विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

दिल्ली

सोमवार, 6 अप्रैल 2020

कोरोना : दिल्ली मेंं कुल संक्रमितों की संख्या 503 हुई, आज 58 नए मामले आए सामने

देशव्यापी लॉकडाउन का आज 12वां दिन है और रविवार होने के चलते दिल्ली-एनसीआर की सड़कें रोज की अपेक्षा कहीं ज्यादा सुनसान नजर आ रही हैं। हालांकि इस बीच निजामुद्दीन मरकज के जमातियों और नोएडा की सीजफायर कंपनी के चलते यहां कोरोना के संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ी है। गौरतलब है कि बीती रात साहिबाबाद पुलिस ने एक मदरसे से इंडोनेशिया के रहने वाले 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। उनके खिलाफ कई धाराओं में मामले भी दर्ज किए गए हैं। पढ़ें दिल्ली-एनसीआर के दिनभर के अपडेट्स...

दिल्ली में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 503 हुई

दिल्ली  सरकार ने जानकारी दी है कि आज कोरोना वायरस के  58 नए मामले सामने आए हैं। वायरस के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 503 हो गई है, जिसमें तबलीगी जमात में भाग लेने वाले 320 मामले शामिल हैं, 61 ने विदेश की यात्रा की थी। 18 लोगों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।

आज दिल्ली में जो 58 नए मामले सामने आए हैं इसमें से 19 ने तबलीगी जमात में शामिल होने वाले लोग हैंऔर तीन ने अंतरराष्ट्रीय यात्रा की थी।

होम क्वारंटीन का उल्लंघन करने पर 11 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज 
डीसीपी शाहदरा ने बताया कि पुलिस द्वारा होम क्वारंटीन के 517 मामलों में सत्यापन के दौरान यह पाया गया कि 11 व्यक्ति घर पर नहीं थे। इन लोगों के खिलाफ नौ केस आज और दो केस आईपीसी की  धारा 188 के अंतर्गत पहले दर्ज किए गए हैं। 

मलेशियाई नागरिकों को क्वाारंटीन में रखने की मांग 
दिल्ली पुलिस ने जिला मजिस्ट्रेट से मलेशिया में आठ तब्लीगी जमात सदस्यों को क्वारंटीन में रखने का अनुरोध किया है, जिन्हें आज दिल्ली के आईजीआई के आव्रजन विभाग द्वारा रोका गया था जब वे मलेशिया के लिए मलिंदो हवाई राहत उड़ान में मौजूद थे।

शिक्षण संस्थानों की फीस माफ करें डीएम : वी. के. सिंह 
कंद्रीय मंत्री और गाजियाबाद के सांसद वी. के. सिंह ने कहा कि गाजियाबाद के डीएम को यूपी आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत अपनी शक्तियों का प्रयोग करके कोरोना वायरस प्रभावित अवधि के लिए शिक्षण संस्थानों की फीस माफ करने को कहा गया है।
गाजियाबाद : 13 जमातियों की रिपोर्ट आई नेगेटिव
रविवार का दिन स्वास्थ्य विभाग और जिले के लिए सुकून भरा साबित हुआ, यहां 13 करोना संदिग्धों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है।  सीएमओ डॉक्टर एनके गुप्ता ने बताया कि पिछले 15 दिनों के बाद आज पहली बार ऐसा हुआ है जब रात में किसी भी मरीज को भर्ती कराने या आइसोलेट करने के लिए किसी का भी नहीं आया। सीएमओ का कहना है कि जो 24 मरीज पॉजिटिव पाए गए हैं उनके घर के आसपास और धार्मिक स्थलों के पास का इलाका सैनिटाइज कराया जा रहा है। रविवार को संयुक्त अस्पताल के कर्मचारियों सहित 30 सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं, अभी 147 रिपोर्ट का इंतजार है।

हजरत निजामुद्दीन पहुंची डॉक्टरों की टीम
हजरत निजामुद्दीन पुलिस थाने पहुंची डॉक्टरों की टीम ने थाने के सभी स्टाफ की जांच की। एक डॉक्टर ने बताया कि सभी स्टाफ का रूटीन चेकअप किया गया है। पिछले महीने मरकज में एक धार्मिक आयोजन किया गया था जिसमें कोरोना पॉजिटिव लोग मिले थे, जिसके बाद आशंका है कि उन्हें बाहर निकालने वाले पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमित न हों।

क्राइम ब्रांच की एक टीम निजामुद्दीन मरकज में हुई दाखिल
क्राइम ब्रांच की एक टीम निजामुद्दीन मरकज में जांच के लिए पहुंची है। क्राइम ब्रांच की टीम निजामुद्दीन मरकज की वीडियोग्राफी कर रही है, इसके लिए ड्रोन कैमरों की मदद भी ली जा रही है। एक अप्रैल को मरकज से करीब 2300  लोग निकाले गए थे। इस मामले में तब्लीगी जमात के प्रमुख मौलाना साद व अन्य के खिलाफ लॉकडाउन के दौरान इकट्ठा होकर जमात का आयोजन करने के लिए प्राथमिकी दर्ज की गई है।

जमात के आठ सदस्य आईजीआई हवाई अड्डे पर गिरफ्तार
मलएशिया के 8 तब्लीगी जमात के सदस्यों को आज दिल्ली के आईजीआई इमिग्रेशन विभाग ने मलएशिया के लिए मालिंदो एयर रिलीफ फ्लाइट में सवार होने की कोशिश करते हुए पकड़ा। उन्हें अधिकारियों को सौंपने की प्रक्रिया जारी है। नियमानुसार सभी सदस्यों को भारत में ही क्वारंटाइन किया जाएगा।

दिल्ली पुलिस की अपील शब-ए-बरात मनाने घर से न निकलें
दिल्ली पुलिस ने नागरिकों से अपील की है कि कोरोना वायरस लॉकडाउन के चलते 8/9 अप्रैल को शब-ए-बरात मनाने के लिए अपने घरों से बाहर न निकलें। 

कनॉट प्लेस में बांटी गई लोगों को खाने-पीने की चीजें
दिल्ली समेत देशभर में जारी लॉकडाउन के बीच कनॉट प्लेस में लोगों को खाने-पीने की जरूरी चीजें बांटी गई।

दिल्ली समेत अन्य जगहों पर बढ़ी दीपकों और मोमबत्तियों की बिक्री
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आज रात को 9 बजे 9 मिनट के लिए दीपक, मोमबत्ती जलाने की अपील के बाद बाजार में दीयों की ब्रिकी बढ़ गई है।

दिल्ली कैंसर संस्थान की दो नर्सों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव
दिल्ली के कैंसर संस्थान की दो और नर्सों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इससे पहले यहां के डॉक्टर समेत चार चिकित्सा कर्मियों की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव आ चुकी है।

एलएनजेपी अस्पताल की तीसरी मंजिल से कूदा कोरोना संदिग्ध, टूटा पैर
दिल्ली के लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल में रविवार सुबह उस वक्त हड़कंप मच गया, जब एक कोरोना संदिग्ध मरीज ने तीसरी मंजिल से कूदकर आत्महत्या करने की कोशिश की। वह 31 मार्च को यहां भर्ती हुआ था, लेकिन अभी उसकी रिपोर्ट नहीं आई है। 

गाजियाबाद में 10 विदेशियों के खिलाफ मामला दर्ज

गाजियाबाद पुलिस ने बताया कि पिछले महीने दिल्ली में तब्लीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल होने वाली 5 महिलाओं सहित 10 इंडोनेशियाई नागरिकों के खिलाफ आईपीसी की धारा 188, 269, 270, महामारी रोग अधिनियम और विदेश अधिनियम, 1897 के तहत मामला दर्ज किया गया है। इसके साथ ही उन्हें क्वारंटीन में रखा गया है।

दिल्ली में संक्रमित मरीजों की संख्या पहुंची 445, इनमें जमातियों की संख्या 300 के पार
शनिवार को दिल्ली में एक ही दिन में 59 नए कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इनमें से 42 जमाती हैं। दिल्ली में अब कुल कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 445 हो चुकी है, जिनमें से 301 निजामुद्दीन स्थित मरकज से निकाले गए थे। इनके अलावा 58 लोग विदेश से संक्रमित होकर आए हैं। वहीं 40 मरीज ऐसे हैं, जो विदेश यात्रा से लौटने वाले संक्रमितों के संपर्क में आए थे। 46 संक्रमित मरीजों की जांच चल रही है। 423 संक्रमित मरीजों का उपचार दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, शनिवार को 5 संक्रमित मरीजों को ठीक होने पर अस्पतालों से छुट्टी मिल गई। फिलहाल कोरोना वायरस से दिल्ली में केवल छह लोगों की मौत हुई है। 

दिल्ली-एनसीआर में संक्रमित मरीजों की संख्या-
दिल्ली - 447 संक्रमित
नोएडा-ग्रेटर नोएडा - 58 संक्रमित
गाजियाबाद - 24 संक्रमित
गुरुग्राम - 17 संक्रमित
फरीदाबाद - 14 संक्रमित
पलवल - 16 संक्रमित
मेवात - 3 संक्रमित
बुलंदशहर - 3 संक्रमित
नूंह - 1 संक्रमित
... और पढ़ें

दिल्ली: कोरोना के संदिग्ध मरीज ने की आत्महत्या की कोशिश, अस्पताल की तीसरी मंजिल से कूदा

दिल्ली के लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल में रविवार सुबह उस वक्त हड़कंप मच गया, जब एक कोरोना संदिग्ध मरीज ने तीसरी मंजिल से कूदकर आत्महत्या करने की कोशिश की। वह 31 मार्च को यहां भर्ती हुआ था, लेकिन अभी उसकी रिपोर्ट नहीं आई है।

आज सुबह मरीज तीसरी मंजिल से कूदा लेकिन गनीमत रही कि उसकी जान बच गई। जानकारी के अनुसार वह तीसरी मंजिल से कूदा तो वह अस्पताल की पहली मंजिल पर डले टिन शेड पर जा गिरा। इसके बाद वह जमीन पर गिरा जिससे उसका पैर टूट गया है।

डॉक्टरों के अनुसार उसकी हालत स्थिर बनी हुई है। डॉक्टरों का कहना है कि वह कोरोना के संक्रमण के चलते काफी डरा हुआ था जिस कारण उसने आत्महत्या कर जान देने की कोशिश की।
... और पढ़ें

दिल्ली में अभी तक कोरोना के 445 मामले, मुख्यमंत्री केजरीवाल बोले- ‘दिल्ली में कोरोना अभी कंट्रोल में है’

दिल्लीः सिर्फ कोरोना संक्रमितों का इलाज करेंगे ये तीन सरकारी अस्पताल

कोरोना के चलते देशभर में लॉकडाउन आज भी जारी है। आज भी पूरे दिल्ली-एनसीआर में पुलिस-प्रशासन सख्ती से इसका पालन करा रहे हैं। सड़कें बीते कई दिनों की तरह आज भी खाली हैं। वहीं दिल्ली में जमातियों के चलते तेजी से संक्रमितों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है और कुल पॉजिटिव केस 500 के पार चले गए हैं। वहीं मेवात और पलवल में आज भी कई नए केस सामने आए हैं। पढ़ें दिनभर के सभी अपडेट्स...

दिल्ली सरकार का बड़ा निर्णय, इन तीन अस्पतालों में सिर्फ कोरोना के मरीजों का होगा इलाज

दिल्ली सरकार ने निर्णय लिया है कि 2000 बेड की क्षमता वाला लोक नायक अस्पताल (जिसमें जी.बी. पंत अस्पताल भी शामिल है) और राजीव गांधी सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल जिसमें 450 बेड की सुविधा है, इनको अब केवल कोरोना वायरस के मामलों के लिए इस्तमाल किया जाएगा।

क्राइम ब्रांच ने निजामुद्दीन मरकज को दूसरा नोटिस भेजा है
दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने निजामुद्दीन मरकज को दूसरा नोटिस भेजा है। नोटिस में मरकज से जल्द जवाब दाखिल करने को कहा गया है। गौरतलब है कि पहले के दिए नोटिस में एक भी तब्लीगी जमात का पदाधिकारी सामने नहीं आया है। मौलाना साद ने सभी पदाधिकारियों के सेल्फ आइसोलेशन में रहने की बात कही थी। ऐसे में पुलिस मरकज के सभी पदाधिकारियों का गृह सत्यापन कराएगी। पुलिस को आशंका है कि ज्यादातर पदाधिकारी मौलाना साद के साथ छिपे हुए हैं।

आप सांसद संजय सिंह ने बांटे राशन के पैकेट
आप सांसद संजय सिंह ने लॉकडाउन के बीच जरूरतमंदों को राशन बांटा। संजय सिंह ने कहा अब तक हम 3500 राशन के पैकेट बांट चुके हैं, 5000 पैकेट अभी बांटने हैं। हमारा लक्ष्य 25,000 लोगों को राशन बांटना है। इसमें मेरा सिर्फ एक महीने का वेतन है और बाकी सभी दोस्तों का इसमें योगदान है।

70 संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों की पहचान नहीं हो सकी हैः सत्येंद्र जैन
दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा है कि सरकार अभी तक 70 संक्रमित लोगों के संपर्क में आए लोगों की खोज नहीं कर सके हैं। बहुत से लोगों की कल(रविवार) ही पॉजिटिव रिपोर्ट आई है। हमें आशा है कि आज शाम तक हम इन लोगों को ढूंढ लेंगे।

दिल्ली में संक्रमित हुए 503 लोग
दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की संख्या 503 हो गई है। रविवार को एक ही दिन में 58 नए संक्रमित मिले, जिनमें 19 तब्लीगी जमाती हैं। कुल मरीजों में 320 संक्रमित निजामुद्दीन स्थित मरकज से निकाले गए थे। वहीं, शनिवार को पंजाबी बाग स्थित महाराजा अग्रसेन अस्पताल में हुई कोरोना संक्रमित मरीज की मौत की पुष्टि स्वास्थ्य विभाग ने कर दी है। ये मरीज हरियाणा पुलिस में सब इंस्पेक्टर था और फिलहाल उनकी तैनाती सोनीपत जिले में थी। 52 वर्षीय सब इंस्पेक्टर को 13 मार्च की सुबह ब्रेन हेमरेज हुआ था, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वहां उनमें कोरोना वायरस के लक्षण दिखाई दिए और 4 अप्रैल को उनकी मौत हो गई। इसी के साथ अब दिल्ली में मरने वालों की संख्या सात हो गई है।
... और पढ़ें
अरविंद केजरीवाल अरविंद केजरीवाल

गौतम गंभीर की मदद पर बोले CM केजरीवाल- पैसा नहीं PPE किट कहीं से दिलवा दीजिए

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का केंद्र सरकार से फंड नहीं मुहैया कराने के आरोप पर गौतम गंभीर ने सोमवार को जवाब दिया। गंभीर ने एक ट्वीट के माध्यम से दिल्ली सरकार को 50 लाख रुपये और देने की पेशकश की। पूर्वी दिल्ली के भाजपा सांसद गौतम गंभीर ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सरकार पर मगरमच्छ के आंसू बहाने और पीड़ित कार्ड खेलने का आरोप भी मढ़ा था। हालांकि सोमवार को गौतम के ट्वीट पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जवाब भी दिया है।

गंभीर ने अपने ट्वीट में लिखा है, मुख्यमंत्री केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री कह रहे हैं कि उन्हें फंड की जरूरत है। हालांकि उनके अहंकार को पहले ये स्वीकार नहीं था कि वो मुझसे 50 लाख रुपये लें, लेकिन मैं 50 लाख रुपये और देने की प्रतिज्ञा लेता हूं ताकि मासूम लोग परेशान न हों। मुझे उम्मीद है कि एक करोड़ रुपये कम से कम आपातकालीन जरूरतों को पूरी कर मास्क और कोरोना से बचाव के लिए पीपीई किट्स लाने में मददगार होंगे।

इस पर सीएम केजरीवाल ने गंभीर के ट्वीट पर ही जवाब देते हुए लिखा है कि गौतम जी आपके प्रस्ताव के लिए शुक्रिया। यहां समस्या पैसों की नहीं बल्कि पीपीई किट की उपलब्धता की है। हम आपके आभारी होंगे अगर आप कहीं से ये किट हमें दिलवाने में सहयोग कर देंगे, दिल्ली सरकार तुरंत उन्हें खरीद लेगी। आपका शुक्रिया।

... और पढ़ें

निजामुद्दीन मरकज केे सेल डाटा में ज्यादातर मोबाइल बंद, ऐसे हो रही लोगों की पहचान

निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल लोगों का सेल डाटा तो एकत्र कर लिया गया है, लेकिन जांच अधिकारियों के सामने बड़ी चुनौती यह है कि बरामद ज्यादातर मोबाइल नंबर स्विच ऑफ हैं।

पुलिस को अब उन सभी नंबरों का पता निकाल कर संबंधित राज्यों की पुलिस से जानकारी जुटानी पड़ रही है। सूत्रों का कहना है कि नंबर बंद करने के पीछे मरकज में शामिल लोग खुद को क्वारंटीन से बचाने का प्रयास कर रहे हैं।

जांच में कुछ मोबाइल नंबर के ऐसे भी नाम-पते निकल कर आये हैं जो फर्जी हैं। उन पतों पर डाटा से संबंधित शख्स रहता ही नहीं है। इन चुनौतियों के सामने आने के बाद पुलिस की परेशानी दोगुनी हो गई है कि कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पहचान कैसे करे? वहीं पुलिस की तरफ से मरकज मेंं शामिल लोगों की तलाश के लिए क्राइम मैपिंग का भी सहारा लिया जा रहा हैै। 
... और पढ़ें

दिल्ली में कोरोना के चार हॉटस्पॉट, दो पर हर दिन मिल रहे संक्रमित

रेलवे ने बनाया सैनिटाइजर रूम
कोरोना वायरस के दिल्ली में 4 हॉटस्पॉट हो चुके हैं। यहां एक से ज्यादा संक्रमित मरीजों की पहचान हुई है। दिलशाद गार्डन, निजामुद्दीन और दिल्ली राज्य कैंसर संस्थान के बाद चौथा हॉटस्पॉट पंजाबी बाग स्थित महाराजा अग्रसेन अस्पताल बन चुका है। यहां पिछले तीन दिन में डॉक्टर सहित 6 कर्मचारी संक्रमित हो चुके हैं। हरियाणा निवासी एक कोरोना पॉजिटिव दम तोड़ चुका है। चार में से तीन हॉटस्पॉट यमुनापार में हैं। 

इनमें से दो पर सरकार का लगभग नियंत्रण हो चुका है, लेकिन दिल्ली राज्य कैंसर संस्थान से लगातार पॉजिटिव केस मिल रहे हैं।  दरअसल केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, जहां भी कोरोना संक्रमित मरीज मिलता है, उसे हॉटस्पॉट मानते हुए निगरानी की जाती है। एक से ज्यादा मरीज मिलने पर हॉटस्पॉट की निगरानी और सख्त हो जाती है। 28 दिन तक यहां स्वास्थ्य विभाग की टीमें निगरानी रखती हैं। साथ ही अब हॉटस्पॉट के तहत आने वाले अन्य नागरिकों को भी कोविड जांच कराने की अनुमति दी जा चुकी है।

पहला हॉटस्पॉट
यह दिलशाद गार्डन के एल ब्लॉक में है। यूएई से लौटी एक महिला ने पहले अपने भाई, मां और फिर दोनों बेटियों को संक्रमित किया था। इसके बाद महिला ने मौजपुर मोहल्ला क्लीनिक के डॉक्टर को भी संक्रमित कर दिया था। उसके एक पड़ोसी में भी कोरोना मिला। उधर, मोहल्ला क्लीनिक के डॉक्टर के संपर्क में आने से उसकी पत्नी और बेटी भी कोरोना पॉजिटिव हुई थी। इस महिला को स्वास्थ्य विभाग केस नंबर 10 नाम से जानते हैं। विभाग ने महिला के संपर्क में आने वाले 70 लोगों को क्वारंटीन किया था और एल ब्लॉक को सील कर दिया था। फिलहाल यहां स्थिति सामान्य है।

दूसरा हॉटस्पॉट
निजामुद्दीन स्थित मरकज दिल्ली ही नहीं पूरे देश के लिए कोरोना हॉटस्पॉट है। यहां से जाकर 19 राज्यों में पहुंचे 1 हजार से ज्यादा लोग अब तक संक्रमित मिल चुके हैं। दिल्ली में अब तक 320 संक्रमित यहीं से अस्पतालों तक लाए गए हैं। फिलहाल यहां सैनिटाइजेशन आदि का काम चल रहा है। पूरे इलाके में स्वास्थ्य विभाग की चार टीमें निगरानी कर रही हैं।

तीसरा हॉटस्पॉट
राज्य कैंसर संस्थान जीटीबी अस्पताल से सटा हुआ है। यहां तैनात एक महिला रेजिडेंट डॉक्टर के संक्रमित होने के बाद उसके संपर्क में आए 19 लोगों को क्वारंटीन किया जा चुका है। अस्पताल की ओपीडी को बंद कर सैनिटाइज किया जा रहा है। इसी बीच 19 में से अब तक पांच और नर्स पॉजिटिव आ चुकी हैं, जो महिला डॉक्टर के संपर्क में आई थीं। बाकी कर्मचारियों की रिपोर्ट आनी अभी बाकी है।

चौथा हॉटस्पॉट
पंजाबी बाग स्थित महाराजा अग्रसेन अस्पताल में कोरोना मरीज के संपर्क में आने के बाद एक डॉक्टर संक्रमित हुआ। उसका फिलहाल इसी अस्पताल में उपचार चल रहा है, जबकि मरीज को आरएमएल भेजा जा चुका था। इसके दो दिन बाद हरियाणा निवासी एक मरीज ने कोरोना के चलते दम तोड़ दिया। अब रविवार को अस्पताल के पांच और स्वास्थ्य कर्मचारियों को कोरोना पॉजिटिव घोषित किया गया है।
... और पढ़ें

दिल्ली में फिर जी उठी यमुना, 'काला जल' अब हो गया निर्मल

यमुना की अविरलता और निर्मलता के लिए केंद्र व दिल्ली सरकार के प्रयास बीते करीब तीन दशकों से बेशक कामयाब न हो सके हों, लेकिन 10 दिन के लॉकडाउन के दौरान नदी ने खुद ही अपने को साफ कर लिया है।

नदी का जल नीला होने साथ ही नजदीक जाने पर उसकी तली भी इस वक्त दिख रही है। लॉकडाउन से पहले काले पानी से लबालब नदी दूर से नाले सरीखी नजर आती थी। यानी यमुना ने खुद को पुनर्जीवित करने का अपना मॉडल पेश कर दिया है।
 

कोरोना वायरस से पैदा हुए संकट के इस दौर में विशेषज्ञ नदी की अपने स्तर पर की जाने वाली साफ-सफाई को भविष्य के मॉडल के तौर पर देख रहे हैं, जिसके सहारे सभी नदियों को पुनर्जीवित करना संभव हो सकेगा।

विशेषज्ञों का कहना है कि अगर केंद्र व राज्य सरकारों ने लॉकडाउन के दौरान नदी के इस नैसर्गिक मॉडल को समझ लिया और उसके अनुसार योजनाएं बनाईं तो बगैर बड़े पैमाने पर मानवीय व वित्तीय संसाधन लगाए नदियों को साफ-सुथरा रखा जा सकेगा। इससे देश की बड़ी आबादी की जल संकट की समस्या भी दूर होगी।

उधर, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) और दिल्ली जल बोर्ड इस तरह के बदलावों का अध्ययन करने की योजना तैयार कर रहा है। सीपीसीबी के एक वरिष्ठ वैज्ञानिक ने बताया कि बोर्ड जल्द ही नदी से सैंपल लेगा।

इसके आधार पर देखा जाएगा कि लॉकडाउन का नदी की सेहत पर असर क्या रहा है। हालांकि, इस तरह की एक स्टडी बोर्ड वायु की गुणवत्ता पर पहले से कर रहा है। दूसरी तरफ, दिल्ली जल बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि नदी से सैंपल लिया जाएगा। इसके आधार पर बोर्ड भविष्य में नदी को स्वच्छ रखने का खाका तैयार करेगा।
... और पढ़ें

जो काम सरकारें दशकों में न कर पाईं, लॉकडाउन ने 10 दिन में कर दिखाया

कहते हैं कि हर चीज के दो पहलू होते हैं, एक अच्छा और एक बुरा। इसी तरह देश में 21 दिन का जो लॉकडाउन है उसकी वजह से देशवासियों को अपने घरों में रहने को मजबूर होना पड़ा है, देशभर में फैक्टरियां बंद हो गई हैं जिससे कई लोगों पर बेरोजगारी का संकट भी आ गया है। लेकिन इसी लॉकडाउन की वजह से प्रकृति अपने असली स्वरूप में आ गई है। जहां एक ओर देश के सभी राज्यों व शहरों की वायु गुणवत्ता में सुधार हुआ है, वहीं गंगा और यमुना जैसी बेहद प्रदूषित हो चुकी नदियां भी साफ दिखने लगी हैं। जहां पहले इनका पानी काला-गंदा दिखता था, वहां अब यह पानी स्वच्छ और निर्मल दिखाई देता है। हमारी इस खबर में जानिए कि कैसे नदियां खुद साफ हो गई हैं और इन्होंने सरकारों को वो मॉडल दिया है जिससे इन्हें आगे भी साफ रखने के लिए कदम उठाए जा सकते हैं....
 
... और पढ़ें

नियमों की अनदेखी कर नौ मंजिला बना दी मरकज की इमारत

निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी जमात की मरकज इमारत को नियमों की अनदेखी कर खड़ा किया गया है। नगर निगम का दावा है कि सिर्फ ढाई मंजिला निर्माण की अनुमति थी, लेकिन नौ मंजिल तक निर्माण किया गया। साथ ही बेसमेंट भी बनाया गया। यह स्थिति तो तब है जब इस इमारत के ठीक पीछे निजामुद्दीन थाना है। ऐसे में पुलिस, निगम और दिल्ली अर्बन आर्ट कमीशन समेत कई विभाग लापरवाही के घेरे में हैं।

दरअसल, मरकज इमारत पूरी तरह रिहायशी इलाके में है। इसलिए दिल्ली के किसी भी रिहायशी इलाके में 15 मीटर से ऊंची इमारत बनाने की अनुमति नहीं है, जबकि इस इमारत की ऊंचाई 25 मीटर है। बताया जा रहा है इमारत का नक्शा 1992 में ढाई मंजिला इमारत के रूप में पास कराया गया था। 1995 में इमारत में नए सिरे से निर्माण कार्य शुरू हुआ था।

...और होता चला गया विस्तार
इमारत निर्माण के बाद शुरुआत में यहां कम संख्या में जमाती पहुंचते थे, लेकिन जैसे-जैसे जमातियों की संख्या बढ़ती गई तो इमारत का निर्माण भी बढ़ता चला गया। अब यहां देश-विदेश से जमाती इकट्ठा होते थे। यही कारण था कि कार्रवाई वाले दिन भी यहां पुलिस को बड़ी संख्या में जमाती मिले।

मालिकाना हक को लेकर स्पष्ट नहीं है स्थिति
मरकज के मालिकाना हक को लेकर भी स्थिति स्पष्ट नहीं है। जांच में इमारत के मालिकाना हक को लेकर कागज नहीं मिले हैं। वर्ष 2012 में निगम को तीन हिस्सों में विभाजित किया गया था। ऐसे में कुछ पुराने दस्तावेज भी निगम के पास नहीं हैं।

अभी हमारा ध्यान कोरोना वायरस की रोकथाम पर है। हम जांच के लिए फाइल मंगा रहे हैं। यदि इमारत का अवैध निर्माण होगा तो भविष्य में कड़ी कार्रवाई होगी।
-भूपेंद्र गुप्ता, अध्यक्ष-स्थायी समिति दक्षिणी निगम

लॉकडाउन खत्म होने का इंतजार किया जा रहा है। संबंधित फाइल की जांच कर कार्रवाई की जाएगी।
-राजपाल, उपाध्यक्ष-स्थायी समिति दक्षिणी निगम
... और पढ़ें

CoronaVirus: घर से गायब हुए होम क्वारंटीन किए गए 11 लोग, क्या दिल्ली में हार जाएंगे कोरोना की लड़ाई?

एक तरफ केंद्र और दिल्ली सरकार कोरोना की जंग जीतने के लिए हर संभव कोशिश कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर लोग नियमों के पालन में गंभीर अवहेलना कर दूसरों की जान खतरे में डाल रहे हैं। इससे देश की राजधानी में ही कोरोना की लड़ाई हारने का खतरा उत्पन्न हो गया है।

रविवार को की गई एक चेकिंग के दौरान यह बात सामने आई कि होम क्वारंटीन किये गये 11 लोग अपने घरों में नहीं मिले। पुलिस ने इन सभी लोगों के खिलाफ महामारी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है। इन्हें गिरफ्तार भी किया जायेगा। इसके पहले शुक्रवार को भी 33 लोगों ने नियमों का उल्लंघन किया था जिन पर एफआईआर भी दर्ज किया गया था।

11 के खिलाफ मामला दर्ज

शहादरा के डीसीपी दिनेश कुमार गुप्ता ने अमर उजाला को बताया कि पुलिस होम क्वारंटीन किए गये लोगों की नियमित चेकिंग करती रहती है। इससे उनके घर पर ही रहने की जानकारी भी मिलती रहती है, साथ ही अगर किसी व्यक्ति/परिवार को किसी सामान या सहायता की जरूरत पड़ती है तो उसके लिए मदद भी दी जाती है।

आज जब उनके जवान सभी लोगों की चेकिंग करने गये तो ज्यादातर लोग अपने-अपने घरों में पाए गये, लेकिन 11 लोगों के अपने घरों से गायब होने की जानकारी मिली। उन्होंने कहा कि इन लोगों के खिलाफ इंडियन पीनल कोड की धारा 188 और एपिडेमिक एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है।

इन लोगों की तलाश की जा रही है और इनकी गिरफ्तारी की जायेगी।

इसके पहले भी गायब हुए थे 33 लोग

यह पहला मामला नहीं है जब लोगों ने होम क्वारंटीन के नियमों का उल्लंघन किया है। इसके पहले शुक्रवार को भी दिल्ली के विभिन्न इलाकों से 33 लोगों ने होम क्वारंटीन नियमों का उल्लंघन किया था।

इसमें सबसे ज्यादा द्वारका जिले से 21 लोग अपने-अपने घरों से गायब मिले थे, जबकि दक्षिण जिले से आठ, उत्तरी जिले से दो, उत्तर पश्चिमी और उत्तरी जिले से एक-एक लोग अपने घरों पर नहीं मिले थे। बाद में इनमें से कुछ की गिरफ्तारी भी हुई थी।

क्या हो रही हैं परेशानियां

डीसीपी दिनेश कुमार गुप्ता के मुताबिक दिल्ली पुलिस के जवान पूरी मुस्तैदी से अपनी ड्यूटी निभा रहे हैं। अपने कर्तव्य पालन में उन्हें किसी तरह की परेशानी अभी तक सामने नहीं आई है। स्थानीय लोगों से भी उन्हें सहयोग मिल रहा है।

उन्होंने बताया कि किसी भी होम क्वारंटीन किए गये व्यक्ति की जांच के लिए जाते समय उनके जवान अपनी सुरक्षा का पूरा ध्यान रखते हैं। सभी जवानों के पास फेस मास्क होता है जिनका उपयोग अनिवार्य किया गया है। इसके आलावा समय-समय पर अपना हाथ धुलना और सैनिटाइजर के इस्तेमाल को प्रोत्साहित किया जा रहा है।
 
.........
... और पढ़ें

पाकिस्तानी हिन्दू शरणार्थी बोले, साहब! नौ बजे दीया तो हम जलाएंगे, लेकिन घर का अंधेरा कब दूर होगा?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार रात नौ बजे से नौ मिनट के लिए घरों की बिजली की रोशनी बंद कर अपनी-अपनी बालकनी में दीया-मोमबत्ती या टॉर्च जलाने की अपील की है। उनकी इस अपील को कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे स्वास्थ्यकर्मियों-सुरक्षा बलों का मनोबल बढ़ाने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है।

कई संगठनों ने इसे सफल बनाने की कोशिशें भी शुरू कर दी हैं, तो कुछ जगहों से इसके विरोध में आवाजें भी उठ रही हैं। इसी बीच, मजनू का टीला के पास रह रहे पाकिस्तानी हिंदू शरणार्थियों ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर वे भी दीया जलाएंगे और देश के साथ कोरोना के खिलाफ लड़ाई के लिए खड़े होंगे।

लेकिन उनकी कॉलोनी में आज तक बिजली नहीं है और पूरी बस्ती अंधेरे में ही रहने को मजबूर है। सरकार को इस बस्ती में भी उजाला करने की कोशिश करनी चाहिए। बिजली के बिना उन लोगों को बेहद तंग हालत में जिंदगी गुजारनी पड़ रही है।

'हम तो दया जलाकर ही रह रहे हैं'

पाकिस्तानी हिन्दू शरणार्थियों के कई कैंप हैं। वे आदर्श नगर, मजनू का टीला सहित छतरपुर के आसपास कई जगहों पर सड़कों के किनारे झुग्गियां बनाकर अपना गुजर-बसर करते हैं। ये लोग दिहाड़ी मजदूरी कर और सड़कों पर चलते लोगों को छोटे-मोटे सामान बेचकर कुछ कमाई कर अपनी आजीविका चलाते हैं। इन कैंपों में आज भी कोई सुविधा नहीं है।

कुछ जगहों पर पानी की सुविधा हो गई है, तो कुछ जगहों पर टैंकरों के पानी पर लोग गुजारा कर रहे हैं। इस कैंप के मुखिया दयालदास ने अमर उजाला को बताया कि उनकी बस्ती में भी सभी लोग रात नौ बजे दीया-मोमबत्ती जलाएंगे। लेकिन उनके लिए यह कोई नई बात नहीं होगी, बल्कि यह उनका रोज का काम है।

वे दीये-मोमबत्ती जलाकर ही जीने को मजबूर हैं। बस्ती में बिजली नहीं है, सभी परिवार मजबूरी में दिया-लालटेन या मोमबत्ती जलाकर रात गुजारते हैं। अंधेरे के कारण महिलाओं को भोजन बनाने में और बच्चों को पढ़ाई करने में बहुत परेशानी होती है, लेकिन उनके पास कोई विकल्प नहीं है।

मजनू का टीला के कैंप में लगभग 135 पाकिस्तानी हिंदू शरणार्थी परिवार रहते हैं जिनमें कुल मिलाकर लगभग 800 सदस्य रहते हैं।

कई प्रयास के बाद भी नहीं आई बिजली

आदर्शनगर बस्ती में कई पाकिस्तानी हिन्दुओं के संरक्षक की भूमिका निभा रहे भरत लाल ने बताया कि उन्होंने कई बार इन बस्तियों में बिजली लगवाने के लिए प्रयास किया था, लेकिन कोशिशों का अब तक कोई नतीजा नहीं निकला है।

इसके लिए वे सैकड़ों शरणार्थियों को लेकर दिल्ली सरकार के बिजली विभाग के पास अपील भी कर चुके हैं। अभी तक कोई हल नहीं निकला है।   
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन