिला। नगर के जींद चौक, सालवन चौक, करनाल मार्ग सहित सभी प्रमुख बाजारों में दुकानें एवं व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे। इनेलो, हजकां-भाजपा गठबंधन एवं वाम पंथियों ने अलग-अलग दलों में विभाजित होकर नगर में विरोध जलूस निकाला और व्यापारियों से अपनी दुकानें बंद करवने की अपील की। वहीं वाम दलों ने सालवन चौक पर सरकार का पुतला भी फूंका।
इनेलो हलकाध्यक्ष बलजीत टूर्ण की अध्यक्षता में प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य कंवरजीत प्रिंस, जसविन्द्र सन्धू, धर्मवीर पाढा, सतीश बलहारा, गुरलाल बालू, इंन्द्रजीत जलमाना, दलबीर घणघस, मुख्त्यार वड़ैच, डा.दीपक छाबड़ा, मंजीत गुराया, करतार ढिल्लों, नफे मान, प्रकाश कौर, सुनीता अरड़ाना जबकि हजकां-भाजपा गठबंधन की तरफ से हजकां युवा प्रदेश उपाध्यक्ष राजबीर शर्मा अरड़ाना एवं भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य राणा जसबीर बाहरी की अध्यक्षता में भाजपा मंडल प्रधान बृज टक्कर, प्र दीप टाटा, सुरेश जलमाना, मेहर पोपड़ा, सन्नी मैहता वहीं वाम दलों ने भी सतबीर मुनीम व सूबा सिंह कामरेड की अध्यक्षता में एफडीआई के विरोध में जमकर प्रदर्शन किया कार्यकर्ता पूरे दिन बाजारों में ही डटे रहे और पहली बार ऐसा हुआ कि दोपहर बाद तक भी नगर के पूरे बाजार बंद रहे। असन्ध क्षेत्र के कस्बा जलमाना में जबरदस्त समर्थन मिला। इनेलो जिला सचिव सचिव इन्द्रीजीत जलमाना के नेतृत्व में सैकड़ों ग्रामवासी सुबह ही इकट्ठा हो गए और दुकानें बंद करवाने लगे। दोपहर बाद तक जलमाना में सभी व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे।
इस अवसर पर पूर्व सरपंच दलजीत सिंह, शीशा सिंह रत्तक, पंजाब सिंह, ओम प्रकाश, महेन्द्र गुप्ता, विक्रम सिंह, मास्टर शमशेर सिंह, विनोद गुप्ता, परमजीत, हरजीत सिंह सहित अन्य कार्यकर्ता मौजुद रहे।

प्रदर्शनकारी के जाते ही खोलीं दुकानें
इंद्री। बंद के आह्वान का शहर में मिलाजुला असर रहा। इनेलो, भाकपा व माकपा कार्यकर्ताओं ने दुकानदारोें से दुकानें बंद करने की अपील करते हुए प्रदर्शन किया। लेकिन दुकानदारों ने प्रदर्शनकारियों के जाने के बाद तुरंत दुकाने खोल दी। इनेलो के कार्यकर्ताओं ने शहर में कांग्रेस सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और बढ़े हुए दाम वापस लेने की मांग की।
प्रदर्शन में इन्द्री के विधायक डा अशोक कश्यप, हलकाध्यक्ष जसविन्द्र गढ़ी बीरबल, युवा हलकाध्यक्ष भीम मंढाण, शहरी प्रधान स. इन्द्रजीत सिंह गोल्डी , दरबारा सांगवान, मेहम सिंह राजेपुर, युवा शहरी प्रधान गगनदीप सिंह लक्की समेत कई अन्य ने हिस्सा लिया। वहीं भाकपा व माकपा कार्यकर्ताओं ने सीपीआई जिला सचिव जिलेसिंह पाल के नेतृत्व में प्रदर्शन किया और दुकानदारों से बंद की अपील की। उसके बाद हरियाणा खेत मजदूर यूनियन के बैनर तले बीडीपीओ कार्यालय में मनरेगा में रोजगार गारंटी योजना के मुद्दे पर मांग पत्र सौंपा। इस मौके पर रणजीत छानो, मेहर सिंह बीबीपुर,मीना, पम्मी, परमजीत, कुलदीप, बलजीत, जसवंत मौजूद रहे।

सरकार विरोधी नारे लगाए
तरावड़ी। शहर के सभी बाजार व निजी संस्थान पूरी तरह बंद रहे। बंद को सफल बनाने के हजकां व भाजपा के सैकड़ों कार्यकर्ता वीरवार सुबह करनाली गेट चौक पर एकत्रित हुए और सरकार विरोधी नारे लगाते हुए पूरे शहर का चक्कर लगाया। इस दौरान उन्हाेंने दुकानदारों से बंद में सहयोग करने की अपील की। इस मौके पर भाजपा नेता भगवान दास कबीरपंथी ने कहा कि सरकार लगातार जनविरोधी फैसले लेकर देश को विदेशी व्यापारियों के हाथों गिरवी रखने का काम कर रही है। इस मौके पर हजकां के प्रदेश व्यापार सैल सचिव गौरव गर्ग, व्यापार सैल के जिला अध्यक्ष अमित बंसल, भाजपा के मंडल अध्यक्ष देवेन्द्र कामरा, हजकां सीटी प्रधान रवि गाबा, सरीन गर्ग, अमित जैन, अनुराग जैन, रूपलाल, हजकां के युवा हल्का अध्यक्ष संदीप राणा, दौलत राम पहलवान, अमर सिंह सौदा, जेएसओ जिला सचिव रजत गर्ग, राजेश मुंजाल, मुल्तान सिंह पूर्व सरपंच, ऋषिपाल साम्भली, मुकेश गुप्ता, पवन गर्ग व राजेश लाठर मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा, सड़कों पर सन्नाटा
करनाल। बंद के दौरान रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा के कडे़ इंतजाम रहे। लोगों की सुरक्षा के लिए जीआरपी और आरपीएफ पुलिस के जवानों के साथ रेलवे वार्डन उपाध्यक्ष जेके शर्मा समेत कई रेलवे वार्डन रेलवे स्टेशन पर मौजूद रहे। स्टेशन पर पहुंचने वाले यात्रियों की संख्या बंद के मद्देनजर अन्य दिनों की अपेक्षा काफी कम रही। लोगों ने बंद का शांतिपूर्ण ढंग से समर्थन किया। इसके अलावा बंद के दौरान शहर की सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा।


बाजार में व्यापक असर
निसिंग। एफडीआई के फैसले के विरोध में प्रस्तावित भारत बंद का शहर में व्यापक असर रहा। इनेलो, हजकां व मार्क्सवादी पार्टी के नेताओं ने अपने समर्थकों ने जमकर केन्द्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। सभी ने कांग्रेस सरकार के विरोधी नारे लगाकर एफडीआई के फैसले को वापस लेने की मांग की। उन्होंने कहा की एफडीआई के इस फैसले से आमजन व खुदरा व्यापारियों पर महंगाई का असर पड़ेगा। इनेलो के हलका विधायक मामू राम, अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव स. हजूर सिंह, युवा ब्लाकध्यक्ष सुरेन्द्र टाया, हरदीप सिंह लागर, शहरी प्रधान रोशन लाल, भंवर सिंह बरास, भीम सिंह जलाला सहित अन्य ने भाग लेकर केन्द्र सरकार की नीति का विरोध किया। दूसरी ओर हजकां के युवा जिलाध्यक्ष बालकिशन शर्मा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष डा. प्रदीप आर्य, जिलामहासचिव दविन्द्र राणा, अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष डा. विक्रम सिंह, जनक पोपली, भाजपा मंडलध्यक्ष संजीव राणा सहित अन्य कार्यकर्ताओं नें बंद को सफल बनाने में सहयोग दिया। मार्क्सवादी पार्टी के नेता कामरेड सुखचैन सिंह व भरतीय किसान सभा के जिला सचिव कामरेड जगमाल सिंह व उनके समर्थकों ने बंद में भाग लिया।


पूर्ण रूप से रहा बंद
नीलोखेडी। मुख्य बाजार गोल मार्केट,नील नगर मार्केट, कारसा रोड, रेलवे रोड पूरी तरह बंद रहे। केमिस्ट व स्वीटस शाप छोड़कर सभी दुकानें बंद रही। भाजपा व हजकां कार्यकर्ताओं ने पैदल मार्च निकाला । वहीं इनेलों कार्यकर्ताओं ने मोटर साइकिलों पर अपना विरोध दर्ज करवाया। भाजपा व हजकां कार्यकर्ता अनाजमंडी में इकटठे हुए और शहर के मुख्य बाजारों से होते हुए कारसा रोड पहुंचे। कार्यकर्ताओं ने एक रिक्शा पर सिलेंडर रखकर जलूस निकाला। कार्यकर्ताओं में बालकृष्ण शर्मा, बलबीर शर्मा, सूरत सिंह गोराया, बलबीर फौजी, पूर्व विधायक नफे सिंह, हरदीप सिंह, दलजीत वाल्मीकी, गुलाब सिंह, बलबीर मराठा, गुरनाम सिंह, संतोष कारसा, बब्लू,अमित सैनी,बलविन्द्र कालडा, महिन्द्र सैनी,राज चौधरी इत्यादि उपस्थित थे ।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

हरियाणा में इस नौकरी के लिए उमड़ा बेरोजगारों का हुजूम

हरियाणा में बेरोजगारी का क्या आलम है, ये देखने को मिला करनाल में। दरअसल मंगलवार को करनाल में ईएसआई हेल्थ केयर में चपरासी के 70 पदों के लिए प्रदेश भर से हजारों युवाओं की भीड़ उमड़ पड़ी।

17 जनवरी 2018