लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Education ›   Make portal to assist Ukraine returned medical students in admissions to foreign colleges, SC to Centre

Medical Education: यूक्रेन से लौटे छात्रों को सुप्रीम राहत, शीर्ष अदालत ने केंद्र सरकार को दिया अहम सुझाव

एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला Published by: देवेश शर्मा Updated Fri, 16 Sep 2022 07:06 PM IST
सार

Supereme Court on Ukraine Return Medical Students: शीर्ष अदालत ने शुक्रवार को सुझाव देते हुए केंद्र सरकार को निर्देशित किया कि रूस-यूक्रेन युद्ध के मद्देनजर यूक्रेन से देश लौटे मेडिकल छात्रों की सहायता के लिए एक वेब पोर्टल बनाए।

Supereme Court on Ukraine Return Medical Students
Supereme Court on Ukraine Return Medical Students - फोटो : Amar Ujala File Photo
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

Medical Education: यूक्रेन से देश लौटे मेडिकल छात्रों को शुक्रवार को सुप्रीम राहत मिली है। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को यूक्रेन से लौटकर आए छात्रों की मदद करने को कहा है। शीर्ष अदालत ने शुक्रवार को सुझाव देते हुए केंद्र सरकार को निर्देशित किया कि रूस-यूक्रेन युद्ध के मद्देनजर यूक्रेन से देश लौटे मेडिकल छात्रों की सहायता के लिए एक वेब पोर्टल बनाए। इस पोर्टल पर उन सभी विदेशी विश्वविद्यालयों का विवरण दिया जाए, जहां वे सरकार के शैक्षणिक गतिशीलता कार्यक्रम (Academic Mobility Programme) के अनुसार अपना पाठ्यक्रम पूरा कर सकते हों।  

जस्टिस हेमंत गुप्ता और जस्टिस सुधांशु धूलिया की पीठ ने कहा कि यह एक पारदर्शी प्रणाली होनी चाहिए और इस वेब पोर्टल पर वैकल्पिक विदेशी विश्वविद्यालयों में उपलब्ध फीस और सीटों की संख्या का पूरा विवरण निर्दिष्ट करना चाहिए, जहां से वे अपना पाठ्यक्रम पूरा कर सकते हैं। शुक्रवार को सुनवाई की शुरुआत में, केंद्र की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि मामले में वह प्रतिकूल रुख नहीं अपना रहे हैं और सुनवाई के दौरान उन्होंने पीठ के दिए सुझावों पर सरकार से निर्देश प्राप्त करने के लिए समय मांगा। इस पर पीठ ने मामले को आगे की सुनवाई के लिए 23 सितंबर की तारीख तय करते हुए उन्हें एक सप्ताह का वक्त दे दिया।
 

शीर्ष अदालत उन छात्रों द्वारा दायर याचिकाओं के एक बैच की सुनवाई कर रही थी, जो अपने संबंधित विदेशी मेडिकल कॉलेजों / विश्वविद्यालयों में पहले से चौथे वर्ष के बैच के मेडिकल छात्र हैं, जो मुख्य रूप से अपने संबंधित सेमेस्टर में भारत में मेडिकल कॉलेजों में स्थानांतरण की मांग कर रहे हैं। इससे पहले केंद्र ने गुरुवार को दायर अपने हलफनामे में कहा कि यूक्रेन से देश लौटे मेडिकल छात्रों को कानून के तहत प्रावधानों की कमी के कारण यहां मेडिकल कॉलेजों में समायोजित नहीं किया जा सकता है और अब तक, राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) द्वारा स्थानांतरित करने या स्थानांतरित करने की कोई अनुमति नहीं दी गई है।  
 

हालांकि, उन्होंने कहा था कि ऐसे लौटने वाले छात्रों की सहायता और सहायता के लिए जो यूक्रेन में अपने एमबीबीएस पाठ्यक्रम को पूरा नहीं कर सके, एनएमसी ने विदेश मंत्रालय (एमईए) के परामर्श से 06 सितंबर, 2022 (अकादमिक गतिशीलता कार्यक्रम) को मंजूरी देते हुए एक सार्वजनिक अधिसूचना जारी की थी। इसमें कहा गया है कि राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) यूक्रेन में मूल विश्वविद्यालय/ संस्थान के अनुमोदन के आधार पर अन्य देशों में अपने शेष पाठ्यक्रमों को पूरा करना स्वीकार करेगा। सरकार ने कहा कि उनके शेष पाठ्यक्रमों के पूरा होने के बाद, डिग्री सर्टिफिकेट निश्चित रूप से, यूक्रेन में मूल संस्थानों द्वारा ही जारी किए जाने की उम्मीद है। हालांकि, उपरोक्त सार्वजनिक सूचना का उपयोग यूजी पाठ्यक्रमों की पेशकश करने वाले भारतीय कॉलेजों / विश्वविद्यालयों में बैक डोर एंट्री के रूप में नहीं किया जा सकता है। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें शिक्षा समाचार आदि से संबंधित ब्रेकिंग अपडेट।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00