विज्ञापन
विज्ञापन

सात साल बाद दुनिया के टॉप 300 में भारत की एक भी यूनिवर्सिटी नहीं, जानें क्यों

एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला Updated Thu, 12 Sep 2019 01:21 PM IST
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर - फोटो : Pixnio
ख़बर सुनें

खास बातें

  • वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग में कुल 500 संस्थानों की सूची जारी
  • सात साल बाद टॉप 300 में भारत के किसी संस्थान को नहीं मिली जगह
इस बार की वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग जारी हो चुकी है। इस सूची में दुनियाभर के कुल 500 विश्वविद्यालयों को जगह दी गई है। लेकिन भारत के लिए यह सूची काफी अच्छी नहीं कही जा सकती। सात साल बाद ऐसा हुआ है जब दुनिया के टॉप 300 में भी भारत की एक भी यूनिवर्सिटी को जगह नहीं मिल पाई है। अब से पहले साल 2012 में ऐसा हुआ था।
विज्ञापन
हालांकि एक अच्छी बात ये रही कि टॉप 500 में पहले की तुलना में इस बार भारत के ज्यादा विश्वविद्यालयों ने जगह बनाई है। 2018 में भारत के 5 संस्थानों को इस रैंकिंग में जगह मिली थी। जबकि इस बार यह संख्या बढ़कर 6 हो गई है।

किस संस्थान को मिला पहला स्थान? भारत के किस संस्थान ने इस रैंकिंग में किया टॉप? कैसा रहा आईआईटी (IITs) और आईआईएससी (IISc) का प्रदर्शन? क्यों खराब हुई भारत के संस्थानों की रैंकिंग? आगे पढ़ें इन सभी सवालों के जवाब।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

डिजिटल मीडिया में करियर की संभावनाओं पर नि:शुल्क काउंसलिंग का आयोजन
TAMS

डिजिटल मीडिया में करियर की संभावनाओं पर नि:शुल्क काउंसलिंग का आयोजन

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें शिक्षा समाचार आदि से संबंधित ब्रेकिंग अपडेट।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Education

चंद्रयान 2: चांद पर कैसे हो रही है रात, अंधेरे से कितनी दूर है विक्रम लैंडर? देखें तस्वीर

चांद पर अब रात हो चली है। हालांकि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO - Indian Space Research Organisation) द्वारा भेजा गया चंद्रयान 2 (Chandrayaan 2) के विक्रम लैंडर (Vikram Lander) अभी अंधेरे में नहीं आया है।

18 सितंबर 2019

विज्ञापन

गलती से हो गया था इन अहम चीजों का आविष्कार

आविष्कार सोच समझकर किये जाते हैं, जिससे आम लोगों को कुछ फायदा हो। लेकिन कभी कभी कुछ आविष्कार गलती से हो जाते हैं मतलब जिनके लिए ज्यादा मेहनत नहीं की गई बल्कि वो अनजाने में ही हो गए। आज हम आपको ऐसे ही एक्सीडेंटल एक्सपेरिमेंट के बारे में बताएंगे।

18 सितंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree