लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Delhi ›   Special cell NDR team arrests 2 most wanted criminals of Lawrence Bishnoi and Goldi Brar gang

दिल्ली: लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ गैंग के दो आरोपी गिरफ्तार, सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल था एक

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: प्राची प्रियम Updated Mon, 04 Jul 2022 02:52 PM IST
सार

गिरफ्तार किए गए दो आरोपियों में से एक जिसकी पहचान अंकित के रूप में की गई है, वह पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल था।

sidhu moosewala
sidhu moosewala - फोटो : इंस्टाग्राम: sidhu_moosewala
विज्ञापन

विस्तार

नई दिल्ली रेंज के स्पेशल सेल की एक टीम ने लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ गैंग के दो मोस्ट वांटेड आरोपियों को सोमवार को गिरफ्तार किया है। बताया गया कि गिरफ्तार किए गए दो आरोपियों में से एक जिसकी पहचान अंकित के रूप में की गई है, वह पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल था। इसके अलावा वह राजस्थान में हत्या के प्रयास के दो अन्य जघन्य मामलों में भी शामिल था।


दोनों की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली पुलिस ने प्रेस कांफ्रेंस कर इसकी जानकारी दी। पुलिस ने बताया कि हत्याकांड के मास्टरमाइंड को पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया था, लेकिन पुलिस उन्हें पकड़ना चाहती थी जो सच में जाकर हत्या में शामिल हुए थे, जिन्होंने हत्या की थी। पुलिस ने बताया कि सिद्धू मूसेवाला की हत्या अंकित का पहला मर्डर था। 


दूसरा आरोपी सचिन भिवानी सिद्धू मूसेवाला मामले के चार शूटरों को शरण देने के लिए जिम्मेदार था। राजस्थान के चुरू के जघन्य मामले में भी वह वांछित चल रहा था। राजस्थान में बिश्नोई गैंग के सभी ऑपरेशनों को संभालने का काम सचिन ही करता था।

बीते दिनों सिद्धू मूसेवाला का मैनेजर रह चुका शगनप्रीत सिंह भी कोर्ट पहुंचा था। उसने बताया था कि अब उसकी जान को भी खतरा है। हाईकोर्ट में उसने अपनी सुरक्षा की मांग करते हुए एक याचिका दाखिल की थी।

शगनप्रीत ने अपनी जान को खतरा बताया और पर्याप्त सुरक्षा देने की मांग की थी। उसने गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ से खतरा बताया था। शगनप्रीत सिंह का कहना है कि लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ गैंग ने ही सिद्धू मूसेवाला की हत्या करवाई है और अब ये दोनों उसकी हत्या भी करवा सकते हैं।

वहीं, गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई को बीते 28 जून को अमृतसर कोर्ट में पेश किया गया था। वहां से उसे छह जुलाई तक रिमांड पर भेज दिया गया था। मूसेवाला की हत्या के लिए एके-47 यूपी के बुलंदशहर से खरीदी गई थी। इस हत्याकांड की जांच कर रही एजेंसियों को यह जानकारी पूछताछ के आधार पर मिली है। लॉरेंस ने यूपी के हथियार सप्लायर कुर्बान-इमरान गैंग की जानकारी देते हुए जांच अधिकारियों को बताया है कि उसका गैंग अक्सर इस गैंग से ही हथियार खरीदता रहा है।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00