दोहरे हत्याकांड में अहम सुराग हाथ लगने का दावा

Gurgaon Updated Mon, 26 Nov 2012 12:00 PM IST
गुड़गांव। सेक्टर-10 इलाके में एंबुलेंस मालिक और चालक की हत्या के मामले की जांच कर रही सीआईए स्पेशल सेल के हाथ अहम सुराग लगने का दावा किया जा रहा है। मोबाइल डिटेल के आधार पर छानबीन के बाद पुलिस की एक टीम उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ क्षेत्र में छापेमारी कर रही है।
पोस्टमार्टम हाउस में एंबुलेंस चलवाने वाले बिजेंद्र पुत्र नारायण और उसके चालक राजेंद्र की हत्या के मामले की जांच कर रही सीआईए स्पेशल सेल की टीम के हाथ अहम सुराग लगे हैं। दोनों के मोबाइल डिटेल के आधार पर अलीगढ़ के रहने वाले एक पुराने चालक पर पुलिस का शक गहराता जा रहा है। दो माह पहले उक्त चालक से एंबुलेंस दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी। इसकी मरम्मत में 12 हजार रुपये खर्च हुए थे। यह पैसा उसी से वसूला गया था। इसका चालक ने विरोध किया और नौकरी छोड़ दी थी। हत्या के पहले से ही उसका रुख वाहन मालिक के प्रति ठीक नहीं था। पुलिस को उसके मोबाइल बंद होने और फरार होने से उस पर हत्या का शक गहराता जा रहा है। सेक्टर-10 थाना प्रभारी का कहना है कि हत्या की जांच चल रही है। पुलिस दोनों के मोबाइल डिटेल के आधार पर एक दर्जन से अधिक लोगों से पूछताछ कर चुकी है। गौरतलब है कि 23 नवंबर की रात को अज्ञात बदमाशों ने दो लोगों की हत्या कर शव उनकी ही एंबुलेंस में रखकर सेक्टर-10 में सुनसान स्थान पर छोड़ गए थे। उधर, पुलिस को छानबीन के दौरान पता चला है कि जिस रात बिजेंद्र और राजेंद्र की हत्या हुई थी, उस रात 11 बजे तक पुराना चालक एक अन्य एंबुलेंस मालिक और चालकों के साथ बैठा था। इन सभी ने मिलकर पार्टी भी की थी। इसके बाद दोनों अपने-अपने घर चले गए थे।
एंबुलेंस चालकों की हड़ताल जारी
गुड़गांव। सेक्टर दस में एंबुलेंस मालिक और चालक की हत्या के मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर हड़ताल पर गए निजी एंबुलेंस चालक रविवार को भी काम पर नहीं लौटे। हड़ताल के चलते विशेषकर निजी अस्पतालों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ा।
गुड़गांव एंबुलेंस एसोसिएशन के प्रधान विपिन कुमार ने बताया कि पुलिस एक संदिग्ध के ठिकाने तक पहुंच चुकी है, लेकिन यह तय किया गया है कि जब तक मामले का पूरी तरह से पर्दाफाश नहीं होता, तब तक हड़ताल जारी रखी जाए। एंबुलेंस चालकों की हड़ताल के चलते शव ढोने का काम भी नहीं किया गया। हालांकि रोड साइड एक्सीडेंट में एंबुलेंस सेवा उपलब्ध कराई जा रही है, लेकिन रेफरल सिस्टम का पूरी तरह से बहिष्कार किया गया है। उन्होंने दावा किया कि इस हड़ताल में 200 से ज्यादा निजी एंबुलेंस चालक हिस्सा ले रहे हैं। हालांकि बड़े अस्पतालों पर हड़ताल का असर नहीं है, लेकिन छोटे अस्पताल केवल निजी एंबुलेंस पर ही निर्भर हैं।
अन्य जिलों से पहुंचे एंबुलेंस चालक
गुड़गांव के निजी एंबुलेंस चालकों की हड़ताल का फायदा उठाने के लिए अन्य जिलों से एंबुलेंस चालक यहां पहुंचने शुरू हो गए हैं। सिविल अस्पताल से कुछ दूरी पर रोहतक से आई दो एंबुलेंस खड़ी मिलीं। यह दोनों एंबुलेंस इसलिए आई थीं ताकि शव ले जाना हो तो मनमाना किराया वसूला जा सके।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

गुरुग्राम में धारा 144 लागू, ‘पद्मावत’ देखने जाने से पहले रखें इन बातों का ध्यान

फिल्म 'पद्मावत' की रिलीज को लेकर हो रहे हिंसक प्रदर्शन और विवाद को देखते हुए गुरुग्राम में धारा 144 लगा दी गई है।

24 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls