विज्ञापन
विज्ञापन

Movie Review: क्रिस-टेसा की जोड़ी का नहीं चला जादू, जानें एमआईबी इंटरनेशनल को कितने मिले स्टार

मुंबई डेस्क, अमर उजाला Updated Fri, 14 Jun 2019 02:54 PM IST
क्रिस हेम्सवर्थ
क्रिस हेम्सवर्थ - फोटो : सोशल मीडिया
ख़बर सुनें
मूवी रिव्यू: मेन इन ब्लैक: इंटरनेशनल
विज्ञापन
विज्ञापन
कलाकार: क्रिस हेम्सवर्थ, टेसा थॉम्प्सन, लियाम नीसन आदि
निर्देशक: एफ गैरी ग्रे
बैनर: सोनी पिक्चर्स एंटरटेनमेंट


हॉलीवुड की एवेंजर्स सीरीज की फिल्मों के भारतीय भाषाओं के संस्करणों ने जिस तरह की रिकॉर्डतोड़ कमाई भारत में की है, उससे अब हर हॉलीवुड प्रोडक्शन को लगने लगा है कि भारत में डब फिल्मों का बाजार बहुत बड़ा है। वाकई ये बाजार बड़ा है भी। लेकिन, इस बाजार के उपभोक्ता सिनेमा समझते हैं और सितारे हों या न हों, अब कहानी पर बहुत ध्यान देते हैं। एवेंजर्स सीरीज की फिल्मों की कामयाबी इनकी कहानियों में, इनके भावुक दृश्यों और इनकी भारत से मिलती जुलती संवेदनाओं में है। मेन इन ब्लैक सीरीज की नवीनतम फिल्म में ये तीनों प्रमुख चीजें गायब हैं और इसीलिए ये सीधी सपाट फिल्म बॉक्स ऑफिस पर औंधे मुंह गिरने जा रही है।

1997 में शुरू हुई मेन इन ब्लैक सीरीज की मेन इन ब्लैक इंटरनेशनल चौथी फिल्म है। अब तक की तीनों फिल्मों के लीड कलाकारों विल स्मिथ और टॉमी ली जोन्स ने भारत में भी अपना अच्छा फैन बेस तैयार किया है। दोनों की कमी इस फिल्म में शिद्दत से महसूस होती है। हॉलीवुड में इन दिनों तकरीबन सारे स्टूडियोज अपनी पुरानी फ्रेंचाइजी या पुरानी हिट फिल्मों के नए संस्करण बना रहे हैं। डिजनी ने अलादीन का जिन फिर से चमकाया। लॉयन किंग भी लाइन में है। सोनी ने मेन इन ब्लैक को थोड़ा समसामयिक बनाने की कोशिश इस फिल्म से की है।

फिल्म मेन इन ब्लैक इंटरनेशनल की काहनी शुरू होती मौली के घर से। एलियन का मौली के घर पर हमला होता है। एमआई एजेंट उसके माता पिता की याददाश्त मिटा देते हैं ताकि उन्हें इसके बारे में कुछ याद न रहे। मौली का अब एक ही मिशन है किसी तरह एमआईबी में दाखिल होना। वह इसमें कामयाब भी होती है। एजेंट ओ बन चुकी मौली अब एजेंट एच के साथ काम करना चाहती है जिसे अकेले ही अपने मिशन पर जाने की आदत है। किसी तरह दोनों की जोड़ी बनती है और वह तमाम नई नई और आकर्षक लोकेशंस पर एलियंस से भिड़ते दिखते हैं।

फिल्म की सबसे कमजोर कड़ी इसकी कहानी है। दूसरे नंबर पर जो दिक्कत फिल्म के लिए घातक रही वह है थोर रैग्नारॉक की इस सुपरहिट जोड़ी के बीच किसी तरह की केमिस्ट्री का न बन पाना। फिल्म के निर्देशक गैरी एलियंस की नई नई प्रजातियां स्पेशल इफेक्ट्स के जरिए विकसित करने में इतने खो गए कि उन्हें शायद ध्यान भी नहीं रहा कि उनकी फिल्म के लीड कलाकार दो इंसान भी हैं।

निर्देशक गैरी ग्रे को युवाओं में लोकप्रिय दो बेहतरीन कलाकार भी मिले लेकिन वह फिल्म में न मानवीय संवेदनाओं जगा पाए और न ही दोनों के बीच किसी तरह का भावुक रिश्ता ही विकसित कर सके। पूरी फिल्म एक ऐसे घुमाव में घूमती रहती है, जहां आने वाले हर मोड़ का अंदाजा दर्शकों को पहले से हो जाता है। अदाकारी के मामले में क्रिस और टेसा दोनों ने काफी मेहनत की है फिल्म को बचाने की लेकिन, निर्देशक का ध्यान अपनी लोकेशंस से दर्शकों को चौंकाने पर ज्यादा दिखा। यहां तक कि लियाम नीसन जैसे कलाकार के संवाद भी बेतुके लगते हैं। एमआईबी के प्रशंसकों को इस फिल्म से निराशा ही हाथ लगती है। अमर उजाला के वीकली मूवी रिव्यू में इस फिल्म को मिलते हैं दो स्टार।

Recommended

करियर के लिए सही शिक्षण संस्थान का चयन है एक चुनौती, सच और दावों की पड़ताल करना जरूरी
Dolphin PG Dehradun

करियर के लिए सही शिक्षण संस्थान का चयन है एक चुनौती, सच और दावों की पड़ताल करना जरूरी

समस्या कैसे भी हो, हमारे ज्योतिषी से पूछें सवाल और पाएं जवाब मात्र 99 रूपये में
Astrology

समस्या कैसे भी हो, हमारे ज्योतिषी से पूछें सवाल और पाएं जवाब मात्र 99 रूपये में

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें मनोरंजन समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे बॉलीवुड न्यूज़, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट हॉलीवुड न्यूज़ और मूवी रिव्यु आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Hollywood

71वें एमी अवार्ड्स के लिए नॉमिनेशन लिस्ट जारी, 'गेम ऑफ थ्रोन्स' ने मचाई धूम

71वें एमी अवार्ड्स ने अपनी नॉमिनेशन की लिस्ट जारी कर दी है। पिछले साल की तरह इस बार भी टीवी शो 'गेम ऑफ थ्रोन्स' की एमी अवार्ड्स धूम मची हुई है।

17 जुलाई 2019

विज्ञापन

अंतरराष्ट्रीय अदालत में पाकिस्तान को झटका, कुलभूषण जाधव की फांसी पर लगी रोक

भारत और पाकिस्तान के बीच लंबे समय से विवाद का विषय बने रहे कुलभूषण जाधव मामले में अंतिम फैसला सुना दिया गया। फैसला भारत के पक्ष में आया है।

17 जुलाई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree