विज्ञापन

हेडमास्टर कहते थे, लेखक बनूंगा, मैं न माना, 8वीं में लिखा और सपना पूरा हो गया

संपादकीय डेस्क, अमर उजाला Updated Sun, 09 Sep 2018 07:48 PM IST
know mandi shankar mukherjee how to become good writer
ख़बर सुनें
मेरा जन्म वनग्राम में हुआ था, कहा जा सकता है ‘पथेर पांचाली’ के देश में। विभूतिभूषण वंद्योपाध्याय यहीं रहते थे। बचपन में ही हेडमास्टर महाशय ने यह मान ही लिया था कि मैं लेखक बनूंगा, लेकिन वैसा कोई लक्ष्य मेरा था ही नहीं। एक नाटककार होने में बाबा ने जीवन का एक बहुमूल्य समय नष्ट कर दिया था। उन्हें भय था कि कहीं वह बुरा नशा मुझे न लग जाए। दर्जा आठ में पढ़ते समय स्कूल मैगजीन में सबसे पहले लिखा। लेखक बनने का सपना तो बहुत बाद की बात है।
विज्ञापन
विज्ञापन
दुख, दारिद्र्य, अवहेलना, अपमान के कारण, मुझे एक लेखक की भूमिका में अवतीर्ण होने का दुस्साहस करना पड़ा। रचना प्रकाशित होने की कोई संभावना नहीं थी। जीवन के एक स्मरणीय अध्याय की कहानी पूरी तरह भूल जाने के पहले लिख डालने की व्याकुलता ही सबसे बड़ा लक्ष्य था। कोई अज्ञात शक्ति आत्मप्रकाश का कोई अन्य पथ न पाकर मुझे इस लाइन में खींच लाई थी। एक दिन नींद से उठकर देखा कि मैं एक लेखक हूं।

साहित्य के लक्ष्य स्थान तक पहुंचने के लिए मेरे हाथ में कोई मानचित्र नहीं था, इसलिए जब जो दिमाग में आया, उसी को प्रश्रय दे डाला। परिणाम यह हुआ कभी उपन्यास, कभी कहानी, कभी रम्य-रचना, कभी भ्रमण-कहानी, कभी रस-रचना अथवा कभी महामानवों की जीवन-गाथा लिखता रहा हूं।

सोच-समझ कर,एक योजना बनाकर सृष्टि का पौध तैयार करना बहुत अच्छा है, लेकिन मेरे जैसे लोग जो अव्यवस्थित प्रकृति के होते हैं, वे सुयोग्य होते हुए भी पाठकों और प्रियजनों की प्रत्याशा पूरी नहीं कर पाते हैं। हेडमास्टर मशाई ने मुझे नाना विषयों में एक साथ अत्युत्साही होने की आदत लगा दी। वह कहा करते थे, लेखक के मन के रस में डूबकर पत्थर भी खजूर की तरह नरम हो जाता है। 

Recommended

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से
ज्योतिष समाधान

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Blog

परदेश में अपनों को करीब लाती होली, स्वीडन में भी उड़ा गुलाल

होली के दिन न सही लेकिन होली के नाम पर होने वाले समारोह ने स्वीडन में अपनों को एक दूसरे के करीब जरूर ला दिया।

25 मार्च 2019

विज्ञापन

आज का पंचांग : 26 मार्च 2019, मंगलवार

मंगलवार को लग रहा है कौन सा नक्षत्र और बन रहा है कौन सा योग? दिन के किस पहर करें शुभ काम? जानिए यहां और देखिए पंचांग मंगलवार 26 मार्च 2019.

26 मार्च 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election