बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

मेट्रो में सवारी करने वालों ने तोड़ा रिकार्ड

New Delhi Updated Wed, 13 Feb 2013 05:30 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
नई दिल्ली। मेट्रो में सवारी करने वालों ने फिर एक नया रिकार्ड बनाया है। सोमवार को मेट्रो में रिकार्ड 22.90 लाख यात्रियों ने सफर किया। इससे पूर्व 27 नवंबर, 2012 को 22.78 लाख यात्री सवार हुए थे। विशेष बात यह है कि मेट्रो की आमदनी बढ़ाने में सबसे बड़ी भागीदारी एनसीआर के शहरों की है। किराये से करीब चार करोड़ रुपये राजस्व प्राप्त हुआ। डीएमआरसी के अनुसार, अकेले गुड़गांव लाइन पर 8.11 लाख यात्रियों ने सफर किया तो नोएडा और गाजियाबाद लाइन-3/4 पर 8.87 लाख ने मेट्रो की सुविधा ली। सबसे कम यात्री मुंडका से कीर्ति नगर/इंद्रलोक के कॉरिडोर पर सवार हुए। इस लाइन का सबसे छोटा 3.3 किलोमीटर रूट कीर्ति नगर से अशोक पार्क मेन 27 अगस्त, 2011 को खुला था जो फेस-दो का अंतिम सेक्शन था।
विज्ञापन

25 दिसंबर, 2002 को जब मेट्रो पहली बार ट्रैक पर उतरी थी तो 1.15 लाख यात्री सवार हुए थे। साल दर साल यात्री बढ़ते गए पांच लाख का पड़ाव जून, 2006 में पार हुआ और फिर अगले पांच लाख जुड़ने में तीन साल लग गए। अगस्त, 2009 में 10 लाख यात्री मेट्रो में आए और फिर फेस दो के सेक्शन तेजी से जुड़े। उसके बाद प्रत्येक साल अगस्त, 2011 तक पांच लाख नए यात्रियों ने सवारी शुरू की। अगस्त, 2011 में यात्रियों की संख्या 20 लाख पहुंच गई। ढाई साल में करीब 3 लाख यात्री और बढ़ गए।

मेट्रो को सबसे अधिक यात्रियों ने 2010-11 के बीच अपनाया। केंद्रीय सचिवालय से कुतुब मीनार, द्वारका सेक्टर-9 से द्वारका सेक्टर-21, यमुना बैंक से आनंद विहार आईएसबीटी, इंद्रलोक से मुंडका, केंद्रीय सचिवालय से सरिता विहार, सरिता विहार से बदरपुर, आनंद विहार से वैशाली, कीर्ति नगर से अशोक पार्क मेन के नए सेक्शन जुड़े। डीएमआरसी प्रवक्ता के अनुसार, मेट्रो के पास 208 ट्रेनों का बेड़ा है। सबसे कम अंतराल में ट्रेनें लाइन-दो पर उपलब्ध हैं। यहां सुबह आठ बजे से रात आठ बजे तक पीक ऑवर फ्रीक्वेंसी में ट्रेनें प्रत्येक 2 मिनट 40 सेकेंड में चलाई जा रही हैं।
-------
मेट्रो में यात्री तेजी से बढ़ रहे हैं तो सुविधाएं भी बढ़ाई जा रही हैं। नए सिस्टम जोड़ने के साथ-साथ पुराने को अपग्रेड किया जा रहा है। पीक ऑवर भीड़ अधिक रहती है। दफ्तर जाने वालों की भीड़ के बीच ऐसे लोगों को दूसरे समय पर शिफ्ट करने की कोशिश है जो नॉन पीक ऑवर में यात्रा कर सकते हैं। मेट्रो कोच की जितनी क्षमता है उसका सिर्फ 33-35 फीसदी इस्तेमाल हो रहा है लेकिन ऑफिस के समय में थोड़ी दिक्कत है।
- शरत शर्मा, निदेशक (ऑपरेशंस)

--------
किस लाइन पर कितने यात्री हुए सवार
दिलशाद गार्डन-रिठाला 3.38 लाख
जहांगीरपुरी-हुडा सिटी सेंटर 8.11 लाख
द्वारका सेक्टर-21 से नोएडा/वैशाली 8.87 लाख
इंद्रलोक/कीर्ति नगर से मुंडका 81 हजार
केंद्रीय सचिवालय से बदरपुर 1.73 लाख

कब कितने बढ़े यात्री
25 दिसंबर, 2002 1 लाख
6 जून, 2006 5 लाख
4 अगस्त, 2009 10 लाख
27 सितंबर, 2010 15 लाख
12 अगस्त, 2011 20 लाख
27 नवंबर, 2012 22.78 लाख
11 फरवरी, 2013 23 लाख लगभग
-------------------
212 नए कोच वर्ष 2015 तक जुड़ेंगे
डीएमआरसी ने 6 कोच मेट्रो को 8 व 4 कोच मेट्रो को 6 में तब्दील करने के लिए 212 नए कोच खरीदने के आडॅर दिए हैं। सबसे अधिक भीड़ वाले कॉरिडोर लाइन-दो जहांगीरपुरी से हुडा सिटी सेंटर और लाइन 3/4 द्वारका-नोएडा सिटी सेंटर/वैशाली के कॉरिडोर पर वर्ष 2015 तक सभी ट्रेनें 6 या 8 कोच की होंगी।
ज्यों-ज्यों भीड़ बढ़ी, लंबी हुई मेट्रो
मेट्रो का ऑपरेशन 25 दिसंबर, 2002 में 4 कोच ट्रेन से शुरू हुआ। इसकी संख्या संख्या धीरे-धीरे बढ़ाई गई। दूसरे चरण का पहला खंड मार्च, 2009 में खोला गया उस समय सिर्फ 280 कोच थे। सभी ट्रेनें 4 कोच की थीं। जैसे-जैसे सेक्शन बढ़े कोच की संख्या बढ़ती गई। मार्च, 2010 तक कोच की संख्या 400 हुई तो मार्च, 2011 तक 444 नए कोच और जुड़ गए। अगस्त, 2011 तक कोच की संख्या 966 तक पहुंच गई। लाइन-दो जहांगीरपुरी से गुड़गांव और लाइन-3 नोएडा से द्वारका सेक्टर 21 पर भीड़ को देखते हुए दिसंबर, 2010 में 6 कोच वाली ट्रेन ट्रैक पर उतारी गई। अब यात्रियों की संख्या 23 लाख तक पहुंच गई है तो 8 कोच की ट्रेन भी उतारी जा रही है।
अब मेट्रो में तेजी से बढ़ेंगे यात्री
प्रत्येक सप्ताह एक ट्रेन को 6 से 8 कोच में बदला जा रहा है तो नोएडा लाइन पर 4 कोच वाली ट्रेन को 6 कोच में बदला जा रहा है। अभी तक लाइन-दो पर 6 ट्रेन आठ कोच में तब्दील की जा चुकी है। धीरे-धीरे भीड़ कम होगी जिससे यात्री मेट्रो में आवागमन पसंद करेंगे। 4 कोच वाली ब्रॉडगेज मेट्रो में 1160 लोगों के बैठने की क्षमता है। वहीं, छह कोच मेट्रो में 1756 यात्री सवार हो सकते हैं। जबकि 8 कोच मेट्रो में 2352 यात्री सफर कर सकते हैं। हालांकि, मेट्रो में लगातार बढ़ती भीड़ से इसमें क्रेश लोड (क्षमता से 10 फीसदी अधिक) में यात्री सवार हो रहे हैं। कोच संख्या बढ़ने से यात्री बढ़ेंगे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us