सनी लियोनी की फ़िल्म के नाम पर विरोध क्यों? कौन कर सकता है 'कौर' शब्द का इस्तेमाल

बीबीसी हिंदी Updated Sun, 15 Jul 2018 12:07 PM IST
before release Sunny Leone web series in controversy
विज्ञापन
ख़बर सुनें
पूर्व पॉर्न स्टार और बॉलीवुड अभिनेत्री सनी लियोनी के जीवन पर बन रही फिल्म 'करनजीत कौर' रिलीज़ होने से पहले विवादों में घिर गई है।सनी लियोनी के जीवन पर आधारित इस फ़िल्म में उनके बचपन से लेकर उनके पॉर्न स्टार और बॉलीवुड एक्ट्रेस बनने तक का सफ़र दिखाया गया है।
विज्ञापन


बीती 5 जुलाई को फ़िल्म का ट्रेलर रिलीज़ होने के बाद से वीडियो स्ट्रीमिंग वेबसाइट यूट्यूब से लेकर ट्विटर और फ़ेसबुक पर फिल्म के समर्थन से लेकर इसके विरोध में तमाम टिप्पणियां देखने को मिल रही हैं।


ट्विटर यूज़र पवन गोग्ना लिखते हैं कि 'एक पंजाबी सिख लड़की होने के नाते आपने बस अपना ही नहीं, अपने परिवार का नाम भी बर्बाद किया है, एक असफल हुए व्यक्ति की बायोपिक में कोई रुचि नहीं हैं।' लेकिन शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति ने इस फ़िल्म के नाम पर आपत्ति जताते हुए आधिकारिक रूप से इसका विरोध करने का फ़ैसला किया है।

फिल्म में कौर शब्द का इस्तेमाल क्यों?

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति ने फ़िल्म के नाम पर आपत्ति जताते हुए कहा है कि सनी लियोनी ने फ़िल्म के नाम में कौर शब्द का इस्तेमाल क्यों किया है। समिति के प्रवक्ता दलजीत सिंह बेदी ने बीबीसी को बताया, "उनका काम पॉर्न स्टार का था। वो बचपन में सिख थीं और आगे उन्होंने अपना धर्म परिवर्तन करके ईसाई धर्म को अपनाया है, उनके पति भी ईसाई धर्म के ही हैं। सिख धर्म में सिंह और कौर जैसे उपनामों का बेहद महत्वपूर्ण स्थान है। ऐसे में उन्हें इस शब्द का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए था जिससे सिख धर्म की भावनाओं को ठेस पहुंचती हो। इसलिए उनसे कहा गया है कि वह कौर शब्द का इस्तेमाल न करें।"

दलजीत सिंह बेदी आगे कहते हैं कि इस फ़िल्म में कौर शब्द के इस्तेमाल पर वह अपने विरोध को आगे बढ़ाने की कोशिश करेंगे।इसके बाद जब बीबीसी ने उनसे ये जानने की कोशिश की कि 'कौर' शब्द सनी लियोनी के व्यक्तिगत जीवन से जुड़ा हुआ है तो ऐसे में वह इस शब्द का प्रयोग क्यों नहीं कर सकतीं।

इस सवाल पर बेदी बताते हैं कि ''सनी लियोनी एक ईसाई होने के नाते जो करना हो वो कर सकती हैं, लेकिन वह इन शब्दों का प्रयोग न करें और वह अपनी फ़िल्म को 'सनी लियोनी - द अनटोल्ड स्टोरी' के रूप में क्यों रिलीज़ नहीं करती हैं।''

न्यूज़ वेबसाइट डीएनए की ख़बर के मुताबिक़, इस फिल्म के निर्देशक आदित्य दत्त ने इस विवाद पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि वह पूरी तरह सिख समुदाय की भावनाओं का सम्मान करते हैं और वह ख़ुद भी सिख हैं, लेकिन उनके लिए ये बेहद अचंभित करने वाली बात है कि आधुनिक समय में किसी के द्वारा उसके पारिवारिक नाम का इस्तेमाल करने पर विरोध जताया जा रहा है।

कौन कर सकता है 'कौर' शब्द का इस्तेमाल?

सिख समुदाय में महिलाएं अपने नाम के आख़िर में 'कौर' शब्द का इस्तेमाल किया जाता है जिसका मतलब राजकुमारी होता है। दरअसल सिख समुदाय के दसवें गुरु गुरु गोविंद सिंह ने लोगों को धर्म में शामिल करते हुए महिलाओं को कौर सरनेम और पुरुषों को सिंह नाम दिया था।

सिख धर्म के सिद्धांतों के मुताबिक़, महिला और पुरुषों का दर्जा एक बराबर होता है और महिलाओं को अपना जीवन जीने के लिए पुरुषों के उपनाम को अपने नाम के पीछे लगाने की ज़रूरत नहीं होती है।

फिल्म में क्या है ख़ास

सनी लियोनी के जीवन पर बन रही ये बायोपिक इस मामले में ख़ास होगी कि ये उन चुनिंदा बायोपिक में शामिल होगी जिनमें उन लोगों ने ख़ुद अभिनय किया है जिन पर फ़िल्म आधारित थी। इससे पहले मुहम्मद अली के जीवन पर बनी फिल्म 'द ग्रेटेस्ट - माय ओन स्टोरी' में मुहम्मद अली ने ख़ुद एक्टिंग की थी। हालांकि, इस फिल्म में सनी लियोनी के पति डेनियल वेबर का किरदार मार्क बकर निभा रहे हैं।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00