कार्टून सुनाएंगे 'टीपू का अफसाना', 14 मार्च को लोकार्पण

आलोक पराड़कर/अमर उजाला, लखनऊ Updated Sun, 06 Mar 2016 05:11 PM IST
अखिलेश यादव
अखिलेश यादव - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
यह टीपू का अफसाना है, लेकिन शब्दों में नहीं, रेखाओं से लिखी गई है। रेखाएं भी ऐसी जिनमें कहीं कटाक्ष है तो कहीं सराहना। एक ऐसा अलबम जिनमें व्यंग्य चित्र यादों के पन्ने पलटते हैं, गुदगुदाते हैं और चुटीली टिप्पणी भी करते हैं। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर बनाए गए व्यंग्य चित्रों का संकलन ‘टीपू का अफसाना’ पुस्तक के रूप में जल्द ही उनके प्रशंसकों के सामने होगा।
राजकमल प्रकाशन समूह से आने वाली इस किताब का संपादन अखिलेश की जीवनी ‘टीपू स्टोरी’ लिखने वाले फ्रैंक हुजूर ने किया है। राजकमल के प्रबंध निदेशक अशोक माहेश्वरी कहते हैं, मुख्यमंत्री साहित्य-संस्कृति में तो रुचि रखते ही हैं, कार्टून को भी खास तौर पर पसंद करते हैं। 
जिन कार्टून्स में उन पर तीखा व्यंग्य होता है, उसकी रचनात्मकता को भी वे नजरअंदाज नहीं करते। जो कार्टून उन्हें पसंद आते हैं, उन्हें अपने मोबाइल में सहेजकर रख लेते हैं।

माहेश्वरी कहते हैं, इस पुस्तक में ऐसे कार्टून का चयन किया गया है जो अखिलेश यादव के मुख्यमंत्रित्व काल की गतिविधियों से संबंधित हैं। साथ ही वे इस विधा के श्रेष्ठ नमूने भी हैं। 

पुस्तक का संपादन करने वाले फ्रैंक हुजूर बताते हैं कि इसमें कई ऐसे व्यंग्य चित्र भी हैं जो कहीं प्रकाशित नहीं हुए हैं। उप्र हिंदी संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष उदय प्रताप सिंह ने पुस्तक की भूमिका लिखी है।

14 को होगा लोकार्पण 
पुस्तक का लोकार्पण 14 मार्च को प्रस्तावित है। खुद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव इसका लोकार्पण करेंगे। पहले 6 मार्च को सपा मुख्यालय में इसका लोकार्पण होना था।

RELATED

Spotlight

Related Videos

केदारपुरी में बनी पीएम मोदी की ‘गुफा’ की ये हैं खासियतें

केदारनाथ धाम में पीएम मोदी के निर्देशों के बाद जो गुफा बनाई गई है अब आपको बताते हैं उस गुफा की खासियत।

17 जुलाई 2018

Recommended

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen