बिजली बचत में अंबाला रेल मंडल नंबर वन

Ambala Updated Wed, 12 Dec 2012 05:30 AM IST
अंबाला। देश में अंबाला रेल मंडल ने बिजली बचत के अपने फंडे से एक इबारत लिख दी है। इसी के बदौलत ऊर्जा मंत्रालय के संगठन ब्यूरो ऑफ एनर्जी एफिशियंसी से ‘फाइव स्टार’ रेटिंग प्राप्त करने के बाद राष्ट्रपति 14 दिसंबर को अंबाला रेल मंडल के अफसरों को सम्मानित करेंगे।
ऊर्जा मंत्रालय द्वारा बिजली संरक्षण को लेकर देश भर में किए गए सर्वे के बाद अंबाला रेल मंडल तमाम कार्यालयों में सबसे अव्वल रहा है। 14 दिसंबर को विद्युत भवन में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी अंबाला रेल मंडल के वरिष्ठ मंडल विद्युत अभियंता आरके गुप्ता को देकर अवार्ड सम्मानित करेंगे।
इस उपलब्धि को लेकर जहां अंबाला डीआरएम कार्यालय के तमाम अफसर और कर्मचारी उत्साहित हैं वहीं पूरे मंडल ने अपेक्षाकृत औसतन उन्नीस फीसदी बिजली की खपत कर एक नया आयाम स्थापित किया है। सूत्रों के अनुसार इस वजह से मंडल को बिजली बचत के रूप में हर माह लाखों रुपये की बचत भी हुई है। पिछले सवा साल से डीआरएम कार्यालय की इलेक्ट्रिक शाखा बिजली बचत को लेकर कई तरह के फंडे अपना रही है जिसका नतीजा यह रहा कि अंबाला रेल मंडल ने बिजली की खपत को काफी हद तक कम किया है।
इस तरह की बचत
इसमें सोलर ऊर्जा पैनल और एलईडी लाइट की मदद से ऊर्जा की खपत को कम किया गया है। इतना ही नहीं अंबाला रेल मंडल के भवन को भी इसी के चलते आज ‘एनर्जी एफिशेंएट बिल्डिंग’ बना दिया गया है। मंडल के वरिष्ठ विद्युत अभियंता आरके गुप्ता ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि एक विशेष टीम ने बाकायदा मंडल का पूरा सर्वे किया। उसके बाद पहले मिनिस्ट्री ऑफ पॉवर से फाइव स्टार रेटिंग मिली और अब राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी मंडल को अवार्ड देंगे। उनके अनुसार इस उपलब्धि के लिए उनके सीनियर अफसरों का प्रोत्साहन और उनकी टीम का वर्क दोनों अहम योगदान रखता है।
दस सोलर स्टेशन बने
मंडल के दस स्टेशन तपा, रामपुराफूल, बठिंडा कैंट, लहरा मौहब्बत, सुनाम, चंडी मंदिर, कलानौर, सोनवारा, गिल, दौनकलां, सोलर स्टेशन बना दिए गए हैं।

इसलिए सम्मानित करेंगे राष्ट्रपति
डीआरएम कार्यालय भवन की कॉरिडोर लाइटिंग सोलर ऊर्जा से चलती है।
रेलवे कालोनी और रेल विहार की लाइटिंग, पानी के ट्यूबवेल इलेक्ट्रिक की जीएसएम टेक्नोलॉजी से चलते हैं।
मंडल के अधिकतर कार्यालयों में सभी डेर्जट कूलर हटाकर सेंटरलाइज कूलिंग सिस्टम कर दिया गया है।
स्टेशनों और कार्यालयों में 40 वाट की ट्यूब लाइटों को 26 वाट लाइटों में बदल दिया गया है।
80/100 वाट के सीलिंग फैन की बजाए 60 वाट के एनर्जी एफिशियंट पंखे लग चुके हैं।
स्टेशनों और कार्यालयों के बाहर लगने वाली 150 वाट की एचपीएसवी लाइटों को 45 वाट की टी-5 लाइटों में बदल दिया गया है।
कांफ्रेंस और कमेटी सभागारों तथा अफसरों के चेंबर में 36 वाट की लाइटें हटाकर सीएफएल और लाइटिंग लाइटें लगा दी हैं।
विद्युत ऊर्जा की खपत को कम करने के लिए 200 केवीआर का पॉवर फैक्टर भी लगाया गया है।
कॉरिडोर में 40 वाट वाले बिजली उपकरणों को हटाकर 18 वाट के एलईडी उपकरण लगा दिए गए हैं।
डीआरएम कांपलेक्स में मेंटेनेंस फ्री अर्थिंग की व्यवस्था करवा दी गई जो ऊर्जा बचत में बेहद सहायक है।
तमाम रनिंग रूमों में इलेक्ट्रिक गीजर हटवाकर सोलर गीजर लगवा दिए गए हैं।
पूरे अंबाला मंडल में 60 फीसदी लाइटों को एनर्जी एफिशियंसी लाइटों में बदल दिया गया है।

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

17 जनवरी 2018

Related Videos

आजादी का क्रेडिट बापू को देने पर खट्टर के मंत्री को है ये ऐतराज

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज एक बार फिर से अपने बयान को लेकर विवादों में घिर गए हैं।

20 नवंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper