किडनी कांड में सुर्खियों में रहा है फरीदाबाद

Faridabad Updated Wed, 10 Oct 2012 12:00 PM IST
फरीदाबाद। किडनी कांड को लेकर गुड़गांव के साथ फरीदाबाद पहले भी सुर्खियों में रहा है। उस प्रकरण में तीन विदेशी नागरिकों की गैर इरादतन हत्या के मामले में फरीदाबाद की अदालत ने गुड़गांव किडनी कांड के मुख्य अभियुक्त डॉ. अमित, फरीदाबाद के डॉ. उपेंद्र और उनके अस्पताल के मैनेजर को इसी साल फरवरी में सजा सुनाई थी। गुड़गांव के पालम विहार के सेक्टर- 23 में डॉ. अमित ने कोठी में किडनी निकालने के लिए ऑपरेशन थिएटर बना रखा था।
गौरतलब है कि 2003, 2004 और 2005 में गुड़गांव में डॉ. अमित के अस्पताल में किडनी प्रत्यारोपण के दौरान तीन तुर्की नागरिकों इश्मत गुन्नर, अहमद इल्दर और महमत बेजत की मौत हो गई थी। डॉ. अमित ने तीनों शवों को झाड़सेंतली रेलवे फ्लाईओवर के नजदीक संजय कॉलोनी स्थित सद्भावना अस्पताल के संचालक डॉ. उपेंद्र की मदद से उनकी मौत हार्ट अटैक से दिखाते हुए तुर्की भिजवा दिया था।
2008 में गुड़गांव में किडनी रैकेट का खुलासा होने के बाद फरीदाबाद के तत्कालीन एसएसपी आलोक मित्तल ने इस मामले की जांच तत्कालीन एसीपी क्राइम विजय प्रताप सिंह को सौंप दी थी। जांच में पता चला कि डॉ. उपेंद्र ने डॉ. अमित द्वारा तुर्की के नागरिकों के शवों के बारे में बल्लभगढ़ थाना पुलिस से कहा था कि वो सैलानी थे। जो दिल्ली से आगरा जा रहे थे पर रास्ते में दिल का दौरा पड़ने की वजह से इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई थी। पुलिस की रोजनामचा रिपोर्ट के आधार पर तीनों के शव बिना किसी परेशानी के तुर्की पहुंचा दिए गए थे।
एसीपी क्राइम ने सद्भावना अस्पताल द्वारा बल्लभगढ़ शहर थाना को दी गई सूचना के आधार पर इस मामले को गैर इरादतन हत्या का माना। इसी आधार पर संबंधित आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया, जिसका फैसला 28 फरवरी को आया था।
अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश ऋतु वाईके बहल की अदालत ने तीन तुर्की नागरिकों की गैर इरादतन हत्या के मामले में नामजद आरोपी डॉक्टरों अमित, उपेंद्र और उसके अस्पताल के रिकॉर्ड कीपर व मैनेजर जसवंत को दोषी मानते हुए 10-10 साल के कारावास की सजा सुनाई थी। अमित और उपेंद्र पर 10-10 लाख रुपये का जुर्माना और जसवंत पर 11 लाख का जुर्माना भी लगाया था। एक और आरोपी डॉ. जीवन (डॉ. अमित का भाई) को बरी कर दिया था।
पुलिस का कहना था कि डॉ. उपेंद्र दिल का डॉक्टर नहीं था, फिर भी उसने तुर्की के नागरिकों को अस्पताल में भर्ती किया और उन्हें उपचार के लिए किसी दूसरे अस्पताल रेफर नहीं किया। अस्पताल के रिकॉर्ड कीपर एवं डॉ. उपेंद्र के मैनेजर जसवंत ने फर्जी रिकॉर्ड बनाया। डॉ. अमित और उसके भाई ने तीनों के शवों की एंबाल्मिंग करवाकर तुर्की भिजवा दिया था।

Spotlight

Most Read

National

पाकिस्तान की तबाही के दो वीडियो जारी, तेल डिपो समेत हथियार भंडार नेस्तनाबूद

सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने पाकिस्तानी गोलाबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया है। भारत के जवाबी हमले में पाकिस्तान की कई फायरिंग पोजिशन, आयुध भंडार और फ्यूल डिपो को बीएसएफ ने उड़ा दिया है।

23 जनवरी 2018

Related Videos

हरियाणा के उद्योग मंत्री ने प्रधानमंत्री राहत कोष के लिए इस तरह जुटाए 2.5 करोड़

हरियाणा के उद्योग मंत्री विपुल गोयल द्वारा फरीदाबाद स्थित सूरजकुंड के सिल्वर जुबली हॉल में उपहारों की प्रदर्शनी लगाई। उपहारों की इस प्रदर्शनी के जरिए पीएम राहत कोष के लिए 2.5 करोड़ की धन राशि जुटाई गई।

15 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper