K K Aggarwal Death: ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहते हुए भी की लोगों की मदद, जानिए कौन थे डॉ केके अग्रवाल

एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला Published by: वर्तिका तोलानी Updated Tue, 18 May 2021 12:53 PM IST

सार

मेडिकल के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए साल 2010 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था। इसके साथ ही वर्ष 2005 में मेडिकल कैटेगरी के सर्वोच्च पुरस्कार डॉ बीसी रॉय पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है।
डॉ के के अग्रवाल
डॉ के के अग्रवाल - फोटो : सोशल मीडिया
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

सोमवार की रात तकरीबन 11.30 बजे इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) और हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के प्रमुख डॉ केके अग्रवाल का निधन हो गया है। बता दें कि डॉ अग्रवाल ने 28 अप्रैल को ट्वीट कर अपने कोरोना संक्रमित होने की जानकारी दी थी। जिसके बाद दिल्ली के एम्स में उनका इलाज चल रहा था। तबीयत बिगड़ने के चलते कुछ दिन पहले उन्हें वेंटिलेटर  सपोर्ट पर रखा गया था। किंतु 17 मई को देर रात आधिकारिक रूप से यह जानकारी दी गई कि डॉ केके अग्रवाल का कोरोना वायरस से निधन हो गया है। 

विज्ञापन

 

ऑक्सीजन लगने के बावजूद देते रहे कोरोना से लड़ने के टिप्स
28 अप्रैल को कोरोना संक्रमित होने के बाद भी डॉ अग्रवाल लगातार सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों को कोरोना से लड़ने के टिप्स दे रहे थे। एक वीडियो में तो वह ऑक्सीजन सप्लाई पर रहते हुए भी कोरोना महामारी से लड़ने की जानकारी देते हुए दिखाई दे रहे हैं। जानिए कौन थे डॉ केके अग्रवाल जिन्होंने अपनी आखिरी सांस तक लोगों को लड़ना सिखाया।

नागपुर विश्वविद्यालय से की एमबीबीएस की पढ़ाई

2010 में पद्मश्री से किए गए सम्मानित

मेडिकल के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए साल 2010 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था। इसके साथ ही वर्ष 2005 में मेडिकल कैटेगरी के सर्वोच्च पुरस्कार डॉ बीसी रॉय पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है। उन्हें विश्व हिंदी सम्मान, राष्ट्रीय विज्ञान संचार पुरस्कार, फिक्की हेल्थ केयर पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर अवार्ड, डॉ डीएस मुंगेकर राष्ट्रीय आईएमए पुरस्कार और राजीव गांधी उत्कृष्टता पुरस्कार भी प्राप्त कर चुके हैं। 

वैक्सीन पर पत्नी के खफा होने वाला वीडियो हुआ था वायरल

कोरोना काल में डॉ अग्रवाल ने सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों की मदद करना शुरू किया। उन्होंने कोरोना क्या है से लेकर इसके इलाज तक की जानकारी आम लोगों तक पहुंचाई। 27 जनवरी को वैक्सीन का पहला डोज लगवाने के बाद भी उन्होंने लाइव आकर लोगों को इसके बारे में जागरूक किया। इसी दौरान उनकी पत्नी का कॉल आया और अकेले वैक्सीन लगवाने पर खफा पत्नी ने लाइव सेशन के दौरान ही उनकी क्लास लगा दी थी। यह वीडियो उस दौरान खूब वायरल हुआ था।

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें शिक्षा समाचार आदि से संबंधित ब्रेकिंग अपडेट।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00