चौशाला में बीटैक के छात्र ने बनाई कार

Karnal Updated Tue, 14 Aug 2012 12:00 PM IST
कैथल। गांव चौशाला के बीटैक द्वितीय वर्ष के छात्र सतीश कालिया ने नैनो को भी मात देते हुए उससे दो फुट छोटी कार बनाई है। बिना कालेज जाए बीटैक कर रहे सतीश का अगला सपना चार्जिंग वाली कार बनाने का है। उसके द्वारा डीजल से चलने वाली बनाई गई माइक्रो लाइन किंग कार काफी किफायती एवं कम लागत वाली है।
सतीश कुमार कालिया ने कहा कि उसकी शुरू से ही मशीनों में रुचि रही है। गांव में मिट्टी के बर्तन बनाने वाले कृष्ण कुमार के होनहार पुत्र सतीश ने बताया कि उसने दसवीं कक्षा तक गांव में शिक्षा हासिल की। इसके बाद पंजाब में पटियाला से दो वर्षीय पालीटेक्निक कालेज से इलेक्ट्रोनिक्स एंड कम्यूनिकेशन में डिप्लोमा करके गांव लौट आया। उसने ओपन से ही बारहवीं पास की और अब एएमआईई नई दिल्ली से बिना कालेज जाए बीटैक की पढ़ाई कर रहा है। इसी दौरान किताबों से उसे कार बनाने की टेक्नोलॉजी समझ में आई। इस पर उसने अपनी कार बनाने का कार्य शुरू किया।
21 दिन में तैयार की कार
सतीश ने बताया कि उसने आटो का इंजन लेकर इसमें मारुति कार का स्टेयरिंग एवं आटो के पहिए लगाए। ओपन जीप टाइप में उसने इस कार का निर्माण किया है तथा 70 हजार रुपये की लागत से बनी इस कार को बनाने में उसे 21 दिन लगे। सतीश के अनुसार यह कार 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकती है। 28 किलोमीटर की एवरेज के साथ इसमें एक साथ 15 लोग भी बैठ जाएं तो यह आसानी से चल सकती है। फिलहाल उसने इसे 4 सीटर बनाया है। उसका मकसद नैनो से छोटी कार बनाने का था। यह कार नैनो से भी दो फुट छोटी है। इसकी बाडी की ओर अच्छा लुक देकर नैनो से भी अच्छा बनाया जा सकता है। उसने इसे किसानों के प्रयोग के लिए बनाया है। इसी कारण इसकी छत को खुला रखा है। यह किसानों एवं अन्य कार्यों में प्रयोग के लिए काफी किफायती है। इसके लिए यदि कोई कंपनी उसके आइडिया के लिए बात करना चाहती है तो उनसे अवश्य बात करेगा।
चार्जिंग वाली कार बनाना है अगला लक्ष्य
सतीश ने बताया कि उसका अगला लक्ष्य चार्जिंग वाली कार बनाना है ताकि ईंधन की लागत को और अधिक कम किया जा सके। अपने पिता द्वारा मेहनत की प्रेरणा से वह जीवन में एक से बढ़कर एक कार बनाना चाहता है।

Spotlight

Most Read

Dehradun

देहरादून: 24 जनवरी को कक्षा 1 से 12 तक बंद रहेंगे सभी स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्र

मौसम विभाग की ओर से प्रदेश में बारिश की चेतावनी के चलते डीएम ने स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्र बंद करने के निर्देश जारी किए हैं।

23 जनवरी 2018

Related Videos

हरियाणा में इस नौकरी के लिए उमड़ा बेरोजगारों का हुजूम

हरियाणा में बेरोजगारी का क्या आलम है, ये देखने को मिला करनाल में। दरअसल मंगलवार को करनाल में ईएसआई हेल्थ केयर में चपरासी के 70 पदों के लिए प्रदेश भर से हजारों युवाओं की भीड़ उमड़ पड़ी।

17 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper