सेमिनार आयोजित कर विद्यार्थियाें को बनाएं जागरूक

Ambala Updated Tue, 09 Oct 2012 12:00 PM IST
अंबाला। स्त्री के प्रति सम्मान को बढ़ावा दिया जाए। पुलिस और पब्लिक का सहयोग होना बहुत जरूरी है। युवा पीढ़ी में गिरते संस्कारों के कारण ही छेड़छाड़ जैसी शर्मनाक घटनाएं होती हैं। बुद्धिजीवियों की मानें तो युवापीढ़ी को संस्कारवान बनाया जाए। टीनएजर और स्कूल गोइंग बच्चों को सेमिनार और कार्यक्रम आयोजित कर जागरूक किया जाए।

‘आज की युवा पीढ़ी में संस्कारों की बहुत कमी है। गिरते संस्काराें की वजह से ही युवा छेड़छाड़ जैसी घटनाओं को अंजाम देते हैं। स्कूल और कालेज में सेमिनार और कार्यक्रम आयोजित कर युवा पीढ़ी को जागरूक किया जाए। पुलिस की पेट्रोलिंग स्कूल और कालेज के बाहर अधिक होनी चाहिए।’
- सुमन साहनी, लेक्चरर, राजकीय सीनियर सेकेंडरी स्कूल, बारह क्रास रोड

‘लड़कियां खुद को कमजोर न समझें। यदि उनके साथ ऐसी कोई घटना होती हैं तो तुरंत अपने अभिभावकों को बताएं। अभिभावकों को अपने बच्चों का सहयोग करते हुए पुलिस को शिकायत देनी चाहिए।’
- शिल्पा पासी, छात्रा, राजकीय सीसे स्कूल

‘छात्राओं को मानसिक और शारीरिक रूप से मजबूत होना चाहिए। खुद को एक्टिव रखें। यदि उन्हें कोई भी संदेहात्मक मनचला लड़का नजर आता है तो तुरंत महिला सेल या पुलिस को फोन पर शिकायत दें।’
- शानू गुप्ता, छात्रा, राजकीय सीसे स्कूल

‘पुलिस की गश्त को बढ़ाया जाना चाहिए। हमारी पुलिस को बहुत ज्यादा एक्टिव होना चाहिए। घटना होते ही पुलिस को तुरंत घटनास्थल पर पहुंचना चाहिए। ताकि अपराध करने वालों को तुरंत पकड़ा जा सके। समाज के लोगों को भी बहादुरी दिखाते हुए लड़कियों के बचाव के लिए आगे आना चाहिए।’
- पूजा रानी, छात्रा, राजकीय सीसे स्कूल


‘अपराध की सूचना दें, मदद को पुलिस तैयार’
- छावनी के जीएमएन कालेज में महिलाआें के खिलाफ अपराध विषय पर सेमिनार
- कालेज की लीगल लिटरेसी सेल, एनसीसी, एनएसएस वुमन सेल ने किया आयोजन

अंबाला। छात्राओं और महिलाओं के साथ हो रही छेड़छाड़ और अपराध के खिलाफ अमर उजाला की चलाई गई मुहिम धीरे-धीरे रंग ला रही है। इसी के तहत सोमवार को छावनी के जीएमएन कालेज में ‘महिलाओं के खिलाफ अपराध’ विषय पर सेमिनार का आयोजन किया गया। इसका आयोजन कालेज की लीगल लिटरेसी सेल, एनसीसी, एनएसएस वुमन सेल ने किया। इस दौरान एसएचओ अंबाला सतपाल सिंह, एएसआई मेवा देवी ट्रैफिक पुलिस सहित कई अन्य मौजूद रहे।
सेमिनार को संबोधित करते हुए एसीपी बलजिंदर सिंह ने कहा कि महिलाओं के प्रति हो रहे अपराध से बचाव के लिए पुलिस हमेशा महिलाओं की मदद को तैयार है। बस एक बार पुलिस को ऐसे अपराधियों की सूचना अवश्य दें। एसीपी ने कहा कि महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों को छिपाना नहीं बल्कि समाज के सामने लाना चाहिए ताकि पुलिस इन अपराधियों पर शिकंजा कस सके।
एसएचओ सतपाल सिंह ने कहा कि अपराध के बाद या अपराध होने की सबसे पहले सूचना पुलिस को अवश्य दें। इससे अपराधी और अपराध दोनों पर अंकुश लगाया जा सकता है। वुमन सेल की एसआई सीमा ने कहा कि किसी भी प्रकार की घरेलू हिंसा, दहेज उत्पीड़न और अन्य शोषण के खिलाफ आवाज उठानी होगी। यदि कोई इन अपराधों का शिकार होती है, तो 100 नंबर पर डायल कर जानकारी दें या फिर अपने निकटतम थाने अथवा चौकी में जाकर इसकी शिकायत दें, ताकि समय पर कार्रवाई हो सके।
एएसआई ट्रैफिक पुलिस मेवा देवी ने ट्रैफिक नियमों की पालना का आह्वान किया। मनोविशेषज्ञ प्रो. सज्जन सिंह ने महिलाओं को निर्भीक बनने की बात की। कालेज प्राचार्य डा. आरआर मलिक ने कहा कि आज के दौर में विद्यार्थियों को कोई भी निर्णय सोच समझकर लेना चाहिए और अपनी ऊर्जा सकारात्मक कार्यों में लगानी चाहिए। इस मौके पर डा. अर्चना कटारिया, डा. गीता सलवान, डा. सुषमा शर्मा, डा. एसएस नैन, केके पूनिया, कमलेश कुमारी, डा. पिय्रंका, ब्रिजेश कुमार, डा. अमित कुमार, सुरीजत सिंह मौजूद रहे।

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

आप विधायकों को हाईकोर्ट ने भी नहीं दी राहत, अब सोमवार को होगी सुनवाई

लाभ के पद के मामले में चुनाव आयोग ने आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों को अयोग्य घोषित करने के मामले में अब सोमवार को होगी सुनवाई।

19 जनवरी 2018

Related Videos

आजादी का क्रेडिट बापू को देने पर खट्टर के मंत्री को है ये ऐतराज

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज एक बार फिर से अपने बयान को लेकर विवादों में घिर गए हैं।

20 नवंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper