विज्ञापन
विज्ञापन
आपकी जन्मकुंडली दूर करेगी आपके जीवन का कष्ट
Janam Kundali

आपकी जन्मकुंडली दूर करेगी आपके जीवन का कष्ट

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

आज 59 बूथों पर लगेगा कोरोना का टीका, रेलवे और एम्स में लगेगा कोवैक्सीन

गोरखपुर जिले में बृहस्पतिवार को कोरोना का वैक्सीन 59 बूथों पर लगाया जाएगा। जिसकी तैयारियों पूरी कर ली गई है। इस बार 100 की बजाय 125 स्वास्थ्यकर्मियों का वैक्सीनेशन होगा। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) और ललित नारायण मिश्र रेलवे अस्पताल में पहली बार टीकाकरण की शुरुआत की जाएगी।

दोनों अस्पतालों में कोवैक्सीन लगाई जाएगी। सभी स्वास्थ्यकर्मियों से टीका लगवाने को कहा गया है। टीका नहीं लगवाने वालों को शासन के निर्देश पर बाद में ही अवसर मिल पाएगा। बृहस्पतिवार को प्रथम चरण के तीसरे दिन का टीकाकरण होगा।

बाबा राघवदास मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पताल, जिला महिला अस्पताल के साथ ही निजी क्षेत्र के गुरु गोरक्षनाथ चिकित्सालय, फातिमा अस्पताल, शाही ग्लोबल अस्पताल, सावित्री हॉस्पिटल, होप पनेशिया आदि में भी बूथ बनाया गया है। अभी तकरीबन 24 हजार स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाया जाना है।

 
... और पढ़ें
भारत में कोरोना टीकाकरण भारत में कोरोना टीकाकरण

गोरखपुरः राम मंदिर निर्माण के लिए उद्योगपतियों ने खोला खजाना, नौ करोड़ जुटाए

गोरक्षपीठाधीश्वर व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल पर शहर के उद्योगपतियों ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए बुधवार को खजाना खोल दिया है। मुख्यमंत्री की मौजूदगी में ही करीब नौ करोड़ रुपये की सहयोग जुटाई है। एक करोड़ रुपये की सहायता राशि गोरखनाथ मंदिर की तरफ से दी गई है। गोरक्षपीठाधीश्वर ने ही श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के नाम से बना चेक  ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय को सौंपा है।  

श्रीराम जन्मभूमि निधि समर्पण अभियान का सिलसिला बुधवार को भी जारी रहा है। इसी सिलसिले में गोरखनाथ मंदिर परिसर में कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसमें श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय और आरएसएस के प्रांत प्रचारक ने भी हिस्सा लिया। शहर के प्रमुख उद्योगपतियों के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को राष्ट्रीय गौरव बताया। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी पीढ़ी सौभाग्यशाली है। राम मंदिर निर्माण के साथ ही भारतीय संस्कृति की पुर्नस्थापना हो रही है। 

इसमें समाज के हर व्यक्ति को बढ़-चढ़कर हिस्सा लेना चाहिए। भविष्य में अयोध्या पर्यटन का सबसे बड़ा केंद्र बनेगा। भाजपा सरकार अयोध्या का चहुंमुखी विकास कर रही है। इसी का नतीजा रहा कि शहर के प्रमुख उद्योगपतियों ने खजाना खोल दिया और मुख्यमंत्री की मौजूदगी में ही राम मंदिर निर्माण के लिए स्वेच्छा से दान किया। कार्यक्रम का संचालन एमपी पीजी कॉलेज के प्राचार्य डॉ. प्रदीप राव ने किया। इस मौके पर मेयर सीताराम जायसवाल, भाजपा के क्षेत्रीय अध्यक्ष डॉ धर्मेंद्र सिंह और विधायक विपिन सिंह मौजूद रहे। 

शुद्ध प्लस समूह ने दिए एक करोड़ 52 लाख   
शुद्ध प्लस समूह व नाइन सेनेटरी के निदेशक अमर तुलस्यान ने एक करोड़ 52 लाख रुपये की सहयोग राशि दी है। आरएसएस गोरक्ष प्रांत के प्रचार विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक अमर तुलस्यान ने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के नाम से बना चेक ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय को सौंपा है।

आईजीएल ने एक करोड़ 11 लाख दिए 
आईजीएल की ओर से राम मंदिर निर्माण के लिए एक करोड़ 11 लाख ग्यारह हजार एक सौ ग्यारह रुपये की सहायता राशि दी गई है। आईजीएल के बिजनेस हेड एसके शुक्ल ने गोरखनाथ मंदिर जाकर श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय को चेक सौंपा है। बिजनेस हेड के मुताबिक कंपनी के अधिकारी व कर्मचारियों ने भी सहयोग राशि जुटाई है। इसका चेक मुख्यमंत्री को दिया गया है।

गैलेंट समूह ने एक करोड़ एक लाख का ग्यारह हजार का चेक दिया 
 गैलेंट इस्पात प्राइवेट लिमिटेड की ओर एक करोड़ एक लाख ग्यारह हजार एक सौ ग्यारह रुपये की सहयोग राशि दी गई। गैलेंट समूह के प्रबंध निदेशक चंद्रप्रकाश अग्रवाल व मुख्य कार्यकारी अधिकारी मयंक अग्रवाल ने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के नाम से बना चेक ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय को सौंपा है। प्रबंध निदेशक ने कहा कि राम मंदिर से करोड़ों भारतीयों की आस्था जुड़ी है। यह बहुत छोटा सहयोग है। प्रबंध निदेशक ने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय को मंदिर परिसर में श्रद्धालुओें के लिए निशुल्क प्रसाद की व्यवस्था का सुझाव दिया। उनका कहना है कि चंपत राय ने भी इसपर सहमति व्यक्त की है।     

अंकुर उद्योग ने एक करोड़ एक लाख की मदद दी
अंकुर उद्योग के निदेशक अशोक जालान ने एक करोड़ एक लाख रुपये की सहायता राशि दी है। इसमें से एक लाख रुपये का चेक अशोक के नौ वर्षीय पोते वेदांत ने दान किया है। वेदांत ने ही श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के नाम से बना चेक ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय को सौंपा है। 

ओम प्रकाश ने 32 लाख तो शंभू शाह ने 31 लाख दिए
जालान कान कास्ट के प्रबंध निदेशक ओम प्रकाश जालान ने राम मंदिर निर्माण के लिए 32 लाख रुपये की सहायता राशि दी है। कंपनी के निदेशक तनुज जालान के साथ आए प्रबंध निदेशक ने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के नाम से बना चेक सौंपा है। समाजसेवी व सूरत साड़ी के शंभू शाह ने 31 लाख रुपये का चेक दिया है। आरपीएम एकेडमी समूह के प्रबंध निदेशक अजय शाही व निदेशक आराधना शाही की ओर से दूसरी बार एक लाख एक हजार रुपये की सहयोग राशि दी गई है। इससे पहले भी एक लाख ग्यारह हजार एक सौ एक रुपये की सहयोग राशि दी गई थी। मेयर सीताराम जायसवाल ने भी दूसरी बार सहयोग राशि दी है। पहले एक लाख ग्यारह हजार का चेक दिया था। इस बार एक लाख 25 हजार रुपये की मदद की है।  
 
मार्ग दर्शक मंडल में हैं गोरक्षपीठाधीश्वर 
श्रीराम जन्मभूमि निधि समर्पण अभियान के लिए आरएसएस गोरक्ष प्रांत से मार्गदर्शक मंडल की जो सूची बनाई गई है, उसमें गोरक्षपीठाधीश्वर व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का भी नाम है। गोरखनाथ मंदिर के मुख्य पुजारी कमलनाथ भी इस मंडल के सदस्य हैं।
... और पढ़ें

राम मंदिर निधि समर्पण अभियान की बैठक हुई समाप्त, सीएम योगी बोले- 'अयोध्या बनेगा देश का सबसे बड़ा पर्यटक स्थल'

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को गोरखपुर में कहा कि अयोध्या देश का सबसे बड़ा पर्यटक स्थल बनेगा। राम मंदिर का निर्माण शुरू हो गया है। इसके विस्तार और विकास के लिए व्यापक कार्य योजना बनाई गई है।

उन्होंने कहा कि श्रीराम मंदिर आंदोलन से गोरक्ष पीठ का गहरा नाता रहा है। ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ और ब्रह्मलीन महंत अवेधनाथ राम मंदिर आंदोलन के लिए अपने पूरे जीवन काल में सक्रिय रहे। ब्रह्मलीन महंत अवेधनाथ ने जन्मभूमि संघर्ष समिति के अध्यक्ष रहते हुए इस आंदोलन को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत सरकार ने मंदिर निर्माण के लिए एक रुपये से इसकी शुरुआत की है। अयोध्या के विकास को लेकर व्यापक कार्ययोजना को मूर्त रूप दिया जा रहा है। आने वाले दिनों में अयोध्या देश का न सिर्फ सबसे बड़ा तीर्थ स्थल होगा बल्कि सबसे आकर्षक पर्यटक स्थल के रूप में भी सामने आएगा।

सीएम योगी अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए बुधवार को गोरखनाथ मंदिर के तिलक हाल में राम मंदिर निधि समर्पण अभियान की बैठक को संबोधित करते हुए ये बातें कहीं।

वहीं श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण 36 से 39 महीने में पूरा हो जाएगा। आईआईटी के वैज्ञानिकों व इंजीनियरों की देखरेख में मलबा हटाने का काम चल रहा है। पूरा क्षेत्र मलबे से पटा है। कोई दूसरी बाधा नहीं है।

चंपत राय ने कहा कि जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण में किसी तरह की बाधा नहीं है। आईआईटी के वैज्ञानिकों व इंजीनियरों ने अध्ययन किया है। इससे पता चला कि 400 फुट लंबे, 150 मीटर चौड़े और 12 मीटर की गहराई तक मलबा है। इसे हटाने के साथ ही नींव की संरचना की जा रही है।

उन्होंने कहा कि निर्धारित समय से मंदिर का निर्माण पूरा हो जाएगा। यह राष्ट्र मंदिर है। लिहाजा, देशवासी बढ़-चढ़कर योगदान कर रहे हैं। देश की पांच लाख ग्राम पंचायतों, शहर के वार्ड, कस्बा व मोहल्लों से लोग आगे आ रहे हैं। ऐसा लगता है कि देश की आधी आबादी मंदिर निर्माण से जुड़ेगी।

 
... और पढ़ें

भाजपा सांसद कमलेश पासवान को कोर्ट ने सुनाई एक साल कारावास की सजा, 16 साल पुराना है मामला

रेलवे की संपत्ति को क्षति पहुंचाने के मामले में कोर्ट ने सांसद कमलेश पासवान और पूर्व पार्षद राजेश कुमार यादव को एक-एक साल कारावास की सजा सुनाई है। अपर सत्र न्यायाधीश नम्रता अग्रवाल ने जुर्म सिद्ध पाए जाने पर यह फैसला सुनाया।

दोनों अभियुक्तों पर दो-दो हजार रुपये अर्थदंड भी लगाया गया है। अर्थदंड न अदा करने पर अभियुक्तों को सात दिन का कारावास अलग से भुगतना होगा। घटना वर्ष 2004 की है। तब कमलेश पासवान तत्कालीन मानीराम विधानसभा क्षेत्र से सपा विधायक थे।    

अभियोजन पक्ष की ओर से विशेष लोक अभियोजक शैलेश कुमार त्रिपाठी ने बताया कि घटना 18 दिसंबर 2004 की है। ट्रेन संख्या 222 डाउन नकहा जंगल स्टेशन से दिन में 9:33 बजे के बाद जैसे ही किमी संख्या 04/01 पर पहुंची तो अभियुक्त कमलेश पासवान और राजेश कुमार यादव ने अपने 50-60 समर्थकों के साथ लाइन पर जाम लगा दिया।

आंदोलनकारियों ने लाइन पर लेटकर ट्रेन रोक दी। ट्रेन 11: 35 बजे तक घटनास्थल पर रुकी रही। पुलिस, रेलवे सुरक्षा बल और अधिकारियों के पहुंचने के बाद भी आंदोलनकारी रेलवे लाइन से नहीं हटे। तब क्षेत्रीय प्रबंधक गोरखपुर मौके पर पहुंचे तो उनसे वार्ता कर अभियुक्तों ने उन्हें ज्ञापन सौंपा और आंदोलनकारियों को लाइन से हटने का निर्देश दिया। तब जाकर ट्रेन का संचलन शुरू हुआ।
 
... और पढ़ें

गो सेवा आयोग के उपाध्यक्ष पर दर्ज मुकदमा होगा वापस, इस वजह से हुई थी एफआईआर

सांसद कमलेश पासवान।
कुशीनगर में 12 अप्रैल 2015 में रामकोला के तत्कालीन विधायक और वर्तमान में गो सेवा आयोग उत्तर प्रदेश के उपाध्यक्ष अतुल सिंह पर हाटा कोतवाली में दर्ज केस वापस होगा।

बुधवार को विशेष न्यायालय (एमपी-एमएलए) कुशीनगर ने इसे वापस लेने का आदेश जारी कर दिया। नेशनल हाइवे स्थित कसया-गोरखपुर मार्ग जाम कर धरना प्रदर्शन करने के आरोप में उन पर मुकदमा दर्ज हुआ था। अब यह मुकदमा विशेष न्यायालय (एमपी-एमएलए) के न्यायालय में चल रहा था।

जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी जीपी यादव ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार के निर्देश पर लोक अभियोजन के तौर पर उन्हें अतुल सिंह पर दर्ज मुकदमा वापस कराने के लिए सरकार की तरफ से आदेशित किया गया था।

25 जनवरी को इस मुकदमे में सुनवाई हुई थी। परिस्थितियों, विधिक उपबंधों तथा अनुसचिव उत्तर प्रदेश के निर्देश के क्रम में उनका प्रार्थना पत्र स्वीकार किया गया था।

विशेष न्यायाधीश (एससी-एसटी एक्ट) एवं विशेष न्यायाधीश (एमपी-एमएलए) शालिनी सागर ने बुधवार को मुकदमा वापस लिए जाने की अनुमति दे दी।
 

 
... और पढ़ें

सीएम योगी का निर्देश, शहीद स्मारकों पर साल भर तक हर माह होंगे कार्यक्रम, दीवारों पर बनाएं क्रांतिकारियों की पेंटिंग

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि चौरीचौरा शताब्दी समारोह के तहत पूरे प्रदेश में साल भर तक कार्यक्रम होंगे। इस दौरान प्रत्येक जिले के सभी शहीद स्थलों पर माह में एक बार जरूर कार्यक्रम आयोजित किए जाएं और यह भी सुनिश्चित किया जाए कि इन कार्यक्रमों में ज्यादा से ज्यादा जन सहभागिता हो। साथ ही सप्ताह में एक दिन शहीद स्मारकों पर पुलिस बैंड भी अपना कार्यक्रम करें।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को चौरीचौरा शहीद स्मारक का निरीक्षण करने के बाद अफसरों के साथ बैठक कर चार फरवरी को वहां होने वाले मुख्य कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने निर्देश दिए कि चौरीचौरा शहीद स्मारक की दीवारों पर चौरीचौरा आंदोलन से जुड़े क्रांतिकारियों के चित्र बनाए जाएं। साथ ही स्वतंत्रता आंदोलन से जुड़े इतिहास एवं साहित्य को संग्रहित कर प्रकाशित करने के साथ ही उनका डिजिटलाइजेशन करने को भी कहा।

इसी तरह उन्होंने स्मारक के सामने रेलवे की भूमि को शहीद पार्क के रूप में विकसित करने और शहीद स्मारक स्थल तक आने वाली सड़क की तत्काल मरम्मत के निर्देश दिए। रेलवे लाइन के आसपास एवं शहीद स्थल तक आने वाली सड़क पर विशेष सफाई व्यवस्था सुनिश्चित करने को भी कहा।

 
... और पढ़ें

सीएम योगी ने 3.42 लाख लोगों को दी बड़ी सौगात, बोले- रोटी,कपड़ा और मकान के नारों को हकीकत में बदला

गोरखपुर शहर में खुद के आशियाने का सपना संजोने वाले जरूरतमंदों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को एक बड़ी सौगात दी। गोरखपुर के सर्किट हाउस स्थित एनेक्सी भवन में आयोजित एक कार्यक्रम के जरिए उन्होंने प्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के 3 लाख 42 हजार 322 लाभार्थियों के खातों में 2409 करोड़ रुपये की धनराशि ऑनलाइन भेजी।   

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व की सरकारों में रोटी, कपड़ा और मकान महज एक नारा था, वर्तमान केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार में यह गारंटी है। हर व्यक्ति को मकान की गारंटी के साथ ही रोटी और उसके आजीविका के इंतजाम की गारंटी केंद्र व प्रदेश सरकार दे रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सब इसलिए संभव हो सका क्योंकि जनता ने केंद्र व उत्तर प्रदेश की सरकार को अपार समर्थन दिया। योगी ने कहा कि 2017 के पहले तक प्रधानमंत्री आवास योजना में उत्तर प्रदेश का देश में 27वां स्थान था। जरूरतमंदों को इस योजना का लाभ ही नहीं मिल पा रहा था। 2017 में प्रदेश में भी भाजपा की सरकार बनी तो उन्होंने युद्धस्तर पर कार्य कर तीन साल में इस योजना में प्रदेश को नंबर वन बना दिया।

मुख्यमंत्री ने बताया कि अब तक प्रदेश के शहरी क्षेत्र में 16.82 लाख से अधिक तथा ग्रामीण क्षेत्र में 23 लाख से अधिक लोगों को प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिया जा चुका है। यह सब ईमानदारी से की गई चयन प्रक्रिया से मात्र तीन साल में हुआ, बिना किसी सिफारिश, बिना रिश्वत और बिना इंतजार के।

उन्होंने कहा कि पीएम मोदी की मंशा के अनुरूप सबके लिए आवास के लक्ष्य को 2022 तक हासिल कर लिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि शहरी क्षेत्र में इस योजना के तहत 2.5 लाख की सहायता दी जाती है। 1.50 लाख रुपये केंद्र सरकार देती है और 1 लाख राज्य सरकार। इसके लिए हर वह व्यक्ति पात्र है जिसके पास शहर में अपनी जमीन है और सालाना आय तीन लाख रुपये से कम है।
 
... और पढ़ें

यूपी: कुशीनगर में दिनदहाड़े बदमाशों ने तड़तड़ाईं गोलियां, तीन युवक घायल, दो की हालत गंभीर

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले में कप्तानगंज थाना क्षेत्र के सुधियानी और मेहड़ा गांव के बीच बुधवार शाम को हुई फायरिंग से तीन युवक गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्हें गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। यहां से दो की हालत डॉक्टरों ने पीजीआई लखनऊ रेफर कर दिया। घटना के बाद ग्रामीणों ने हमलावरों में एक को पकड़ लिया। पिटाई के बाद कप्तानगंज थाने की पुलिस को सौंप दिया।

एसपी विनोद कुमार सिंह ने बताया कि बुधवार दोपहर करीब साढ़े तीन बजे यह घटना सुधियानी और मेहड़ा गांव के बीच हुई। कप्तानगंज थाना क्षेत्र के साखोपार निवासी आदित्य मिश्र, कप्तानगंज कस्बे के निवासी आयुष्मान सिंह और अनीश कुशवाहा फायरिंग में घायल हुए हैं। गंभीर हालत में आदित्य मिश्र और आयुष्मान को एसजीपीजीआई  रेफर कर दिया गया है। अनीश का मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा है।

एसपी ने बताया कि गोली चलाने का आरोप कप्तानगंज थाना क्षेत्र के सोहनी गांव के निवासी गोपाल दूबे और कप्तानगंज कस्बे के राहुल पासवान पर लगा है। नाराज ग्रामीणों के दौड़ाने पर गोपाल तो भाग निकला, लेकिन राहुल पकड़ लिया गया।

ग्रामीणों की पिटाई से वह घायल है। उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। एसपी ने बताया कि पूछताछ में पता चला है कि हमलावरों ने फायरिंग प्रेम संबंध के खिलाफ की है। इस मामले में मुकदमा दर्ज कर विधिक कार्रवाई की जा रही है। इन सभी की उम्र 20 से 22 वर्ष के बीच है।
... और पढ़ें

यूपी: हाईवे पर फेंकी मिली बिहार परीक्षा समिति की ओएमआर सीट, जांच में जुटी पुलिस

उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां मुंडेरवा थानाक्षेत्र के परसा हज्जाम पुल से पहले गोरखपुर-बस्ती फोरलेन पर बिहार विद्यालय परीक्षा समिति इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा-2020 की ओएमआर की सैकड़ों प्रतियां बिखरी हुई मिलीं।

हालांकि इसके यहां तक पहुंचने के बारे में पता चला है कि कुछ लोगों ने वाहन से जाते समय इसे कठिनइया में फेंका था, मगर हवा के कारण यह बिखर गया।

जानकारी के अनुसार ओआरएम सीट पर अलग-अलग नाम व रोल नंबर अंकित हैं। तीन पन्नों वाली बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड (सीनियर सेकंडरी), पटना प्रेक्टिकल मॉर्क्स, फाइल ऑफिस कॉपी भी मिली है। इस पर परीक्षार्थियों के रोल नंबर और प्रेक्टिकल में मिले नंबर भी अंकित हैं।

कुछ लोगों का कहना है कि इसी तरह परीक्षाओं में फेरबदल किया जाता है और सबूत को मिटाने के लिए दूरदराज के क्षेत्रों में फेंक दिया जाता है। उनका कहना है यदि ये बेकार थी तो बिहार में किसी जगह पर ठिकाने लगाया जा सकता था। सैकड़ों किमी की दूरी बस्ती जिले में सुनसान जगह पर ओएमआर सीट फेंकने का ग्रामीण अलग-अलग तरह से निहितार्थ लगा रहे हैं।  

मुंडेरवा के थानाध्यक्ष अनिल सिंह ने कहा कि ओएमआर सीट को कब्जे में ले लिया गया है। अभी यह नहीं पता चल सका है कि इसे यहां किसने और क्यों भेजा है। इस मामले में जांच कर विधिक कार्रवाई की जा रही है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X