बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

समसपर राजकीय स्कूल की 40 वर्ष पुरानी बिल्डिंग हुई कंडम, हादसे का अंदेशा

Rohtak Bureau रोहतक ब्यूरो
Updated Thu, 01 Oct 2020 12:09 AM IST
विज्ञापन
The 40-year-old building of the state government school was damage, it is expected of the accident
The 40-year-old building of the state government school was damage, it is expected of the accident - फोटो : CharkhiDadri

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
समसपुर गांव में 40 साल पहले बने राजकीय स्कूल का भवन जर्जर हो चुका है। ग्रामीण लंबे समय से शिक्षा विभाग से भवन के पुनर्निर्माण की मांग कर रहे हैं, लेकिन अब तक यह मांग पूरी नहीं हुई है। समसपुर के ग्रामीणों की मानें तो इस स्कूल में सतीपवर्ती आधा दर्जन गांवों के बच्चे शिक्षा ग्रहण करने आते हैं और स्कूल में बच्चों की संख्या प्राइवेट से अधिक है। इसके बावजूद शिक्षा विभाग ने स्कूल का नया भवन बनाने की तरफ ध्यान नहीं दे रहा।
विज्ञापन

गांव की आबादी करीब आठ हजार है। गांव के ज्यादातर युवा सेना, एयरफोर्स और नेवी में भर्ती हैं। समसपुर गांव के अड्डे पर बना राजकीय स्कूल काफी पुराना है। इसका भवन 40 साल पहले बनाया गया था। ग्रामीणों ने बताया कि इस स्कूल में समसपुर के अलावा खातीवास, कालियावास समेत छह गांवों के बच्चे शिक्षा ग्रहण करते हैं। स्कूल का भवन काफी पुराना होने के चलते हादसों का अंदेशा बना रहता है।

ग्रामीण जयसिंह, छत्र सिंह, उत्तम यिंह, सदानंद, देवेंद्र, रामचंद्र, जयसिंह, चंद्रपाल, देवेंद्र, जसबीर आदि ने बताया कि स्कूल भवन का दोबारा निर्माण करवाने की जरूरत है। ग्राम पंचायत इस संबंध में शिक्षा विभाग के अधिकारियों से मिल चुकी है, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हुआ है।
15 साल से जर्जर है खातीवास रोड
ग्रामीणों ने बताया कि समसपुर के ग्रामीणों का सबसे अधिक आवागमन खातीवास रोड से होता है। यह सड़क पिछले 15 सालों से जर्जर पड़ी है। इसके पुन: निर्माण की दरकार है। ग्रामीण यह मांग जिला प्रशासन के समक्ष कई बार रख चुके हैं लेकिन इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा।
ये हैं गांव की मुख्य समस्याएं
- रामबाग का रास्ता कच्चा है और चाहरदीवारी भी नहीं है।
- गांव में तीन दशक पहले डालीं गईं पेयजल लाइनें जर्जर हैं।
- ग्रामीणों ने गांव में एक बूस्टिंग स्टेशन निर्माण की मांग की है।
- सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट ओवरफ्लो होने से गांव के किसान परेशान हैं।
- जलघर के स्टोरेज टैंक की तलहटी जर्जर है और चव्वा की समस्या है।
ग्रामीण बोले : जिला प्रशासन समस्याओं पर संज्ञान लेकर करवाए समाधान
- स्कूल भवन के पुन: निर्माण की जरूरत है। समसपुर के अलावा छह गांवों के बच्चे यहां शिक्षा ग्रहण करने आते हैं और अभिभावकों के जहन में हादसों का डर रहता है।
राकेश, ग्रामीण
- समसपुर-खातीवास सड़क पिछले कई सालों से जर्जर है। ग्रामीण इस सड़क के पुनर्निर्माण की जिला प्रशासन से कई बार मांग कर चुके हैं, लेकिन अब तक परवान नहीं चढ़ी है।
अरुण, ग्रामीण
- समसपुर गांव में श्मशानघाट का रास्ता जर्जर है और चाहरदीवारी भी नहीं है। बारिश के समय हालत काफी विकट बन जाते हैं। प्रशासन को गांव की समस्याओं पर संज्ञान लेकर समाधान करवाना चाहिए।
सत्यबीर, ग्रामीण
- गांव में पेयजल की समस्या पिछले चार साल से बनी हुई है। इसके अलावा खातीवास सड़क के निर्माण की भी ग्रामीण बाट जोह रहे हैं। जिला प्रशासन को समस्याओं का जल्द से जल्द समाधान करवाना चाहिए।
सुरेंद्र, पूर्व सरपंच
- संबंधित विभागों और जिला प्रशासन के समक्ष ग्राम पंचायत समस्याएं रख चुकी है। जल्द ही समस्याओं के समाधान की उम्मीद है। ग्रामीण इन समस्याओं के चलते परेशान हैं।
जगबीर सिंह, सरपंच, समसपुर

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us