रिसाइकिल टायल से बनेगा सपनों का आशियाना

Gurgaon Updated Sat, 25 Aug 2012 12:00 PM IST
गुड़गांव। गुड़गांव में बिल्डिंग वेस्ट को उपयोग कर टायल बनाए जाएंगे। इन टायल को मकान बनाने के लिए दोबारा से उपयोग किया जाएगा। बिल्डिंग वेस्ट मैटीरियल के रिसाइकलिंग के बंधवाड़ी एरिया में प्लांट लगाया जाएगा। यह प्रोजेक्ट पब्लिक-प्राइवेट-पार्टनरशिप के आधार पर होगा।
भवनों के प्र्रयोग के बाद बचने वाली बेकार सामग्री का अब दोबारा से उपयोग किया जाएगा। इसके लिए नगर निगम की ओर से एक प्लांट लगाने का फैसला लिया गया है। यह प्लांट पब्लिक-प्राइवेट-पार्टनरशिप पर लगाया जाएगा। इसमें निगम की ओर से जमीन दी जाएगी। कंपनी को निगम एक तय समय के लिए जमीन लीज पर देगा। इसमें कम से कम 33 साल की लीज रहेगी। प्लांट पर मशीनरी लगाने का पूरा खर्च कंपनी वहन करेगी। निगम की ओर से भवन निर्माण से निकला कचरा यहां डाला जाएगा। इसके बाद कंपनी इस वेस्ट को अलग-अलग निकालेगी। रोड़ी, बजरी, ईंट, पत्थर, कंकरीट के टुकड़ों को निकाला जाएगा। कंपनी इन वेस्ट में कुछ सीमेंट मिलाकर इंटर लाकिंग टायल, टायल व ईंट का निर्माण करेगी। जिससे इनका कई स्थानों पर उपयोग किया जा सकेगा।

200 टन वेस्ट मैटीरियल रिसाइकिल होगा
बंधवाड़ी गांव के पास निगम की पहाड़ी एरिया में करीब 20 एकड़ जमीन उपलब्ध है। इसमें से करीब 2 एकड़ जमीन इस प्लांट के लिए दी जाएगी। जानकारी के मुताबिक, कंपनी निगम को बिल्डिंग वेस्ट डोर टू डोर की सुविधा भी देगी। इसके बदले कंपनी एक शुल्क लेगी। इस प्लांट में प्रतिदिन 200 टन कंस्ट्रक्शन वेस्ट को रिसाइकिल किया जा सकेगा। निगम की ओर से इस प्लांट के लिए प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। कंपनी एक साल के तय समय में इस प्लांट का निर्माण पूरा कर लेगी। निगम को रियायती दर एक रुपये प्रति टायल के हिसाब से टायल मिलेंगे।

देश का दूसरा प्लांट होगा
गुड़गांव में लगने वाला यह प्लांट देश का दूसरा प्लांट होगा। इससे पहले दिल्ली के गाजीपुर में यह प्लांट लगाया गया है। जिसमें बिल्डिंग वेस्ट को रिसाइकिल किया जाता है। इसकी क्षमता 500 टन प्रतिदिन की है। यह प्लांट 20 एकड़ एरिया में लगाया गया है।

मलबे का निपटान नहीं
नगर निगम की ओर से भवन का मैप पास करते समय मलबा फीस ली जाती है। जिसके बदले निगम को भवन निर्माण के बाद वहां बचे वेस्ट मैटीरियल को उठाना होता है। निगम की ओर से अभी तक कहीं से भी मलबा नहीं उठाया जा रहा।

शहर बनेगा सुंदर
नगर निगम एरिया में जगह-जगह बिल्डिंग वेस्ट पड़ा नजर आ जाता है। इसका किसी तरह का उपयोग नहीं होता। यह वेस्ट जगह को घेरने के साथ सुंदरता को भी समाप्त करता है। नए प्लांट के बाद वेस्ट का उपयोग होने के साथ शहर को सुंदर बनाने में भी मदद मिलेगी।

जल्द लिया जाएगा फैसला
नगर निगम के मुख्य अभियंता बीएस सिंगरोहा ने बताया कि निजी कंपनी की ओर से यह प्रस्ताव मिला है। इस पर निगम ने टेंडर की प्रक्रिया को अपनाने का फैसला लिया है। जल्द ही टेंडर काल कर लिए जाएंगे। सबसे बेहतर सुविधा देने वाली कंपनी को काम सौंपा जाएगा।

इस वेस्ट की होगी रिसाइकिलिंर्ग
इंट, रोड़े, कंकर, पत्थर, बजरी, टूटे टायल, लेंटर का वेस्ट, कंकरीट सड़क का वेस्ट

निगम एरिया में कुल 450 टन कचरा
- 2011 में प्रतिदिन 100 टन कंस्ट्रक्शन वेस्ट
- 2015 तक 140 टन प्रतिदिन कचरा होगा
- नए शहर से सबसे अधिक वेस्ट
- प्लांट के लिए 6 मेगावाट बिजली की जरूरत
- प्लांट पर करीब 150 करोड़ का खर्च
- प्लांट के लिए दो एकड़ जमीन की जरूरत
- प्लांट पर करीब 40 कर्मचारी नियुक्त होंगे

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Meerut

चालान काटने पर महिला कांस्टेबलों पर भड़के भाजपाई

चालान काटने पर महिला कांस्टेबलों पर भड़के भाजपाई

18 फरवरी 2018

Related Videos

CCTV: गुरुग्राम में फोन पर बात ना करने देने पर युवक का कर दिया ये हाल

फोन पर बात करने से मना करने पर एक युवक को बुरी तरह से पीटा गया। यही नहीं इस दौरान आरोपियों ने उसके साथियों पर भी हमला किया। पूरी वारदात सीसीटीवी में कैद हो गई। घटना हरियाणा के गुरुग्राम की है।

16 फरवरी 2018

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen