बॉर्डर के फर्जी वोटरों पर कसेगी नकेल

New Delhi Updated Mon, 15 Oct 2012 12:00 PM IST
नई दिल्ली। दिल्ली और पड़ोसी राज्यों के जिलों की मतदाता सूची में शामिल फर्जी वोटरों की सघन जांच होगी। ऐसे मतदाताओं की जांच के लिए दोनों जगह की सूचियों का मिलान किया जाएगा। इस बारे में दिल्ली और पड़ोसी राज्यों के जिले के निर्वाचन अधिकारियों के बीच एक दौर की बातचीत हो चुकी है।
चुनाव आयोग ने दिल्ली में मतदाता सूची को अपडेट करने के लिए डोर टू डोर सर्वे कराया है। सर्वे के दौरान पता चला कि हरियाणा और यूपी से लगी दिल्ली की सीमा में कई ऐसे वोटर हैं, जिनके नाम दोनों जगह की मतदाता सूची में शामिल हैं। ऐसे वोटरों की जांच के लिए चुनाव आयोग जिलास्तर दोनों राज्यों की सीमा में पड़ने वाली विधानसभा सीट की मतदाता सूची का मिलान करेगा। जांच के लिए दिल्ली मुख्य चुनाव कार्यालय अधिकारी डी-डुप्लीकेटिंग सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करेंगे। इस सॉफ्टवेयर के जरिए दोनों जगह पाए जाने वाले मतदाताओं का नाम अलग हो जाएगा। मुख्य चुनाव अधिकारी विजय देव के मुताबिक दोनों जगह से पाए जाने वाले मतदाताओं का नाम तुरंत नहीं कटेगा। जांच के बाद तय किया जाएगा कि उसे किस जगह से मतदाता बनाया जाए। इस संबंध में दूसरे राज्यों के जिला निर्वाचन अधिकारियों के साथ जल्द बैठक की जाएगी।
---
बॉर्डर से सटे इलाके
दिल्ली-गाजियाबाद, दिल्ली-नोएडा, दिल्ली-फरीदाबाद, दिल्ली-गुड़गांव, दिल्ली-सोनीपत, दिल्ली-बहादुरगढ़ व अन्य।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

दावोस में 'क्रिस्टल अवॉर्ड' मिलने के बाद सुपरस्टार शाहरुख खान ने रखी 'तीन तलाक' पर अपनी राय

दावोस में 'विश्व आर्थिक मंच' सम्मेलन में बच्चों और एसिड अटैक सर्वाइवर्स के लिए काम करने के लिए क्रिस्टल अवॉर्ड से नवाजे गए बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान..

24 जनवरी 2018