लंगर का बासी खाना खाने से 250 लोग बीमार

Hisar Updated Mon, 27 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
फतेहाबाद। गांव बादलगढ़ में धार्मिक अनुष्ठान में लंगर खाने से शनिवार रात को 250 लोगाें की तबीयत खराब हो गई। अधिकतर लोगाें को दवा के बाद उपस्वास्थ्य केंद्र से छुट्टी दे दी गई है। 10-15 लोग गांव के उपस्वास्थ्य केंद्र में भर्ती है जबकि अनेक लोग अन्य जगह से इलाज करवा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग की चार टीम घर-घर जाकर लोगाें का उपचार कर रही है। रविवार दोपहर को एसडीएम एचसी भाटिया ने गांव का दौरा कर लोगाें का हालचाल जाना। वहीं शुक्रवार को लंगर के बाद गांव वालों ने बचा खाना गांव बबनपुर की श्रीकृष्ण गोशाला में डाल दिया था। जहां पर 17 गायाें की मौत हो गई थी।
जानकारी के अनुसार गांव बादलगढ़ में जनवरी से लगातार आकस्मिक मौत हो रही हैं। ग्रामीणाें ने संतों के कहने पर बुधवार को गांव के राजकीय मिडिल विद्यालय में श्री गुरु ग्रंथ साहिब का पाठ रखवाया था। शुक्रवार को अखंड पाठ का भोग डाला गया था। इसके बाद गांव के राजकीय मिडिल विद्यालय में लंगर चलाया गया था। लंगर में दाल, रोटी और हलवा बनाया गया था। इस लंगर में गांव बादलगढ़ और आसपास के गांवाें के सैकड़ाें लोगों ने भोजन खाया था। बचा हुआ खाना शुक्रवार शाम को गांव में बांट दिया गया और गोशाला में भी डाल दिया। शनिवार रात ग्रामीणों को उल्टी-दस्त की शिकायत हुई और एक-एक कर ग्रामीण गांव के उपस्वास्थ्य केंद्र में पहुंचने लगे। अस्पताल में स्टाफ नर्स परमजीत कौर और गुरमीत कौर ने मरीजाें की संख्या में इजाफा होते देख रतिया सिविल अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी वीके जैन को सूचना दी। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने चिकित्सकाें की चार टीमाें को गांव में भेजा। टीम में डा. वीके जैन, डा. दीपक शर्मा, डा. साक्षी, डा. डोली, नर्स कमल कौर और रजनीश कौर को शामिल किया गया है। हालत गंभीर होने पर मलकीत कौर (35), मीतो बाई (30), हरप्रीत (43), जसवंत (32), निशा (13), किरणप्रीत (10), संतरो बाई (60), परमजीत कौर (65), सुखचैन (28) और रानी (22) को अस्पताल में भर्ती किया गया है जबकि दो साल के संदीप पुत्र जोगेन्द्र और 75 साल के बुजुर्ग सीराराम को चिकित्सकाें ने फतेहाबाद के सिविल अस्पताल में रेफर किया है। डा. दीपक शर्मा ने बताया कि ग्रामीणाें ने बासी भोजन खाया था जिसके बाद उनकी तबीयत खराब हुई थी। रविवार को एसडीएम एचसी भाटिया ने गांव जाकर घायलों का हालचाल जाना।

क्या है मामला
गांव बादलगढ़ में पिछले छह महीनाें के दौरान 30 से अधिक लोग काल का ग्रास बने हैं। गांव में दहशत इस कदर फैल गई थी कि बच्चाें ने स्कूल जाना बंद कर दिया था। गांव के लोग इसे ईश्वर का कहर बता रहे थे। इसी को लेकर 15 अगस्त को गांव की पंचायत पंजाब के गांव बच्छुआना में संताें से मिले थे। इन संताें की क्षेत्र में काफी मान्यता है। संताें के कहने पर ग्रामीणाें ने गांव में धार्मिक कार्यक्रम शुरू करवाया। सरपंच अजायब सिंह, शृंगारा सिंह, जसपाल, बलदेव सिंह और दारा सिंह ने बताया कि बुधवार को अखंड पाठ रखवाया गया था और शुक्रवार को इसका भोग डाला गया। भोग के बाद लंगर चलाया गया। ग्रामीणाें ने स्वास्थ्य कामना और शांति के लिए अखंड पाठ रखवाया गया था लेकिन लंगर खाने से गायों के मरने और ग्रामीणों के बीमार होने से गांव वासियों का डर पुख्ता होता जा रहा है। गांववासियाें का मानना है कि शायद उनसे कोई गलती हुई है। गांव के दारा सिंह, नक्षतर सिंह, लखविन्द्र सिंह और बाबा सिंह ने बताया कि लगातार हो रही मौताें से ग्रामीण खासकर महिलाएं दहशत में हैं। गांव में प्राकृतिक प्रकोप से बचने व शांति बरकरार रखने के लिए ग्रामीणाें ने लंगर चलाया था। अब लंगर के बाद भी फिर से लोगाें में बेचैनी है।

कोट
बासी खाने से बिगड़ी हालत
हमारे पास 250 लोगों की ओपीडी आई है जिसमें 190 की हालत खराब है। इन्होंने बासी खाना खाया जो दूषित हो गया था। गांव में घर-घर जाकर टीम लोगों को दवाई दे रही है। बादलगढ़ के स्वास्थ्य केंद्र में 10, रतिया में 2 और फतेहाबाद में तीन लोग गंभीर हैं।
डा. वीके जैन, एसएमओ, रतिया


बबनपुर में एक और गाय की मौत
गांव बबनपुर की गोशाला में बासी खाना खाने से रविवार को एक और गाय की मौत हो गई। अब तक 17 गायाें की मौत हो चुकी है। गायाें ने बादलगढ़ में बने भोजन को खाया था जिससे उनकी तबीयत खराब हुई। चिकित्सकाें ने गायाें के मरने का कारण फूड प्वायजनिंग बताया है। शनिवार शाम को बासी भोजन खाने से 16 गायाें की मौत हो गई थी। रविवार को एक और गाय की मौत हो गई। सूचना मिलने पर पशु चिकित्सक ओमप्रकाश गेरा भी मौके पर पहुंचे और पशुआें का इलाज शुरू किया।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Chandigarh

अपने ही दो भाइयों, दो बहनों समेत 7 लोगों को मारने वाली पर नहीं कर सकते रहम: हाईकोर्ट

अपने ही दो भाइयों, दो बहनों और दादी समेत सात लोगों की हत्या करने वाली पर रहम नहीं किया जा सकता। उसकी और उसके प्रेमी की मौत की सजा बरकरार रहेगी।

18 जुलाई 2018

Related Videos

VIDEO: इस छात्रा को दिया गया अतुल माहेश्वरी पत्रकारिता स्वर्ण पदक

मंगलवार को हिसार की गुरु जंभेश्वर यूनिवर्सिटी में में पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग की छात्रा मूर्ति दलाल को अमर उजाला के नवोन्मेषक अतुल माहेश्वरी पत्रकारिता स्वर्ण पदक प्रदान किया गया।

18 अप्रैल 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen