Hindi News ›   Education ›   Aliah University Amendment Bill 2022 passed in the West Bengal Legislative Assembly replacing Governor as the Chancellor

West Bengal: ममता सरकार ने राज्यपाल की शक्तियों में की कटौती, अब आलिया विश्वविद्यालय के कुलाधिपति के पद से हटाया

एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला Published by: देवेश शर्मा Updated Thu, 23 Jun 2022 05:41 PM IST
सार

Aliah University Amendment Bill 2022 passed in the West Bengal Legislative Assembly: पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस की सरकार ने राज्यपाल की शक्तियों में कटौती की है। उन्हें अब आलिया विश्वविद्यालय के कुलाधिपति के पद से हटाया गया है।

आलिया विश्वविद्यालय, कोलकाता, पश्चिम बंगाल
आलिया विश्वविद्यालय, कोलकाता, पश्चिम बंगाल - फोटो : अमर उजाला ग्राफिक्स
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

पश्चिम बंगाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस की सरकार और राज्यपाल जगदीप धनखड़ में टकराव लगातार जारी है। टीएमसी सरकार ने राज्यपाल की शक्तियों में एक बार और कटौती की है। उन्हें अब आलिया विश्वविद्यालय के कुलाधिपति के पद से हटा दिया गया है। इस संबंध में तृणमूल कांग्रेस की सरकार ने राज्य विधानसभा में गुरुवार को एक बिल पेश किया था, जिसे पास करा लिया गया है।


 

चांसलर और विजिटर आदि में बदलाव किए गए

पश्चिम बंगाल विधान सभा में गुरुवार, 23 जून, 2022 को आलिया विश्वविद्यालय संशोधन अधिनियम-2022 बिल पेश किया गया था। जिसे विधान सभा में बहुमत के साथ ही पारित करा लिया गया है। इस बिल में आलिया विश्वविद्यालय के चांसलर और विजिटर आदि में बदलाव का उल्लेख किया गया है। इसके पारित होने के बाद अब राज्यपाल इस यूनिवर्सिटी के चांसलर यानी कुलाधिपति नहीं रहेंगे। कुलाधिपति की शक्तियां अब मुख्यमंत्री के पास रहेंगी। जबकि विजिटर की भूमिका में राज्य के शिक्षा मंत्री होंगे।

पहले निजी विश्वविद्यालयों के विजिटर का पद छीना

जानकारी के अनुसार, पश्चिम बंगाल विधानसभा में तृणमूल कांग्रेस सरकार ने बिल पारित करवा कर राज्यपाल जगदीप धनखड़ को सियासी लड़ाई जारी रखने का संदेश दिया है। इससे पहले बीते सप्ताह भी राज्य के अन्य निजी विश्वविद्यालयों के लिए एक बिल पारित करके राज्यपाल से निजी विश्वविद्यालयों के विजिटर का पद छीन लिया था।

कई मुद्दों को लेकर जारी है खींचतान

जुलाई 2019 में पदभार संभालने के बाद से राज्यपाल जगदीप धनखड़ और टीएमसी सरकार के बीच विश्वविद्यालयों के कामकाज सहित कई मुद्दों को लेकर खींचतान जारी है। इससे पहले पश्चिम बंगाल विधानसभा ने राज्यपाल की जगह मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को सभी राज्य संचालित विश्वविद्यालयों के कुलाधिपति के रूप में बदलने के लिए एक विधेयक पारित किया था। इसका भी भाजपा विधायकों के विरोध किया था। तब राज्य के शिक्षा मंत्री ने कहा था कि अगर प्रधानमंत्री केंद्रीय विश्वविद्यालय विश्वभारती के कुलाधिपति हो सकते हैं तो मुख्यमंत्री राज्य के विश्वविद्यालयों के क्यों नहीं। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें शिक्षा समाचार आदि से संबंधित ब्रेकिंग अपडेट।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00