विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विनायक चतुर्थी पर सिद्धिविनायक मंदिर(मुंबई ) में भगवान गणेश की पूजा से खत्म होगी पैसों की किल्लत 30-नवंबर-2019
Astrology Services

विनायक चतुर्थी पर सिद्धिविनायक मंदिर(मुंबई ) में भगवान गणेश की पूजा से खत्म होगी पैसों की किल्लत 30-नवंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

ज्ञापन देने से पहले ऑफिस से निकले डीसी तो धरने पर बैठीं सैलजा, निर्मल-हिम्मत समर्थकों का बवाल

कांग्रेस के विरोध प्रदर्शन में मंगलवार को निर्मल-हिम्मत समर्थकों ने खलल डालने की कोशिश की।

20 नवंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

अंबाला

बुधवार, 20 नवंबर 2019

देहरादून यार्ड की रि-मॉडलिंग के चलते देहरादून-बांद्रा एक्सप्रेस कैंसिल

रेलवे ने देहरादून यार्ड की रि-मॉडलिंग के चलते जहां देहरादून बांद्रा एक्सप्रेस को भरतपुर देहरादून के बीच में कैंसिल कर दिया तो वहीं फॉग के मौसम को देखते हुए 20 ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। इसके अलावा 8 ट्रेनों के रूट को बदल दिया गया है। रेलवे के अधिकारियों ने बताया यह ट्रेन अभी तक 17 नवंबर तक देहरादून से मेरठ सिटी तक चल रही थी लेकिन अब यह ट्रेन देहरादून और मेरठ सिटी के बीच में कैंसिल कर दी गई है।
ब्रांद्रा से जम्मू ट्रेन 19 दिसंबर से 30 जनवरी, जम्मू बांद्रा 20 दिसंबर से 30 जनवरी, अमृतसर गोरखपुर एक्सप्रेस 23 दिसंबर से 27 जनवरी, चंडीगढ़ अमृतसर 16 दिसंबर से 31 जनवरी तक, अमृतसर चंडीगढ़ 16 दिंसबर से 31 जनवरी, अमृतसर लालकुआं 21 दिसंबर से 25 जनवरी, लालकुआं से अमृतसर 21 दिसंबर से 25 जनवरी, अंबाला कैंट से बरौनी 17 दिसंबर से 28 जनवरी, बरौनी से अंबाला कैंट 19 दिसंबर से 30 जनवरी, जम्मू तवी से हरिद्वार 22 दिसंबर से 26 जनवरी, हरिद्वार से जम्मू तवी 23 दिसंबर से 27 जनवरी, चंडीगढ़ प्रयाग 16 दिसंबर से 31 जनवरी, प्रयाग से चंडीगढ़ 17 दिसंबर से 01 जनवरी, अजमेर से अमृतसर 19 दिसंबर से 30 जनवरी, अमृतसर से अजमेर 20 दिसंबर से 31 जनवरी, जयनगर से अमृतसर 19 दिसंबर से 3 फरवरी, श्रीगंगा नगर से जम्मू तवी 18 दिसंबर से 29 जनवरी, जम्मू तवी से श्रीगंगानगर 19 दिसंबर 30 जनवरी रद्द कर दी गई हैं। उधर, सीनियर डीसीएम अंबाला हरि मोहन ने बताया कि रि-मॉडलिंग का काम जैसे ही खत्म होगा तो उसके बाद ट्रेन को दोबारा से बहाल कर दिया जाएगा।
... और पढ़ें

आरती को लेकर मंदिर में विवाद, पंडित पर एक व्यक्ति ने लगाए काले जादू के आरोप तो पुजारी के पक्ष में उतरे कालोनीवासी

छावनी के बीडी फ्लोर मिल के पीछे लक्ष्मी नगर में कैलाश महादेव मंदिर में आरती करने पर विवाद हो गया। पड़ोस में रहने वाले एक व्यक्ति पर पंडित और कॉलोनी के लोगों ने धमकाने का आरोप लगाया है। इसलिए शनिवार को सभी महिलाएं मंदिर में एकजुट हुई और पंडित से मंदिर में पूजा पाठ और आरती कराई गई। धार्मिक मामला भड़कते देख कर कुछ ही दूरी पर स्थित करधान चौकी पुलिस भी मौके पर पहुंची और महिलाओं से बातचीत की। लेकिन मौजूद श्रद्धालु महिलाओं ने पुलिस में शिकायत के बावजूद कार्रवाई न करने का आरोप लगाया है।
श्रद्धालु महिला सीमा, ज्ञान, किरण, शिव कुमार, अंजना, मंजू, स्वीति और पंकज गोयल ने बताया कि दिवाली के दिन पड़ोस में रहने वाले एक व्यक्ति की पत्नी की किसी धार्मिक स्थल पर मौत हो गई थी जिसका कॉलोनी के सभी लोगों को दुख और उनके साथ संवेदना है। मंदिर में भजन चलते थे तो परिवार की आपत्ति पर उन्हें बंद करा दिया गया। इसके अलावा कुछ दिनों तक मंदिर में कीर्तन भी नहीं हुआ। लेकिन कुछ दिनों बाद पड़ोसी ने अपनी पत्नी की मौत का आरोप मंदिर के पंडित पर लगा दिया। पड़ोसी ने कहा कि पंडित काला जादू टोना करता है जबकि ऐसा कुछ नहीं है। जो आरोप है वो बेबुनियाद है। लेकिन इसी बीच पंडित को मंदिर के अंदर धमकी दी गई है कि वह मंदिर में आकर कोई पूजा पाठ नहीं करेगा। इसके अलावा मंदिर के बाहर कुछ युवक भी घूमते नजर आए। पंडित ने भी धमकी मिलने के बाद मंदिर में जाना बंद कर दिया। इसके अलावा करधान चौकी पुलिस के साथ-साथ स्वास्थ्य एवं गृहमंत्री के साथ-साथ एसपी अंबाला को मामले की शिकायत की थी लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इसीलिए मंदिर में पूजा पाठ बंद होने पर शनिवार शाम को सभी महिलाएं एकजुट हुई और मंदिर को खुलवा कर पूजा पाठ और आरती कराई गई। उधर, मौके पर कार्रवाई करने पहुंचे करधान चौकी पुलिस के इंचार्ज ने कहा कि दोनों पक्षों की ओर से अलग-अलग शिकायतें चौकी में आई हुई है और पंडित की ओर से 21 नवंबर तक का समय मांगा हुआ है। पूजा-पाठ में कोई बाधा नहीं है और दूसरे पक्ष ने भी पंडित के खिलाफ शिकायत दी है कि उसने काला जादू किया था जिसके चलते उसकी पत्नी की मौत हुई है। इसीलिए मामले में लापरवाही बरतने के आरोप झूठे हैं।
धमकी देते हैं कुछ लोग
मंदिर के पंडित विकास शास्त्री ने बताया कि तीन साल से वह इसी मंदिर में पूजा-पाठ करते आ रहे हैं। लेकिन दीवाली के दिन पड़ोस में हुए एक हादसे के बाद से उसको धमकाया जा रहा है जिसकी उसने पुलिस में शिकायत की है। पुलिस हमें तो चौकी में बुलाती है लेकिन उसे एक बार भी नहीं बुलाया गया। इसीलिए एसपी और मंत्री को मामले की शिकायत दे चुके हैं।
निजी प्रापर्टी पर बना है मंदिर
लक्ष्मी नगर में रहने वाली किरण बाला ने अपनी श्रद्धा के चलते अपनी जमीन देकर तीन साल पहले खुद ही पैसा खर्च कर बनवाया था। इसके बाद यहां पर कच्चा बाजार में रहने वाले पंडित विकास शास्त्री को पूजा पाठ करने की जिम्मेदारी दी गई है। पडोसी को लाउड स्पीकर से दिक्कत थी जो बंद कर दिया। पूजा पाठ और आरती करने में भी बाधा डाली जा रही है। जो गलत है। पुलिस इस मामले में कार्रवाई नहीं कर रही है।
... और पढ़ें

14 सवारियों से भरी पंजाब रोडेवज की खड़ी बस में ट्रक ने मारी टक्कर 5 घायल, एक की मौत

बस स्टैंड के सामने पंजाब रोडवेज की खड़ी बस को ट्रक ने टक्कर मारी दी। जिससे बस में सवार 35 वर्षीय युवक यादविन्द्र की मौत हो गई जबकि 32 वर्षीय एक युवक बुरी तरह घायल हो गया। पुलिस ने वाहन व शव कब्जे में लेकर आरोपी चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी।
जानकारी अनुसार पंजाब रोडवेज नंग्गल की बस के चालक मनोहर लाल व परिचालक मनप्रीत सिंह ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि वह देहरादून से नंग्गल-ऊना जा रहा था। बस में करीब 14 सवारियां थी। सुबह करीब 8 बजे नारायणगढ़ के बस स्टैड पर सवारी ले रहे थे कि तभी रायपुरानी की तरफ से तेज रफ्तार ट्रक आया। ब्रेक लगाने पर उसका संतुलन बिगड़ गया और उसने बस की एक साइड में टक्कर दे मारी। इसी साइड में यादविन्द्र सिंह निवासी वार्ड न.10 बैठा था। बस में सवार मामचंद निवासी रामपुर और यादविन्द्र को ज्यादा चोट लगने पर सिविल अस्पताल पहुंचाया। जहां से डाक्टरों यादविंद्र की हालत चिंताजनक होने पर उसे पीजीआई चंडीगढ़ रेफर कर दिया। लेकिन उसने रास्ते में दम तोड़ दिया। पुलिस जांच अधिकारी बलकार के अनुसार पुलिस ने मौके पर पंहुच कर वाहनों व शव को कब्जे में लेकर बस चालक मनोहर लाल व परिचालक मनप्रीत और घायल मामचंद की शिकायत पर आरोपी चालक राजकुमार वासी मीरपुर जिला सिरमौर हिमाचल प्रदेश के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

कांग्रेस के विरोध प्रदर्शन में पूर्व मंत्री निर्मल-हिम्मत समर्थकों का बवाल

कांग्रेस के विरोध प्रदर्शन में मंगलवार को निर्मल-हिम्मत समर्थकों ने खलल डालने की कोशिश की। इस दौरान कांग्रेस की प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा को काले झंडे दिखाने की भी कोशिश की। मंच से थोड़ी दूर खड़े होकर दोनों नेताओं के समर्थकों ने नारेबाजी भी की। विरोध की वजह से स्थिति न बिगड़े इसलिए पुलिस ने सभी समर्थकों को हिरासत में ले लिया। तय कार्यक्रम के तहत सैलजा समर्थकों के साथ केंद्र सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ डीसी को ज्ञापन देने निकल गईं। सूचना के बावजूद डीसी के ऑफिस से निकल जाने की वजह से सैलजा ने इस पर कड़ा ऐतराज जताया। तीन विधायक व कार्यकर्ताओं के साथ वे डीसी ऑफिस के बाहर ही धरने पर बैठ गईं। तब कार्यकर्ताओं ने डीसी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। करीब दो घंटे बाद डीसी फिर ऑफिस पहुंचे तब कार्यकर्ताओं से ज्ञापन लिया।
गिरती अर्थव्यवस्था व बेरोजगारी को लेकर बोला हमला
इससे पहले अग्रसेन चौक पर एकजुट हुए कांग्रेसियों को संबोधित करते कांग्रेस की प्रदेशाध्यक्ष एवं राज्यसभा सांसद कुमारी सैलजा ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि पिछले 45 सालों में अब देश में बेरोजगारी की स्थिति सबसे खराब है। देश के युवा बेहाली व बेरोजगारी की मार झेल रहे हैं। उन्होंने सेंटर फॉर मोनिटरिंग ऑफ इंडियन इकोनोमिक की रिपोर्ट का हवाला देते कहा कि अगस्त 2019 में बेरोजगारी की दर 8.19 प्रतिशत हो गई है। यह स्थिति पिछले 72 सालों में सबसे ज्यादा खराब है। उन्होंने कहा कि पढ़े लिखे युवाओं में बेरोजगारी की दर 15 फीसदी तक पहुंच गई है। यह बेहद चौकाने वाले आंकड़े हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा की स्थिति भी लगातार बिगड़ रही है। देश में 18 से 23 साल की उम्र के 74 फीसदी युवा कॉलेज ही नहीं जा पा रहे हैं।
नेहरू-गांधी परिवार ने दी कुर्बानी
सैलजा ने कहा कि नेहरू-गांधी परिवार ने देश के लिए बड़ी कुर्बानी दी। खुद पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी व राजीव गांधी ने देश की एकता व अखंडता के लिए अपनी जान न्यौछावर कर दी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी व राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी खुद देश के लोगों के हितों की लड़ाई लड़ रहे हैं।
फिर निर्मल-हिम्मत समर्थकों ने की नारेबाजी
सैलजा का भाषण खत्म होने से कुछ देर पहले ही पूर्व मंत्री निर्मल सिंह व हिम्मत सिंह के करीब एक दर्जन समर्थक विनोद धीमान व मनोज शर्मा के साथ काले झंडे लेकर पहुंच गए। अग्रसेन चौक पर इन लोगों ने सैलजा के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। हालांकि पुलिस ने बाद में सभी समर्थकों को हिरासत में ले लिया था।
ज्ञापन लेने से पहले निकले डीसी, सैलजा बैठीं धरने पर
केंद्र सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ सैलजा समर्थकों के साथ राष्ट्रपति के नाम डीसी अशोक कुमार शर्मा को ज्ञापन देने निकली थीं। पर इससे पहले डीसी अपने ऑफिस से निकल गए। एडीसी को ज्ञापन लेने की जिम्मेदारी दी गई। मगर सैलजा ने उसे ज्ञापन देने से मना कर दिया। इस बात पर उन्होंने कड़ा ऐतराज जताया कि बात होने के बावजूद डीसी ज्ञापन लेने से पहले निकल गए। तब वे कार्यकर्ताओं के साथ डीसी ऑफिस के बाहर ही धरने पर बैठ गईं। फिर डीसी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई।
फिर कार्यकर्ताओं से अनुमति लेकर निकलीं
काफी देर तक डीसी ऑफिस के बाहर धरने पर बैठने के बाद सैलजा कार्यकर्ताओं की इजाजत लेकर दिल्ली के लिए रवाना हो गईं। मगर जाने से पहले उन्होंने ज्ञापन देने की जिम्मेदारी मुलाना के विधायक वरुण चौधरी व पूर्व सीपीएस रामकिशन गुर्जर को सौंर्पी। तब करीब दो घंटे तक दोनों नेता डीसी ऑफिस के बाहर डटे रहे। वापिस आने के बाद डीसी ने माफी मांगकर कार्यकर्ताओं से ज्ञापन लिया।
रात को एक एरिया में लगाए पोस्टर
कांग्रेस के विरोध प्रदर्शन से एक दिन पहले सोमवार को शहर में कई जगह कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा से पूछे गए 22 सवालों से जुड़े पोस्टर चस्पाए गए। जबकि सवाल पूछने वालों का पोस्टर में कहीं जिक्र नहीं किया गया। न ही उस प्रिंटर का नाम पोस्टर पर था जिसने इनकी छपाई की। सैलजा से पोस्टर में पूछा कि गुहला के विधायक ईश्वर सिंह को राज्यसभा सदस्य व एससी आयोग का सदस्य क्यों बनवाया गया था? अपने भाई जग्गनाथ को हरियाणा स्टाफ सिलेक्शन कमीशन का सदस्य क्यों बनाया गया? हिसार के डॉ. अजय चौधरी को अपना ओएसडी व करनाल के रामशरण भोला को हरियाणा स्टाफ सिलेक्शन कमीशन का सदस्य क्यों बनाया गया? अपने ओएसडी डॉ. अजय चौधरी व नजदीकी प्रताप चौधरी की पारिवारिक सदस्य को एचसीएस क्यों बनवाया गया? पोस्टर में सभी सवालों के जवाब मांगे गए। प्रदर्शन के दौरान असंध से कांग्रेस विधायक शमशेर सिंह गोगी, पूर्व विधायक जसबीर मल्लौर, यमुनानगर से निर्मल चौहान, वेणु अग्रवाल, पूर्व महिला अध्यक्ष अमरजीत कौर सोढ़ी, पूर्व जिलाध्यक्ष हरीश सासन, पूर्व युवा अध्यक्ष तरूण चुघ, ऑटो रिक्शा यूनियन के प्रधान अशोक बूंदी, राजेश मेहता, परमिंद्र सिंह परी, नीलम शर्मा, बलविंद्र पुनिया, रिंकू पुनिया, खुशवीर वालिया समेत काफी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद थे।
... और पढ़ें

डेडिकेटेड रेल फ्रेंट कॉरिडोर से लेट नहीं हुई ट्रेनें, अगले साल मिल जाएगा कमीशन : डीआरएम

डेडिकेटेड रेल फ्रेट कॉरिडोर से इस्टर्न और वेस्टर्न रेलवे की ट्रेनें लेट होने की दिक्कत जल्द दूर होगी। अगले साल कॉरिडोर का एक फेस पूरा होने के साथ ही इसका कमीशन भी मिल जाएगा। अंबाला मंडल के नए रेल प्रबंधक (डीआरएम) गुरविंद्र मोहन सिंह ने यह बात कही है। डीआरएम ने कहा कि रेल प्रबंधक होने के नाते उनकी जिम्मेदारी रेल एवं यात्रियों की सेफ्टी, अनुशासन, इंफ्रास्ट्रक्चर समेत अन्य व्यवस्थाएं रहेंगी।
अमर उजाला से खास बातचीत में नए डीआरएम गुरविंद्र सिंह ने बताया कि फ्रेट कॉरिडोर पंजाब के लुधियाना से पंश्चिम बंगाल तक तैयार हो रहा है। उम्मीद है कि अगले साल दिल्ली से मुंबई और दिल्ली से हावड़ा के बीच बने वेस्टर्न और इस्टर्न कॉरिडोर का पहला फेस शुरू हो जाएगा। इसीलिए ट्रेनों के लेट होने से यात्रियों को राहत मिलेगी। उन्होंने बताया कि मालगाड़ी की वजह से भी ट्रेन लेट हो जाती है। रेलवे की महत्वाकांक्षी यह कॉरिडोर रेलवे के लिए गेम चेंजर साबित होंगे। लुधियाना से 1800 किलोमीटर लंबा वेस्टर्न फ्रेट कॉरिडोर पंश्चिम बंगाल तक जाएगा। यह कॉरिडोर मुरादाबाद से होते दिल्ली पहुंचेगा।
1992 में ज्वाइन किया था रेलवे
नए डीआरएम गुरविंद्र मोहन सिंह 1992 बैच से इंडियन रेलवे ट्रैफिक सर्विस ऑफिसर बने थे। इसके अलावा वे अंबाला मंडल के अंबाला, फिरोजपुर, मुरादाबाद में अपनी सेवाएं दे चुके हैं और सोनेपुर में पहली पोस्टिंग के साथ उन्होंने रेलवे में अपनी सेवाएं शुरू की। इसके अलावा वे आईआरसीटीसी में ग्रुप महाप्रबंधक कैटेरिंग, ग्रुप जनरल मैनेजर नॉदर्न जोन भी रह चुके हैं। मंगलवार को डीआरएम का पद संभाले के बाद उन्होंने रेलवे के अधिकारियों से बातचीत की और विभिन्न जगहों से अधिकारियों से भी मुलाकात की है। अंबाला के पूर्व डीआरएम दिनेश चंद शर्मा ने नए डीआरएम जीएम सिंह का स्वागत किया।
यात्रियों की सुविधाओं का रखेंगे ख्याल
डीआरएम ने कहा कि पैसेंजर के लिए वेटिंग रूम की बढ़ियां सुविधा देने पर ध्यान दिया जाएगा। यदि अंबाला मंडल के अंदर वेटिंग रूम की रेनोवेट करने की जरूरत होगी तो उसका काम भी किया जाएगा। वंदे भारत और तेजस जैसे ट्रेनों में कैटेरिंग में नए-नए खाद्य चीजें रेलवे के मेन्यू में जोड़ी गई हैं। रेलवे स्टेशन पर साफ-सफाई और वन यूज प्लास्टिक की तरफ जागरुकता अभियान चलाए जाएंगे।
... और पढ़ें

पेटीएम वायलेट अपडेट करने के बहाने 14300 रूपये की लगाई चपत

पेटीएम वायलेट अपडेट करने के बहाने एक युवक से 14,300 हजार रुपये की ठगी हो गई। परिवादी की शिकायत पर अब पुलिस ने ठग के खिलाफ साजिशन धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है। महेशनगर के रहने वाले पवन कुमार ने एसपी अभिषेक जोरवाल को दी शिकायत में बताया कि उसके पेटीएम वायलेट से किसी शाहिद खान नाम के शख्स ने 14 हजार 300 हजार रुपये ट्रांसफर कर लिए। शिकायत में उसने बताया कि दो नवंबर को वह अपने पेटीएम वायलेट से ट्रांजेक्शन करने की कोशिश कर रहा था। मगर हर ट्रांजेक्शन में दिक्कत आ रही थी। पवन ने बताया कि इसके बाद उसने पेटीएम के कस्टमर केयर से संपर्क करने की कोशिश की। जब उसने कस्टमर केयर पर दर्शाए गए नंबर पर संपर्क किया तो उससे शाहिद खान नाम के शख्स ने बात की। उसने बताया कि बार-बार ट्रांजेक्शन के कारण उसका पेटीएम वायलेट ब्लॉक हो गया है। इसे चालू करने के लिए अब केवाईसी अपडेट करनी होगी। पवन ने बताया कि कुछ पर्सनल डिटेल लेने के बाद आरोपी ने उसके पेटीएम वायलेट से सारे पैसे ट्रांसफर करवा लिए। तब उसने इसकी शिकायत पेटीएम वायलेट केयर सेंटर को दी लेकिन ठोस कार्रवाई का कोई आश्वासन नहीं मिला। परिवादी ने बताया कि वह लगातार पेटीएम कस्टमर केयर सेंटर से संपर्क करता रहा। कार्रवाई न होने के बाद मजबूरी में उसे शिकायत देनी पड़ी। शुरूआती जांच के बाद ही महेशनगर पुलिस ने ठगी का केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। अभी तक आरोपी की पहचान नहीं हो पाई है। ... और पढ़ें

रामनगर में सास-बहू को बंधक बनाकर लूटपाट की सुलझी गुत्थी, दो महिलाएं गिरफ्तार

शहर में रामनगर के मकान नंबर 282 में सास, बहू और नौकरानी को बंधक बनाकर 9 अक्टूबर को हुई लूटपाट की गुत्थी अंबाला पुलिस ने सुलझा ली है। आरोपित दोनों महिलाओं ने 22 सितंबर को पंजाब से अंबाला में आकर किराये पर मकान लेने की बात कही थी। मकान मालिक सुरेंद्र कुमार के साथ मकान का किराया 65 सौ रुपये में तय हो गया था। जब मकान मालिक ने किरायेदार बनकर पहुंची महिलाओं से पहचान पत्र मांगे तो महिलाओं ने कहा था कि अभी नहीं है। जब सामान लेकर आ जाएंगे तो वह उन्हें दे देंगे। मकान मालिक ने भी बात को गंभीरता से नहीं लिया और अपना पहली मंजिल पर बने टू रूम सेट मकान को किराये पर दे दिया। बात पक्की होने पर 23 सितंबर को आकर उन्होंने एक बेड मकान में रखा। इसके बाद एक योजना बनाकर 9 अक्टूबर को अंबाला शहर के रामनगर में पहले एक महिला पहुंची और उसके बाद दूसरी महिला आई। आरोपित महिला ने दूसरी महिला को अपनी मौसेरी बहन की बेटी बताया। इसके बाद किराये के मकान में पूजा पाठ करने की बात कह कर पहले तो मकान मालिक सुरेंद्र कुमार की पत्नी अंजली को छत पर बुलाया और उसके बाद उनकी मां राजरानी को बुलाया गया। दोनों से जेवरात की लूटपाट की गई। इतना ही नहीं राजरानी के हाथ से जब अंगूठी नहीं निकली तो एक महिला ने दांत से उंगली काटकर उसे निकाला। इसके बाद महिलाओं ने मकान की नौकरानी को भी बुलाया और तीनों बंधक बनाकर स्टोर में रखा और लूटपाट की
रामनगर में लूटपाट की वारदात की गुत्थी सुलझ गई है और दो महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया है जिन्हें कोर्ट में पेश करने के बाद पूछताछ की जाएगी। पूछताछ के बाद ही मामले की पूरी हकीकत सामने आएगी।
अभिषेक जोरवाल, एसपी अंबाला छावनी।
... और पढ़ें

ज्ञापन देने से पहले ऑफिस से निकले डीसी तो धरने पर बैठीं सैलजा, निर्मल-हिम्मत समर्थकों का बवाल

कांग्रेस के विरोध प्रदर्शन में मंगलवार को निर्मल-हिम्मत समर्थकों ने खलल डालने की कोशिश की। इस दौरान कांग्रेस की प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा को काले झंडे दिखाने की भी कोशिश की। मंच से थोड़ी दूर खड़े होकर दोनों नेताओं के समर्थकों ने नारेबाजी भी की। विरोध की वजह से स्थिति न बिगड़े इसलिए पुलिस ने सभी समर्थकों को हिरासत में ले लिया। 

तय कार्यक्रम के तहत सैलजा समर्थकों के साथ केंद्र सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ डीसी को ज्ञापन देने निकल गईं। सूचना के बावजूद डीसी के ऑफिस से निकल जाने की वजह से सैलजा ने इस पर कड़ा एतराज जताया। तीन विधायक व कार्यकर्ताओं के साथ वे डीसी ऑफिस के बाहर ही धरने पर बैठ गईं। कार्यकर्ताओं ने डीसी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। करीब दो घंटे बाद डीसी फिर ऑफिस पहुंचे तब कार्यकर्ताओं से ज्ञापन लिया।  

गिरती अर्थव्यवस्था व बेरोजगारी को लेकर बोला हमला 
इससे पहले अग्रसेन चौक पर एकजुट हुए कांग्रेसियों को संबोधित करते कांग्रेस की प्रदेशाध्यक्ष एवं राज्यसभा सांसद कुमारी सैलजा ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि पिछले 45 सालों में अब देश में बेरोजगारी की स्थिति सबसे खराब है। देश के युवा बेहाली व बेरोजगारी की मार झेल रहे हैं। उन्होंने सेंटर फॉर मोनिटरिंग ऑफ इंडियन इकोनोमिक की रिपोर्ट का हवाला देते कहा कि अगस्त 2019 में बेरोजगारी की दर 8.19 प्रतिशत हो गई है।
... और पढ़ें

ठगी के आरोपी को पकड ले जा रही पुलिस पर पथराव, बरसाई लाठियां, बचाव में 5 हवाई फायरिंग

4 लाख 92 हजार की ठगी के आरोपी को पकड़ने शहजादपुर के गांव तानका माजरा में पहुंची पुलिस पर आरोपियों ने हमला कर दिया। पुलिस को बचाव के लिए हवाई फायरिंग करनी पड़ी। थाना मुलाना में कार्यरत सहायक उप निरीक्षक प्रमोद सिंह व अन्य पुलिस कर्मियों ने थाना शहजादपुर में शिकायत दी कि मुलाना थाना में दर्ज मामला एक सितंबर को दर्ज हुए ठगी के मामले में वह खंड शहजादपुर के गांव तानका माजरा निवासी आरोपी सुरेश कुमार को गिरफ्तार करने उसके घर पहुंचे थे। जहां एक कार्यक्रम चल रहा था। इसी का फायदा उठाकर आरोपी उस दिन मकान के पीछे से दीवार फांदकर भाग निकला था।
शिकायतकर्ता सहायक उप निरीक्षक प्रमोद सिंह के अनुसार आरोपी सुरेश कुमार को काबू करने के लिये मुखबिर लगाये थे। 17 नवंबर की रात सूचना मिली कि आरोपी सुरेश कुमार कुछ देर पहले अपने घर पहुंचा है। आरोपी के घर पर कव्वाली का कार्यक्रम चल रहा है। सूचना मिलते ही वह सर्विस पिस्टल, 15 कारतूस लेकर पुलिसकर्मी कंवलजीत सिंह, नरेश कुमार, अवधेश कुमार व चालक मनीष कुमार सरकारी गाड़ी में मुलाना से रवाना हो गए। थाना शहजादपुर में तुरंत रेड करने के लिए मदद का आग्रह किया। शहजादपुर पुलिस टीम के साथ सभी मुलाजिम गांव तानका माजरा में आरोपी सुरेश कुमार के मकान पर पहुंचे तो आरोपी पुलिस को देख पीछे से निकल कर खेतों की तरफ भाग गया। जैसे ही पुलिस टीम ने आरोपी को गिरफ्तार किया उसे छुड़वाने के लिये लोगों ने लाठी-डंडों व पत्थरों से हमला कर दिया। साथियों की सुरक्षा के लिए अपनी सर्विस पिस्टल से दो रौंद थोड़ी-थोड़ी देर बाद हवाई फायर किये। इसके बाद तीन रौंद और फायर किए गए तब आरोपी मौके से भागे। मामले में पुलिस ने राजेश, केहर सिंह, काला भगत, रामदास, नीता व बलविंद्र के खिलाफ सरकारी ड्यूटी में बाधा डालने, पुलिस कर्मियों पर जानलेवा हमला करने व आरोपी सुरेश कुमार को पुलिस कब्जा से छुड़वाने के प्रयास में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
मुलाना पुलिस को दी शिकायत में जफरपुर बराड़ा के मुकेश ने शिकायत दर्ज करवाई थी कि सीमेंट, सरिया व अन्य मेटीरियल लेने के नाम पर सुरेश कुमार ने उसे व दो अन्य लोगों को 4 लाख 92 हजार 270 रुपये की ठगी की है। आरोपी ने सीमेंट, सरिया व अन्य मेटीरियल के बदले में बंद खाते के चेक उन्हें थमा दिए थे और अपना नाम व पता भी गलत बताया था।
... और पढ़ें

मृत्यु का रिकार्ड आशा से ले 15 साल बाद चौकीदार को सौंपी कमान, 300 रुपये बढ़ाया वेतनमान

15 साल बाद मृत्यु का रिकार्ड फिर से चौकीदार संभालेंगे। प्रदेश सरकार ने नोटिफिकेशन जारी कर दी है। 18 नवंबर से नई नोटिफिकेशन के तहत कार्य भी शुरू कर दिया है। अंबाला में इस नई योजना से सीधे तौर पर 7 हजार चौकीदारों को फायदा होगा। चौकीदारों के अलावा मृत्यु का रिकार्ड मेंटेन करने में अब ग्राम सरंपचों और कॉमन सुविधा केंद्र की भूमिका भी सरकार ने तय कर दी है। साथ ही ये दोनों इस जिम्मेदारी को निभाएं इसके लिए सरकार मानदेय देगी। गांव, मोहल्ले या किसी भी एरिया में मृत्यु होने पर अब चौकीदार रिकार्ड मेंटेन करेगा। साथ ही साथ नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर पर उसे आनलाइन करवाएगा। डाटा आनलाइन होते ही चौकीदार को प्रति पंजीकरण 300, डाटा अपलोड करने वाले सीएससी संचालक को 50 और संबंधित ग्राम सरपंच को 150 रुपये दिए जाएंगे ताकि सभी की जवाबदेही रहे।
220 वीएलई को दी गई ट्रेनिंग
मृत्यु पंजीकरण आनलाइन करवाने के लिए शनिवार को पंचायत भवन अंबाला शहर में 220 वीएलई ( विलेज लेवल इंटरप्रयोर ) को ट्रेनिंग भी दी जा चुकी है। ट्रेनिंग में स्टेट प्रोजेक्ट मैनेजर प्रभोत सिंह और डीपीएम भी मौजूद रहे।
पहले यह थी प्रक्रिया
दरअसल 2004 से पहले चौकीदार ही जन्म-मृत्यु का रिकार्ड रखते थे। चौकीदार को हर 15 दिन बाद संबंधित थाने से इस रजिस्टर को सत्यापित करवाना होता था। 2004 में चौकीदारों से यह काम लेकर एएनएम को दे दिया था। 2009 में यह कार्य एएनएम से आशा को सौंपा था। अभी तक आशा ही मृत्यु का फार्म भरती थी इसके बाद एएनएम उसे सत्यापित करती फिर वह संबंधित अधिकारियों से होते हुए दोबारा आशा के पास आता था और आशा ही उसे पीएचसी स्तर पर मौजूद डाटा एंट्री आपरेटर के जरिए आनलाइन करवाती थी।
ये होगा फायदा
नई योजना से अब मृत्यु का रिकार्ड बहुत जल्दी आनलाइन दर्ज हो जाएगा। इससे मृत्यु प्रमाण पत्र मिलने में लगने वाले समय में कमी आएगी। क्योंकि अब सीधे चौकीदार सरपंच से सत्यापित करवाकर उसे कॉमन सर्विस सेंटर से आनलाइन करवाएगा।
जिले में 800 सीएससी
जिले की बात करें तो जिले में 800 सीएससी हैं। लेकिन इनमें से 500 एक्टिव हैं। इन्हीं सीएचसी पर 100 से 500 तक की नागरिक सुविधाएं दी जा रही हैं। बैंकिंग, इंश्योरेंस, रेलवे टिकट, एजुकेशन तक की सुविधा सरकार इन्हीं के माध्यम से दे रही है। हर गांव स्तर पर एक सीएचसी कार्यरत हैं। जहां तक चौकीदारों की बात करें तो जिले में 7 हजार चौकीदार हैं और 408 ग्राम पंचायतें जबकि अन्य अभी तक ट्विन सिटी में 20 वार्ड। इसी तरह बराड़ा और नारायणगढ़ में नगरपालिका के वार्ड हैं।
सभी सीएससी संचालक को रेट लिस्टचस्पा करने के निर्देश
सीएससी पर मिल रही नागरिक सुविधाओं की एवज में सरकार ने निर्धारित रेट तय किए हैं लेकिन ज्यादातर सीएससी संचालक इस रेट लिस्ट की अनुपालना नहीं कर रहे हैं। ऐसे में अब इन पर लगाम कसने के लिए सरकार ने सभी सीएचसी संचालकों को अपने सेंटर के बाहर रेट लिस्ट लगाने के आदेश जारी किए हैं। उन्हें अपने यहां होने वाले हर काम की लिस्ट लगानी होगी। इतना ही नहीं सीएससी संचालक अपने निर्धारित लोकेशन पर ही सीएससी खोलेंगे। यदि दूसरी लोकेशन पर खुली पाई गई तो लाइसेंस रद्द कर दिया जाएगा।
चौकीदार अब सीधे सीएससी में सूचना देंगे। सीएससी पर मौजूद वीएलई उसे आनलाइन अपलोड करेगा। इसके बदले में प्रति मृत्यु पंजीकरण चौकीदार को 300, वीएलई को 50 और ग्राम पंचायत को 150 रुपये दिए जाएंगे। हां सभी सीएससी संचालकों को रेट लिस्ट सीएससी के बाहर चस्पा करनी होगी। निर्धारित रेट से ज्यादा कोई भी लेता हुआ पाया गया तो कार्रवाई की जाएगी। 18 नवंबर से यह योजना शुरू कर दी गई है।
विवेक शर्मा, जिला प्रबंधक कॉमन सर्विस सेंटर
सरकार के निर्णय का हम स्वागत करते हैं। हमें इस बारे में बताया गया था। लेकिन अभी नोटिस के बारे में जानकारी नहीं है। 2004 में हमसे यह काम लेकर आशा को सौंप दिया था।
सुखबीर चौकीदार, ब्लॉक प्रधान
सरकार हमें इस काम के 150 रुपये दे रही थी। चौकीदारों का वेतन सरकार ने पहले ही बढ़ा दिया था। हम इसका स्वागत करते हैं। हमें उनसे दिक्कत नहीं है। अब मृत्यु पंजीकरण का काम भी चौकीदार को दे दिया गया है इस बारे में जानकारी नहीं है।
आशा वर्कर, जिला प्रधान।
... और पढ़ें

डेंगू का दोहरा शतक 215 पहुंचा आंकड़ा, 3200 को नोटिस जुर्माना किसी पर नहीं

डेंगू का डंक जिले में अभी थमता नजर नहीं आ रहा है। लगातार डेंगू के मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। स्थिति की गंभीरता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जिले में सरकारी रिकार्ड में डेंगू मरीजों की संख्या 200 के पार पहुंच चुकी है। यह सिलसिला अभी थमा नहीं क्योंकि अभी भी डेंगू के लिए उपयुक्त मौसम है। वहीं कई मरीज अभी भी ऐसे हैं, जिनमें डेंगू के लक्षण देखते हुए उनके सेंपल लिए गए हैं लेकिन रिपोर्ट आनी बाकी है। जिले में सोमवार तक 215 मरीजों की पुष्टि सरकारी रिकार्ड के अनुसार हो चुकी है।
3200 को सिर्फ नोटिस दिया
स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू की रोकथाम के लिए संदिग्ध एरिया में घर-घर जाकर लारवा की चेकिंग का अभियान चलाया था। इस दौरान 3200 घर ऐसे पाए गए जिनमें डेंगू का लारवा मिला। मसलन स्वास्थ्य विभाग की टीम ने ऐसे लोगों को नोटिस जारी कर दिए लेकिन किसी पर भी जुर्माना लगाना लाजमी नहीं समझा। यदि जुर्माना लगता तो स्थिति को इस तरह बिगड़ने से रोका जा सकता था। क्योंकि खुद जनता भी अपनी जिम्मेदारी से भाग रही है और चंद लोगों के चलते लोग डेंगू की चपेट में आ रहे हैं।
फोगिंग करवाना चुनौती
जिले में डीसी ने फोगिंग के आदेश जारी किए थे। उनके अनुसार कुछ क्षेत्रों में स्वास्थ्य विभाग ने फोगिंग करवाई भी लेकिन ज्यादातर में फोगिंग नहीं हुई। फोगिंग करवाने को लेकर भी स्वास्थ्य विभाग दुविधा में है। क्योंकि फोगिंग करवाए तो एयर क्वालिटी इंडेक्स नीचे गिर सकता है न करवाए तो स्थिति और भी खराब हो सकती है। हालांकि ऐसी स्थिति में स्प्रे किया जा सकता है।
टीमें कर रही हैं सर्वे
डिप्टी सिविल सर्जन डा. संजीव सिंगला ने बताया कि डेंगू के मरीजों की संख्या को रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से पूरी लगन के साथ सर्वे किया जा रहा है और अभी भी जिन लोगों के घरों में डेंगू का लारवा मिल रहा है। उसे साथ के साथ खत्म किया जा रहा है और नोटिस भी दिए जा रहे हैं।
ऐसे करें बचाव
दिन के समय फुल शर्ट ही पहनें, पावों में जूते जरूर पहनें, शरीर को कहीं से भी खुला न छोड़ें। घर के आसपास या घर के अंदर पानी नहीं जमने दें, कूलर, गमले, टायर इत्यादि में जमे पानी को तुरंत बहा दें। कूलर में यदि पानी है तो इसमें केरोसिन डालें जिससे कि मच्छर पनप न पाये, मच्छरदानी का उपयोग करें और मच्छरों को दूर करें, लक्षण पाए जाने पर पहले नजदीकी डॉक्टर से सहायता लें और रक्त में प्लेटलेट्स की जांच करवा लें। यह भी ध्यान रखें कि प्लेटलेट्स कम होने का मतलब डेंगू नहीं है। प्लेटलेट्स कम होने के और भी कई कारण जैसे इंफेक्शन भी हो सकता है।
... और पढ़ें

बाइक बोट स्कीम के लालच में फंसा नायब सूबेदार, 12.

बाइक बोट स्कीम के जरिए सेना के नायब सूबेदार बलबीर सिंह को 12.83 लाख रुपये का चूना लग गया। पुलिस ने शिकायत के बाद अब नायब सूबेदार की शिकायत पर सिकंदराबाद के संजय भट्टी के खिलाफ ठगी का मामला दर्ज किया है। परिवादी के अनुसार आरोपी ने निवेश स्कीम के जरिए उस जैसे दर्जनों लोगों को भारी चूना लगाया है।
पुलिस को दी शिकायत में बब्याल के लक्की गार्डन वासी बलवीर सिंह ने बताया कि वह सेना में नायब सूबेदार है। एक साल पहले ही वह उत्तर प्रदेश के सिकंदराबाद के रहने वाले संजय भट्टी की कंपनी गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स द्वारा चलाई जा रही निवेश स्कीम के लालच में फंस गया। उसने बताया कि भट्टी की कंपनी की ओर से बाइक वोट स्कीम लांच की गई थी। जिसमें निवेश के जरिए मोटी आमदनी होने का दावा किया था। इसके लिए एक निवेशक को सात बाइक बोट खरीदनी होती थी। बलबीर ने बताया कि स्कीम में निवेश करने के लिए उसने एसबीआई से पांच लाख रुपये का पसर्नल लोन लिया था। इसके बाद उसने स्कीम में अपनी पत्नी के नाम पर 4.34 लाख रुपये निवेश कर दिए। बलबीर ने बताया कि निवेश के कुछ समय बाद ही उसे आमदनी होनी शुरू हो गई। लालच में फंसे बलबीर ने इसके बाद 4.17 लाख, 4.82 लाख व 40 हजार के नए लोन लेकर कंपनी की स्कीम में फिर निवेश कर दिए। इसके बाद फिर उसे विभिन्न बैंकों से 3.70 लाख रुपये कंपनी में निवेश किए। बलबीर ने बताया कि कुल 17.38 लाख रुपए निवेश करने के बाद उसे कुछ आमदनी हुई। मगर इसके बाद कंपनी ने उसे पैसे देने बंद कर दिए। सैनिक का आरोप है कि उसने आमदनी के तौर पर महज 4.55 लाख रुपये ही वापिस मिले। उसके साथ 12.83 लाख की की संजय भट्टी ने धोखाधड़ी की। निरंतर संपर्क करने के बावजूद उसके पैसे वापिस नहीं मिले।
... और पढ़ें

शादी का झांसा देकर बनाए संबंधों से महिला गर्भवती हुई तो छोड़ दिया साथ, फंसा

शादी का झांसा देकर अवैध संबंधों से गर्भवती हुई तो लुधियाना के गांव खानपुर वासी आरोपी ने महिला का साथ छोड़ दिया। पति से मनमुटाव के कारण महिला मायके में थी। मूलरूप से यूपी के संभल वासी आरोपी ने उसे विश्वास दिलाया था कि यदि वह अपने पति से तलाक ले तो उससे शादी कर लेगा। लेकिन बाद में शादी से साफ इंकार कर दिया। परेशान पीड़िता ने कानून की शरण ली। महिला थाने में दुष्कर्म का केस दर्ज करने के बाद शनिवार रात अंबाला पुलिस ने लुधियाना पुलिस के सहयोग से खानपुर स्थित अमरूद वाले बाग में रेड कर उसे गिरफ्तार कर लिया। रविवार ड्यूटी मजिस्ट्रेट के आदेश पर आरोपी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। सरकारी अस्पताल में मेडिकल कराने के बाद कोर्ट में 164 के बयान दर्ज कराए गए।
जानकारी के अनुसार चार बहन तथा तीन भाईयों में से एक पीड़िता मजदूरी करती है। करीब आठ माह पूर्व उसकी शादी यूपी के मुरादाबाद वासी व्यक्ति से हुई थी। मनमुटाव होने के कारण वह केवल दो-तीन दिन वहां रही, उसके बाद मायके लौट आई। आरोपी उसके ताया के लड़के का साला लगता है तथा लुधियाना के अमरूद के बाग में चौकीदारी करता है। वह पीड़िता के घर में आता-जाता था। शादी का विश्वास दिलाकर महिला से कई बार शारीरिक संबंध बनाए जिससे वह गर्भवती हो गई। गर्भवती होने पर बच्चे को जन्म देना चाहती थी लेकिन आरोपी उसे गर्भपात की दवा खिलाने लगा। 14 नवंबर को दवा लेने से इंकार करने पर आरोपी ने पीड़िता को धमकाया कि यदि उसकी बात नहीं मानी तो वह उसे व परिवार को जान से मार देगा और शादी से भी साफ मुकर गया।
महिला थाना प्रभारी इंस्पेक्टर सुनीता के अनुसार शादी का झांसा देकर बनाए संबंधों से पीड़िता तीन माह की गर्भवती है। दुष्कर्म के आरोप में पकड़े गए आरोपी को लुधियाना से गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election