रोडवेज यूनियन और समिति बस संचालक आमने-सामने

Ambala Updated Fri, 09 Nov 2012 12:00 PM IST
अंबाला। रोडवेज यूनियन और सहकारी समिति बस संचालकों का विवाद अधिकारियों की सुस्ती के चलते और गहरा गया। भड़के रोडवेज यूनियन के कर्मचारियों ने बृहस्पतिवार शाम से बसों का चक्का जाम कर जमकर नारेबाजी की। बसें नहीं चलने के कारण यात्रियों को खासी परेशानी हुई। खासतौर पर लोकल यात्रियों को। मामले को सुलझाने के लिए नौ नवंबर को सहकारी समिति संचालकों, अधिकारियों व रोडवेज यूनियन के बीच बैठक होगी। इसी बैठक मेें जो निर्णय लिया जाएगा, उस पर कार्रवाई की जाएगी।
रोडवेज यूनियन इस बात का विरोध कर रही है कि सहकारी समिति की बसों को कैंट बस स्टैंड पर काउंटर टाइम अलाट न किया जाए। आरटीए समिति बसों का काउंटर टाइम रद करें और ये बसें बाहर से सवारियां न उठाएं। यूनियन का दावा है कि यह काउंटर टाइम नियम के खिलाफ दिए गए हैं। इससे रोडवेज को खासा नुकसान हो रहा है। इसी के चलते वीरवार को रोडवेज कर्मचारी यूनियन ने शहर वर्कशॉप में गेट का ताला लगा दिया। बसों को वर्कशॉप के भीतर ही रोक दिया गया। यूनियन का कहना है कि शुक्रवार को भी बसों को चलने नहीं दिया जाएगा, जब तक यूनियन की मांग को पूरा नहीं किया जाता।
उधर, सहकारी समिति बस संचालकों ने भी वीरवार को कैंट बस स्टैंड पर बैठक की और इस मुद्दे पर विचार विमर्श किया। है। समिति का कहना है कि रोडवेज यूनियन पूरी तरह धक्केशाही पर उतरी है, जबकि आरटीए के माध्यम से जो भी काउंटर टाइम मिले हैं, उसके आधार पर ही बसों में बस स्टैंड के काउंटर से सवारियां उठाई जा रही हैं।
उधर, यूनियन द्वारा रोडवेज बसों का चक्का जाम करने के कारण यात्रियों को खासी परेशानी हुई। कैथल की ओर जाने वाली बसें रोक दी गई, जबकि जो बसें भीतर थी, उन्हें बाहर नहीं जाने दिया गया। इसी कारण सड़कों पर बसें नहीं मिली और सवारियां खासी परेशान रहीं।

विवाद सुलझाने को बैठक आज
अंबाला। एक ओर जहां रोडवेज यूनियन ने वीरवार को ही चक्का जाम कर दिया, वहीं कैंट में परिवहन समिति संचालक यूनियन के खिलाफ लामबंद हो चुके हैं। समिति संचालकों ने 9 नवंबर को डीसी कार्यालय पर बसों को खड़ा कर प्रदर्शन करना था, लेकिन आरटीए के आश्वासन पर फिलहाल इसे स्थगित कर दिया गया है। हालांकि पहले भी इसी मुद्दे पर बैठकें हो चुकी हैं, लेकिन इसका हल अभी तक नहीं निकला है। इन्हीं सब के बीच एक बार फिर से आरटीए विभाग ने बैठक का पेच फंसा दिया है। आरटीए विभाग की मानें, तो एक बार फिर से शुक्रवार को समिति और यूनियन की बैठक बुलाई गई है। इस बैठक में ही इस विवाद का हल निकाला जाएगा।

‘काउंटर टाइम को लेकर अधिकारी पूरी तरह से मनमानी कर रहे हैं। समिति की बसों को काउंटर टाइम नहीं दिए जा सकते हैं, जिसके बारे में पहले भी चेताया गया था। लेकिन अब जब कार्रवाई नहीं हो रही, तो इसी कारण से चक्का जाम किया गया है।’
- जयवीर सिंह, प्रधान रोडवेज कर्मचारी यूनियन
-------------------

‘परिवहन समिति संचालकों को आरटीए की ओर से काउंटर टाइम दिए गए हैं। इस पर किसी को विवाद नहीं होना चाहिए। यूनियन इस मामले में जबरदस्ती कर रही है। इस संबंध में समिति ने अपना विरोध प्रदर्शन फिलहाल स्थगित कर दिया है। आरटीए, रोडवेज अधिकारियों की मौजूदगी में बैठक होगी, जिसके बाद आगामी निर्णय लिया जाएगा।’
- सुरेंद्र राजू, प्रवक्ता दी अंबाला सहकारी परिवहन कल्याण संघ

‘यूनियन व समिति संचालकों की बैठक शुक्रवार को बुलाई गई है। इस बैठक में दोनों पक्षों को बिठाकर अधिकारियों के समक्ष बातचीत होगी। इस बैठक में जो भी निर्णय होगा, उसी पर कार्रवाई की जाएगी।’
- कुलदीप बख्शी, सहायक सचिव आरटीए अंबाला

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

आजादी का क्रेडिट बापू को देने पर खट्टर के मंत्री को है ये ऐतराज

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज एक बार फिर से अपने बयान को लेकर विवादों में घिर गए हैं।

20 नवंबर 2017