लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Entertainment ›   Bollywood ›   IFFI 2022: The Kashmir Files Controversy Vivek Agnihotri Ranvir Shorey Sudipto Sen on  Nadav Lapid  Criticism

Kashmir Files Controversy: IFFI जूरी हेड के बयान पर बवाल, बोर्ड ने झाड़ा पल्ला तो भड़का इस्राइल, स्वरा का समर्थन

एंटरटेनमेंट डेस्क, अमर उजाला Published by: वर्तिका तोलानी Updated Tue, 29 Nov 2022 07:39 PM IST
द कश्मीर फाइल्स
द कश्मीर फाइल्स - फोटो : सोशल मीडिया
विज्ञापन

एक बार फिर 'द कश्मीर फाइल्स' पर विवाद शुरू हो गया है। नौ महीने पहले सिनेमाघरों में दस्तक देने वाली विवेक अग्निहोत्री की फिल्म एक बार फिर चर्चाओं में आ गई है। दरअसल, हाल ही भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल के ज्यूरी हेड नदव लापिड ने कश्मीरी पंडितों के नरसंहार को सबके सामने उजाकर करने वाली फिल्म को भद्दी और प्रोपेगेंडा पर आधारित फिल्म बताकर एक नई बहस को जन्म दे दिया है। सोशल मीडिया पर फिल्म मेकस के पक्ष और विपक्ष में आवाज उठने लगी है। आइए जानते हैं अनुपम खेर से लेकर विवेक अग्निहोत्री तक किसने क्या कहा...

अनुपम खेर
इस्राइल के फिल्म निर्माता नदव लापिड के बयान की निंदा करते हुए अनुपम खेर ने सोशल मीडिया पर पोस्ट शेयर की है। अभिनेता ने लिखा, 'झूठ का कद कितना भी ऊंचा क्यों ना हो.. सत्य के मुकाबले में हमेशा छोटा ही होता है..'। इतना ही नहीं अभिनेता ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत करते वक्त कहा, 'हम जूरी हेड और इस्राइल के फिल्मकार नादव लापिड को सही तरीके से जवाब देंगे। यहूदी नरसंहार (holocaust) सही है तो कश्मीरी पंडितों का पलायन (exodus) भी सही है। यह टूलकिट गैंग के एक्टिव होने के तुरंत बाद हुआ, लगता है प्री-प्लैंड था। उनके लिए इस तरह का बयान देना शर्मनाक है। एक यहूदी समुदाय से आने वाले, जिसने प्रलय का सामना किया, उसने ऐसा बयान देकर उन लोगों को भी पीड़ा दी है, जिन्होंने कई साल पहले इस त्रासदी को झेला था। ईश्वर उसे सद्बुद्धि दे ताकि वह हजारों-लाखों लोगों की त्रासदी का इस्तेमाल अपने एजेंडे को पूरा करने के लिए न करे।'

IFFI के दूसरे जूरी का बयान
भारत के 53वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के जूरी बोर्ड ने इस्राइल फिल्म निर्माता नादव लापिड द्वारा 'द कश्मीर फाइल्स' पर की गई टिप्पणियों को "उनकी निजी राय" बताते हुए उनसे दूरी बना ली है। जूरी सुदीप्तो सेन ने बोर्ड की तरफ से बयान जारी करते हुए ट्वीट किया। उन्होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक पोस्ट शेयर करते हुए लिखा, “53वें IFFI के समापन समारोह के मंच से जूरी के अध्यक्ष नादव लापिड द्वारा फिल्म 'कश्मीर फाइल्स' के बारे में जो कुछ भी कहा गया है, वह पूरी तरह से उनकी निजी राय थी। जूरी बोर्ड ने आधिकारिक तौर पर कभी भी अपनी पसंद या नापसंद के बारे में कभी कुछ नहीं कहा है।"

स्वरा भास्कर ने जूरी के बयान को बताया सही!
वहीं, बॉलीवुड एक्ट्रेस स्वरा भास्कर IFFI जूरी हेड के पक्ष में सामने आई हैं। अभिनेत्री ने 'द कश्मीर फाइल्स' पर दिए गए बयान को साझा करते हुए लिखा, 'जाहिर तौर पर ये दुनिया के लिए बहुत स्पष्ट है...'।

कश्मीर फाइल्स पर अपने फिल्मकार के बयान पर भड़का इस्राइल
इस्राइल के काउंसिल जनरल कोब्बी शोशानी, आईएफएफआई के जूरी हेड की टिप्पणी पर भड़क गए हैं। उन्होंने जूरी हेड के बयान को गलत बताते हुए कहा, 'जब मैंने फिल्म देखी तो मेरी आंखों से आंसू निकलने लगे थे। यह फिल्म देखना आसान नहीं था। मुझे लगता है कि इसे इस्राइल में भी दिखाया गया था। हम यहूदी हैं, जो भयानक चीजों से पीड़ित हैं और मुझे लगता है कि हमें दूसरों की पीड़ा को समझना होगा।

अशोक पंडित ने भी की निंदा
अशोक पंडित ने भी इस्राइल के फिल्मकार के बयान पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, ‘इस्राइल फिल्मकार नादव लापिड ने 'द कश्मीर फाइल्स' को भद्दी फिल्म बताकर आतंकियों के खिलाफ भारत की लड़ाई का मजाक उड़ाया है। उन्होंने साल लाख कश्मीरी पंडितों का अपमान किया है। यह भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल (IFFI) की विश्वसनीयता के लिए बड़ा झटका है।

 

रणवीर शौरी ने किया कश्मीर फाइल्स का समर्थन
रणवीर शौरी ने लिखा, 'एक फिल्म का वर्णन करने के लिए जूरी द्वारा इस्तेमाल की गई भाषा बेहद गलत थी। इसमें से राजनीति की गंध आ रही है। सिनेमा हमेशा से सच्चाई और बदलाव के मुद्दों पर बनाई गई फिल्मों के लिए जाना जाता है। न कि इसे दबाने के लिए। आईएफएफआई में राजनीतिक अवरसवाद का शर्मनाक प्रदर्शन।'

नादव लापिड के पक्ष में संजय राउत
जहां सभी लोग नादव लापिड के दिए बायन का विरोध कर रहे हैं, वहीं शिव सेना के एमपी संजय राउत उनके पक्ष में बोलते दिखाई दिए हैं। राउत ने कहा कि विवेक अग्निहोत्री द्वारा निर्देशित फिल्म 'द कश्मीर फाइल्स' का राजनीतिकरण किया गया था और इसकी रिलीज के बाद ज्यादा कश्मीरी पंडितों को मार दिया गया। इतना ही नहीं उन्होंने आरोप लगाया कि फिल्म एक पार्टी द्वारा दूसरी के खिलाफ दुष्प्रचार किया गया है। राउत बोले, 'फिल्म का राजनीतिकरण किया गया था और पार्टी और सरकार फिल्म के प्रचार में व्यस्त थी … लेकिन कश्मीर में सबसे ज्यादा हत्याएं इस फिल्म के बाद हुईं। कश्मीरी पंडित और सुरक्षाकर्मी मारे गए। फिल्म के बाद कश्मीरी पंडितों पर हमले बढ़ गए।'
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें मनोरंजन समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे बॉलीवुड न्यूज़, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट हॉलीवुड न्यूज़ और मूवी रिव्यु आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00