पानी को लेकर कैदियों में झगड़ा, एक घायल

Gurgaon Updated Thu, 15 Nov 2012 12:00 PM IST
गुड़गांव। भोंडसी जिला जेल में पानी को लेकर कैदियाें के दो गुटों में हुए झगड़े में एक गंभीर रूप से घायल हो गया। जेल के अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है। भोंडसी पुलिस ने घायल कैदी के बयान पर मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।
भोंडसी थाना पुलिस का कहना है कि जेल में लूट की सजा काट रहा मवाना मेरठ का भरगूब हुसैन सोमवार दोपहर बारह बजे के करीब अपने तेरह नंबर बैरक से पानी लेने बाहर आया था। पानी को लेकर उसका वहां कुछ विचाराधीन कैदियों से झगड़ा हो गया। इस दौरान हत्या के आरोप में बंद सोनू, रजित राम, अनिल, बलजीत वहां आ गए। उन्हाेंने भरगूब को खूब पीटा। उन्हाेंने परिसर में लगे पेड़ की टहनियां तोड़कर उसके सिर पर वार कर दिया।
घटना की जानकारी के बाद जेल प्रशासन के लोग मौके पर पहुंच गए। घायलावस्था में भरगूब को जेल के अस्पताल में दाखिल कराया गया। भोंडसी थाना पुलिस ने मंगलवार को घायल कैदी के बयान पर उक्त चारों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया। डीसीपी साउथ महेश्वर दयाल के अनुसार, पुलिस मामला दर्ज कर छानबीन कर रही है।
जेल में छापा, मोबाइल बरामद
जेल के भीतर दो गुटों में मारपीट के बाद जेल प्रशासन ने सोमवार रात बैरकों को खंगाल डाला। इस दौरान डिप्टी जेलर रमेश कुमार को रोहित कालिया निवासी रेवाड़ी के बैरक से मोबाइल व चार्जर मिला। भोंडसी थाना पुलिस ने जेल मैनुअल एक्ट के उल्लंघन का मामला दर्ज किया है।
जांच में पता चलेगा कहां हुई चूक

जेल अधीक्षक ने दिया जांच का आदेश
वार्डन क्या कर रहे थे, स्पष्टीकरण मांगा

मयंक तिवारी
गुड़गांव। जेल की सुरक्षा में कहां चूक हुई, इस बात का पता लगाने के लिए जेल अधीक्षक ने मारपीट की घटना की विभागीय जांच का आदेश दिया है। जिस बैरक के पास मारपीट हुई, वहां पर तैनात वार्डन क्या कर रहे थे, उनसे स्पष्टीकरण मांगा गया है।
जेल के भीतर पानी भरने को लेकर हुई मारपीट की घटना के बाद जेल अधीक्षक हरेंद्र सिंह ने विभागीय जांच का आदेश दिया है। इसमें यह जानने का प्रयास किया जा रहा है कि बैरक नंबर 13 के पास जब मारपीट हुई, तो उस प्वाइंट पर किसकी ड्यूटी थी। भरगूब हुसैन से मारपीट का मुख्य कारण क्या था, क्या इसके पहले भी किसी तरह का विवाद था। अगर विवाद था तो उसमें जेल प्रशासन की ओर से क्या किया गया था। अगर नहीं था तो अचानक इतनी भयावह स्थित कैसे आई।
जेल अधीक्षक ने बताया कि पुलिस मामला दर्ज कर छानबीन कर रही है। उसके साथ ही उन्होंने पैरलल जांच खोल दी है, जिसमें असलियत जानने का प्रयास किया जा रहा है। अब तक की जानकारी के अनुसार, भरगूब हुसैन की ओर से भी आपत्तिजनक शब्द बोले गए थे, जिसके चलते विवाद शुरू हुआ था। जेल मैनुअल के हिसाब से किसी भी बंदी को अगर किसी तरह की परेशानी है, तो वह उसे जेल प्रबंधन तक पहुंचा सकता है। कैदियों को अपने लिए वकील करने का अधिकार है। एक वकील रोज जेल परिसर में आकर बैठता है। जिस कैदी की ओर से कोई कार्रवाई नहीं करने वाला होता है, तो वह उनसे मदद लेता है। ऐसे में अगर दोनों पक्षों के बीच किसी बात को लेकर विवाद था, तो वह वरिष्ठ अधिकारियों के संज्ञान में क्यों नहीं था।




Spotlight

Most Read

Kotdwar

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की टीम ने डाला कण्वाश्रम में डेरा

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की टीम ने डाला कण्वाश्रम में डेरा

19 जनवरी 2018

Related Videos

गुरुग्राम: SPA की आड़ में चल रहे जिस्मफरोशी के धंधे का पर्दाफाश

हरियाणा के गुरुग्राम में स्पा सेंटर की आड़ में चल रहे देहव्यापार के गोरखधंधे का पुलिस ने भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने गुरुग्राम के सेक्टर-5 इलाके में चल रहे स्पा सेंटर में छापेमारी करके 6 लड़कियों और 2 लड़कों को गिरफ्तार किया है।

10 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper