लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Gorakhpur News ›   Budget 2023 Appeal of women of Gorakhpur

Budget 2023: गोरखपुर की महिलाओं की अपील, वित्तमंत्री जी! आप महिला हैं, समझ सकती हैं हमारी समस्याएं

संवाद न्यूज एजेंसी गोरखपुर। Published by: vivek shukla Updated Mon, 30 Jan 2023 02:47 PM IST
सार

एक फरवरी को पेश होने वाले आम बजट से उन्हें काफी उम्मीदें हैं। उनका कहना है कि महंगाई पर राहत के उपायों के साथ बजट में महिलाओं की सुरक्षा के लिए भी कुछ विशेष एलान किए जाने की उम्मीद है।

Budget 2023 Appeal of women of Gorakhpur
बजट 2023 - फोटो : अमर उजाला।

विस्तार

वित्तमंत्री जी! आप महिला हैं, इसलिए हमारी समस्याएं आपसे छिपी नहीं हैं। किचन का बजट असंतुलित होता जा रहा है। इसको व्यवस्थित करने में काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। ऐसे में उम्मीद है कि आप इसबार के बजट में किचन का खास ख्याल रखेंगी। बजट में महिला सुरक्षा के लिए प्रावधान होंगे, इसकी भी उम्मीद है।



यह कहना है शहर की महिलाओं का। एक फरवरी को पेश होने वाले आम बजट से उन्हें काफी उम्मीदें हैं। उनका कहना है कि महंगाई पर राहत के उपायों के साथ बजट में महिलाओं की सुरक्षा के लिए भी कुछ विशेष एलान किए जाने की उम्मीद है।


 

महिलाओं की सुरक्षा के लिए सख्त कानून बने
महिला सुरक्षा को लेकर सरकार ने काफी कुछ किया है, लेकिन अभी बहुत कुछ करने की जरूरत है। महिला सुरक्षा के लिए सख्त कानून बने। सरकार को ऐसा कुछ करना चाहिए, ताकि बेटी के घर के बाहर जाने पर माता-पिता को उसके आने तक मन में कोई भय ना रहे। - सविता टिबड़ेवाल, बेतियाहाता



 
घर चलाना मुश्किल, महंगाई पर लगाएं अंकुश
सरकार को इस तरह के कदम उठाने चाहिए, जिससे रसोई के खर्चे में कमी आए। दिन प्रतिदिन महंगाई बढ़ती जा रही है। रसोई गैस लगातार महंगा हो रहा है, ऐसे में घर चलाना काफी मुश्किल होता जा रहा है। महंगाई से घर का बजट खराब होते जा रहा है। - खुशबू मोदी, बलदेव प्लाजा

घरेलू सामान की कीमत निर्धारित हो
पिछले एक साल के दौरान कई आवश्यक चीजों की कीमत इतनी ज्यादा बढ़ गई है कि लग रहा है कि सरकार का इसपर नियंत्रण ही नहीं रह गया है। ऐसे में सरकार को चाहिए कि बजट में घरेलू सामान की कीमत निर्धारित कर दी जाए। - रीता मिश्रा, बरगदवां

महिलाओं के लिए लाएं हेल्थ और इंश्योरेंस पॉलिसी
आज के समय में जितना महत्वपूर्ण मुद्दा महंगाई है, उससे ज्यादा स्वास्थ्य और इंश्योरेंस समय की जरूरत है। ऐसे में बजट कुछ ऐसा होना चाहिए कि न सिर्फ महंगाई काबू में रहे, बल्कि लोगों की स्वास्थ्य संबंधी जरूरतों को ध्यान में रखते हुए विशेष प्रावधान किए जाएं। - डॉ. संध्या श्रीवास्तव, राप्तीनगर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

क्षमा करें यह सर्विस उपलब्ध नहीं है कृपया किसी और माध्यम से लॉगिन करने की कोशिश करें

Followed