राजेंद्र बाबू ने रामलीला के लिए दिए थे हजार रुपये

Faridabad Updated Sat, 13 Oct 2012 12:00 PM IST
फरीदाबाद। प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने न सिर्फ पाकिस्तान से आए शरणार्थियों को यहां बसाया बल्कि उनके विकास एवं सांस्कृतिक पुनर्वास में भी अपना योगदान दिया था।
पाकिस्तान से विभाजन का दंश झेलकर यहां पहुंचे हिंदुओं को पंडित जवाहरलाल नेहरू एवं बादशाह खान द्वारा बसाने के बाद डॉ. राजेंद्र प्रसाद फरीदाबाद विकास बोर्ड के पहले अध्यक्ष बने। पाकिस्तान से आए हिंदुओं में से कुछ लोगों ने जब राजेंद्र बाबू से रामलीला करने की बात बताई तो वह सहयोग के लिए तैयार हो गए। उन्होंने सहयोग के रूप में एक हजार रुपये और ढेर सारा हौसला दिया।
विजय रामलीला कमेटी के चेयरमैन विश्वबंधु शर्मा ने ‘अमर उजाला’ से यह बात साझा की। शर्मा कहते हैं कि उस वक्त यह रकम बहुत बड़ी थी और उससे भी बड़ी बात राजेंद्र बाबू जैसे राष्ट्रपति द्वारा सहयोग करने की थी। उसी से रामलीला का शुभारंभ हुआ और सिलसिला अब तक जारी है। शर्मा बताते हैं कि संस्कृति को जिंदा रखने में राजेंद्र बाबू ने 62 साल पहले पूरा साथ दिया। इसलिए वे हर बार मंच से यह बात जरूर किसी न किसी मौके पर बताते हैं।

राजकीय प्रेस के कर्मियों ने शुरू कराई थी लीला
शिव मंदिर रामलीला कमेटी द्वारा प्रेस कॉलोनी में 1972 में रामलीला की शुरूआत की गई थी। इसकी शुरुआत उस समय राजकीय प्रेस में काम करने वाले शिवचरण लाल शर्मा, स्व. शिवपाल एवं मनमोहन ने करवाई थी। किन्हीं कारणों से 2007 से 10 तक यहां पर लीला नहीं हुई। इसी दौरान इसे शुरू करवाने वाले शिवचरण लाल शर्मा मंत्री बन गए और उनके सहयोग से रामलीला एक बार फिर शुरू हो गई।

सेक्टर 15 में पलवल वालों ने कराई शुरुआत
सेक्टर-15 की श्रद्धा रामलीला कमेटी की शुरुआत 2008 में हुई। यहां पलवल के कलाकारों ने शुरुआत कराई। पलवल के जवाहर नगर कैंप में लगभग दो दशक से रामलीला कर रहे कुछ परिवार कारोबार एवं जॉब के सिलसिले में यहां शिफ्ट हुए। जिनमें कुलभूषण बाली, राजकुमार ढींगड़ा, नरेंद्र छाबड़ा एवं अनिल चावला प्रमुख हैं। इन लोगों ने स्थानीय लोगों के साथ मिलकर रामलीला का मंचन करने की इच्छा जताई। फिर भला राम जी की लीला के लिए कौन मना करता। यूं ही कारवां बढ़ता गया।

पिछले साल अमर उजाला पुरस्कार प्राप्त करने वाले
---------------------------------

प्रेस कॉलोनी रामलीला
नाम--विजय कुमार डोगरा(श्रीराम की भूमिका)
निवास--158, सेक्टर-23 फरीदाबाद
शिक्षा--11वीं के बाद राजकीय प्रेस से डिप्लोमा
कार्य--टेक्सटाइल बिजनेस(सोहना रोड़)
उम्र--50 वर्ष
---------

सेक्टर 15 रामलीला
तान्या भाटिया (सीता जी की भूमिका)
उम्र 20 वर्ष
डीयू से बीकॉम
दिल्ली कॉलेज ऑफ आर्ट एंड कॉमर्स से लैंग्वेज कोर्स।
------------

एनएच-एक की रामलीला
सौरभ कुमार (लक्ष्मण जी की भूमिका)
सॉफ्टवेयर इंजीनियर
निजी कंप्यूटर इंस्टीट्यूट के मालिक
उम्र 25 वर्ष
14 वर्ष से रामलीला में सक्रिय, 6 वर्ष तक सीता की भी भूमिका
-----------------

सेक्टर-15 की रामलीला
श्रवण चावला (रावण की भूमिका)
उम्र 35 वर्ष
शिक्षा पलवल कॉलेज से स्नातक
व्यवसाय क्राउन प्लॉजा में कपड़ों के शोरूम
पिछले कई वर्षों से रामलीला में परशुराम एवं रावण की भूमिका।
--------------

सेक्टर-37 की रामलीला
उत्कृष्ट पुरस्कार
------------

विश्व बंधु शर्मा (गीत-संगीत) :
-1967 से रामायण को जी रहे हैं। मशहूर संगीतकार लक्ष्मीकांत, ललित सेन-दिलीप सेन एवं नौशाद से संगीत की शिक्षा ग्रहण करने वाले विश्व बंधु शर्मा पहले राम, फिर सीता की भूमिकाएं निभाने के बाद आजकल निर्देशन कर रहे हैं। गंधर्व महाविद्यालय दिल्ली से सात वर्ष तक संगीत की शिक्षा लेने वाले इसके निर्देशक विश्वबंधु शर्मा ने खुद परिस्थितियों के मुताबिक लाइनों को लिखकर और कंपोज करके उसे इसमें शामिल किया है। इन्हें पिछले वर्ष अमर उजाला द्वारा रामलीला के बेस्ट म्यूजिशियन के अवार्ड से नवाजा गया था।

ब्रज लाल चौहान (स्क्रिप्ट का पुरस्कार) :
ब्रजलाल चौहान बचपन से राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से जुड़े रहे। उनके पिता मंगलीराम के ड्रामेटिक क्लब से जुड़े रहने के कारण इन्हें एक्टिंग का शौक चढ़ा। 12वीं पास एक निजी कंपनी में 10 वर्ष तक सुपरवाइजरी करने वाले ब्रज लाल के भाई प्रेमचंद चौहान रामलीला में सहायक निर्देशक रहे। ब्रजलाल ने 1976 में पहली बार लक्ष्मण का किरदार निभाया। उसके बाद हनुमान, दशरथ की भूमिका भी निभाई। रामलीला के पूर्व निर्देशक नानकचंद के साथ सहायक की भूमिका निभाई। इस समय प्रेस कॉलोनी की रामलीला में स्क्रिप्ट राइटर हैं।

Spotlight

Most Read

National

पाकिस्तान की तबाही के दो वीडियो जारी, तेल डिपो समेत हथियार भंडार नेस्तनाबूद

सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने पाकिस्तानी गोलाबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया है। भारत के जवाबी हमले में पाकिस्तान की कई फायरिंग पोजिशन, आयुध भंडार और फ्यूल डिपो को बीएसएफ ने उड़ा दिया है।

23 जनवरी 2018

Related Videos

हरियाणा के उद्योग मंत्री ने प्रधानमंत्री राहत कोष के लिए इस तरह जुटाए 2.5 करोड़

हरियाणा के उद्योग मंत्री विपुल गोयल द्वारा फरीदाबाद स्थित सूरजकुंड के सिल्वर जुबली हॉल में उपहारों की प्रदर्शनी लगाई। उपहारों की इस प्रदर्शनी के जरिए पीएम राहत कोष के लिए 2.5 करोड़ की धन राशि जुटाई गई।

15 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper