लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Entertainment ›   Movie Reviews ›   420 IPC Movie Review in Hindi by Pankaj Shukla ZEE5 Manish Gupta Vinay Pathak Ranvir Shorey

420 IPC Movie Review: जी5 की क्रिएटिव टीम ने फिर लगाया गोता, ग्राहकों को परोसी ‘जॉली एलएलबी’ की घटिया कॉपी

Pankaj Shukla पंकज शुक्ल
Updated Fri, 17 Dec 2021 12:53 PM IST
420 आईपीसी
420 आईपीसी - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
Movie Review
420 आईपीसी
कलाकार
विनय पाठक , रणवीर शौरी , गुल पनाग और रोहन मेहरा
लेखक
मनीष गुप्ता
निर्देशक
मनीष गुप्ता
निर्माता
राजेश केजरीवाल और गुरपाल सचर
ओटीटी
जी5
रेटिंग
1.5/5

हिंदी के दर्शक फॉर्मूला फिल्ममेकिंग दशकों से उलझे हुए हैं। ओटीटी के आने से उम्मीद बंधी थी कि अब बॉक्स ऑफिस का दबाव झेले बिना हिंदी सिनेमा के निर्माता निर्देशक कुछ ओरीजनल फिल्में डिजिटल के लिए बना पाएंगे। लेकिन, मामला यहां कुछ और ही हो गया है। बीते तीन चार साल से ये एक अजीब सा ढर्रा बन गया है कि जो फिल्म बाजार में सिनेमाघरों के लिए बिक न सके, उसे ओटीटी के ग्राहकों को टिका दो। ओटीटी मुफ्त का मीडियम नहीं है। इसके लिए दर्शक एक तयशुदा रकम देता है और ये बात सबसे पहले जिस ओटीटी को भारत में समझनी है वह जी5 है। वैसे तो इसका भविष्य ही सोनी कंपनी के साथ जी कंपनी की हुई डील के बाद अनिश्चित ही है लेकिन सोनी लिव और जी5 दोनों अगर मिल भी जाएंगे तो एक ‘गुल्लक’, एक ‘स्कैम’ या एक ‘राधे’ से उनका भला होने वाला नहीं अगर इनकी क्रिएटिव टीम ‘420 आईपीसी’ जैसी फिल्में अपने ग्राहकों को परोसती रही।



फिल्म ‘420 आईपीसी’ एक टैम्पलेट फिल्म है। यानी कि एक ऐसी फिल्म जिसे चेकलिस्ट के बक्से टिक करके बनाया गया हो। हर ओटीटी को अपनी सामग्री में कुछ कहानियां कानून से जुड़ी चाहिए होती हैं। वूट पर हिट हुए ‘इललीगल’ के सीजन 2 के बाद इनकी मांग और बढ़ने वाली है और जी5 को भी कुछ नहीं सूझा तो वह इस टैम्पलेट की सीरीज की बजाय फिल्म ही ले आए। एक धुरंधर नामी वकील, उसके सामने एक बच्चा सा वकील। बीच में किसी मोटे आसामी का केस और गुनाह का इशारा एक ऐसे शख्स पर जो पहली नजर में निर्दोष ही दिखता हो। कानून पर बन रही सीरीज और फिल्मों का ये मोटा मोटा तयशुदा फॉर्मूला है।

420 आईपीसी
420 आईपीसी - फोटो : ZEE5
विनय पाठक की वजह से देखी गई फिल्म ‘420 आईपीसी’ की भी यही कहानी है। यहां उनका किरदार संदेहों के घेरे में हैं। सरकारी वकील सावक जमशेदजी के किरदार में रणवीर शौरी हैं। नौसिखिया वकील का किरदार रोहन मेहरा को मिला है। और, कुछ कुछ हिंदी फिल्म ‘जॉली एलएलबी’ जैसा मामला सजाने की कोशिश इसके लेखक निर्देशक मनीष गुप्ता करते हैं। फिल्म ‘420 आईपीसी’ की सबसे कमजोर कड़ी भी फिल्म की कथा, पटकथा और निर्देशन ही है। संवाद कहीं से भी किसी कानून पर आधारित फिल्म जैसे चुस्त, चुटीले और चंट नहीं दिखते और कहानी शुरू होती ही भरभरा कर गिर जाती है जब रणवीर शौरी पूरी तरह से ‘जॉली एलएलबी’ के बोमन ईरानी बनने की कोशिश करते नजर आते हैं।

420 आईपीसी
420 आईपीसी - फोटो : ZEE5
फिल्म अभिनय के लिहाज से भी काफी कमजोर फिल्म कही जा सकती है क्योंकि इसमें विनय पाठक को छोड़कर किसी ने भी खास दिलचस्पी के साथ काम किया भी नहीं है। विनय पाठक से पिछली मुलाकात उनकी ही वेब सीरीज ‘स्पेशल ऑप्स’ के दौरान हुई। उनका चीजों को परखने, समझने का अपना एक अलग अंदाज है। टिप्पणियां भी वह यही सोचकर करते हैं कि इससे सामने बैठा शख्स उनको एक पढ़ा लिखा और कढ़ा हुआ अभिनेता समझे। जो कि वह हैं भी, बस कहानियों को चुनने में उनका ये अनुभव काम क्यों नहीं आता, गूढ़ प्रश्न है। अपनी तरफ से विनय पाठक ने अपने किरदार में पूरा जोर लगाया है लेकिन उनके बरसों पुराने साथी रणवीर शौरी फिल्म में तो हैं, पर इस बार उनकी टीम में नहीं हैं।

420 आईपीसी
420 आईपीसी - फोटो : ZEE5
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें Entertainment News से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे Bollywood News, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट Hollywood News और Movie Reviews आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00