सिरसा में एक हजार जवानों ने किया फ्लैग मार्च

Hisar Updated Sat, 01 Dec 2012 12:00 PM IST
सिरसा। डेरा प्रेमियों और कुछ सिखों के बीच हुए विवाद के बाद बिगड़ते हालात अब नियंत्रण में आ गए हैं। वीरवार को शहर में कर्फ्यू पूरी तरह हटा लिए जाने के बाद जिला प्रशासन ने लोगों में कानून व्यवस्था को लेकर विश्वास बहाल करने के उद्देश्य से शुक्रवार को उपायुक्त डा. जे. गणेसन के नेतृत्व में एक हजार सशस्त्र जवानों ने शहर में फ्लैग मार्च किया। जिला प्रशासन ने फ्लैग मार्च के जरिए यह संदेश भी दिया कि किसी भी व्यक्ति को कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जाएगी और शरारती तत्वों से सख्ती से निपटा जाएगा। फ्लैग मार्च के दौरान शहर के सभी बाजार खुले रहे और आम आदमी रोजमर्रा की तरह अपने काम में व्यस्त नजर आए।
शुक्रवार को फलैग मार्च में उपायुक्त डा. जे. गणेसन के अलावा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा. राजश्री सिंह, अतिरिक्त उपायुक्त शिवप्रसाद शर्मा, नगराधीश सतीश कुमार, उपमंडल अधिकारी अमरजीत सिंह सहित पांच डीएसपी व अन्य प्रशासनिक व पुलिस अधिकारी भी शामिल थे। मार्च में रैपिड एक्शन फोर्स सहित 30 कंपनियां शामिल हुईं जिनमें से 26 कंपनियां हरियाणा पुलिस, हरियाणा आर्म्ड पुलिस और रैपिड एक्शन फोर्स की चार कंपनियां थी। फ्लैग मार्च पुलिस लाइन से शुरू होकर बरनाला रोड, अंबेडकर चौक, परशुराम चौक, हिसारिया बाजार, सूरतगढ़िया चौक, घंटाघर चौक सिटी थाना रोड, सरकूलर रोड, शाह सतनाम चौक, बेगू रोड से होते हुए बेगू व बाजेकां गांव होते हुए बाजेकां चौक, हुडा चौक, बस अड्डा होते हुए पुलिस लाइन पहुंचा।
तीन दिसंबर से खुलेंगे शिक्षण संस्थान
उपायुक्त डा. जे. गणेसन ने शुक्रवार को अंबेडकर चौक पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान बताया कि पूरे जिले में शांति का संदेश देने के लिए ही फ्लैग मार्च किया गया है। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन लोगों की सुरक्षा के लिए पूरी तरह मुस्तैद है। जब तक फ्लैग मार्च व इस प्रकार के अभ्यास की जरूरत समझी जाएगी तब तक ये प्रक्रिया जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि जिले में धारा 144 लागू है और पूरे शहर में पुलिस की गश्त जारी रखी गई है। उन्होंने कहा कि प्रशासन व जिला पुलिस के अधिकारी स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। जिले में पहले से स्थापित पुलिस नाक ों पर वाहनों की चैकिंग की जा रही है ताकि कोई भी असामाजिक तत्व शहर में न आने पाए। उन्होंने कहा कि शहर पूरी तरह सामान्य स्थिति में है इसलिए अब तीन दिसंबर को जिले की सभी शिक्षण संस्थाएं खोलने का फैसला लिया गया है।
अधिकारियों को मुख्यालय न छोड़ने का निर्देश
उपायुक्त ने सभी उपमंडलाधीशों, तहसीलदार, खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी के लिए निर्देश जारी किए हैं कि वे अपने मुख्यालय पर रहें और पुलिस थानों के साथ संपर्क कर अपने-अपने क्षेत्र पर नजर रखकर सूचना एकत्रित करें। उन्होंने सभी उपमंडलाधीशों से कहा है कि वे प्रतिदिन की रिपोर्ट सायंकाल तक जिला मुख्यालय पर भिजवाने को भी कहा है।
पुलिस हर स्थिति से निपटने में सक्षम : एसएसपी
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा. राजश्री सिंह ने कहा है कि हमारे पास पर्याप्त संख्या में पुलिस बल है और हर प्रकार की स्थिति से निपटने में सक्षम हैं। जिले में कानून व्यवस्था और शांति बरकरार है फिर भी पुलिस हर प्रकार की स्थिति पर नजर रखे हुए है। उन्होंने आम लोगों को आश्वासन दिया कि पुलिस हर तरह की सुरक्षा प्रदान करेगी।

Spotlight

Most Read

National

2019 में कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव नहीं लड़ेगी CPM

महासचिव सीताराम येचुरी की ओर से पेश मसौदे में भाजपा के खिलाफ लड़ाई में कांग्रेस समेत तमाम धर्मनिरपेक्ष दलों को साथ लेकर एक वाम लोकतांत्रिक मोर्चा बनाने की बात कही गई थी।

22 जनवरी 2018

Related Videos

हिमाचल चुनाव में सबसे अमीर उम्मीदवार ने डेब्यू चुनाव में ही दर्ज की बड़ी जीत

हिमाचल प्रदेश में बीजेपी ने पूर्ण बहुमत से सत्ता में वापसी की। वहीं कांग्रेस को प्रदेश में बुरी पराजय मिली है। बीजेपी और नरेंद्र मोदी की लहर में भी वीरभद्र सिंह के बेटे विक्रमादित्य ने बड़ी जीत हासिल की है।

18 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper