डेंगू से एक सप्ताह में दो लोगों की मौत

New Delhi Updated Mon, 01 Oct 2012 12:00 PM IST
नई दिल्ली। दिल्ली में डेंगू ने तेजी से अपने पैर फैलाने शुरू कर दिए हैं। एक सप्ताह में दो लोगों की मौत हो चुकी है। इस वर्ष अब तक इस बीमारी के 70 मामले सामने आ चुके हैं। निगम का कहना है कि निजी अस्पताल और नर्सिंग होम डेंगू बीमारी के आंकड़े सही तरीके से नहीं बताते। ऐसे में अनुमान है कि आंकड़ा कहीं ज्यादा हो सकता है। डॉ. राकेश चौबे का कहना है कि एडीज मच्छर काटने के पांच से छह दिनों के बाद डेंगू के लक्षण पनपने शुरू होते हैं। डेंगू होने की स्थिति में यदि मरीज को प्लेटलेट चढ़ाने की जरूरत पड़ जाए तो आज भी मरीजों को दिल्ली के गिने-चुने अस्पतालों पर ही निर्भर रहना पड़ता है। पिछले वर्ष जब डेंगू के मरीजों की संख्या बढ़ी थी, तब स्वास्थ्य मंत्री ने कहा था सभी अस्पतालों में प्लेटलेट चढ़ाने की व्यवस्था होगी, लेकिन यह कागजी घोषणा बन कर रह गई। बड़े सरकारी अस्पतालों में ही प्लेटलेट चढ़ाने की व्यवस्था है। एम्स और आरएमएल के अलावा दिल्ली सरकार के एलएनजेपी, डीडीयू, अंबेडकर, भगवान महावीर, जीटीबी अस्पताल में ही प्लेटलेट चढ़ाने की व्यवस्था है। बाकी अस्पतालों में डेंगू के मरीज को भर्ती तो किया जाता है, लेकिन स्थिति बिगड़ने पर मरीजों को रेफर कर दिया जाता है।
खून में प्लेटलेट की संख्या 50 हजार से कम हो तो खतरा बढ़ जाता है और अस्पताल में भर्ती होना जरूरी हो जाता है। प्लेटलेट की कमी होने पर शरीर पर छोटे-छोटे दाने निकलने लगते हैं। स्थिति बिगड़ने पर शरीर के किसी भी भाग से अपने आप खून निकलने लगता है। 20 हजार प्लेटलेट हो जाने पर प्लेटलेट चढ़ाना जरूरी हो जाता है।

ऐसे तैयार होता है प्लेटलेट
विशेषज्ञों के मुताबिक खून में प्लाज्मा, प्लेटलेट और एफएफपी (फ्रेश फ्रोजेन प्लाज्मा) होते हैं। सेपरेटर के माध्यम से ब्लड से प्लेटलेट निकाल लिया जाता है। प्लेटलेट को डेंगू के मरीज को चढ़ाया जाता है। ब्लड से प्लेटलेट निकाल लेने के बाद भी उस ब्लड का इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन ज्यादातर अस्पतालों में प्लेटलेट निकालने वाली मशीन ही उपलब्ध नहीं हैं। इस मशीन की कीमत 70 से 80 लाख रुपये हैं।

क्या है डेंगू ?
डेंगू वायरल बीमारी है, एडीज मच्छर काटने से होता है। मच्छर काटने के पांच-छह दिन बाद बीमारी के लक्षण शुरू हो जाते हैं।

लक्षण
तेज बुखार, मुंह सूखना, खूब प्यास लगना, सिर, आंख, मांसपेशी और जोड़ों में दर्द होना, उल्टी होना, सांस लेने में दिक्कत, पेद में दर्द, मुंह और नाक से खून आने लगना आदि।

यहां होती है डेंगू की जांच
एम्स, राम मनोहर लोहिया, जी बी पंत, लोक नायक, जीटीबी, डीडीयू, बीजेआरएम, डॉ. हेडगेवार आरोग्य संस्थान, भगवान महावीर, कस्तूरबा अस्पताल, हिन्दू राव, अरुणा आसफ अली, एनडीएमसी चरक पालिका, आरटीआर, बेस अस्पताल, कलावती शरण बालरोग अस्पताल के अलावा निजी अस्पताल और नर्सिंग होम में भी जांच की सुविधा उपलब्ध है।

वर्ष मरीजों की संख्या मृतकों की संख्या
2012 70 02
2011 1130 08
2010 6259 08
2009 1153 03
2008 1312 02
2007 548 01
2006 3366 38

इस वर्ष मॉनसून के देर से आने के कारण डेंगू के मच्छर अगस्त की जगह सितंबर में पनपने शुरू हुए। एहतियात नहीं बरते गए, तो डेंगू के मरीजों की संख्या आनेवाले दिनों में और बढ़ सकती है। -डॉ. एस एम रहेजा, जी बी पंत अस्पताल

Spotlight

Most Read

National

सियासी दल सहमत तो निर्वाचन आयोग ‘एक देश एक चुनाव’ के लिए तैयार

मध्य प्रदेश काडर के आईएएस अधिकारी और झांसी जिले के मूल निवासी ओपी रावत ने मंगलवार को मुख्य चुनाव आयुक्त का कार्यभार संभाल लिया।

24 जनवरी 2018

Rohtak

बिजली बिल

24 जनवरी 2018

Rohtak

नेताजी

24 जनवरी 2018

Related Videos

'पद्मावत' की रिलीजिंग को लेकर करन जौहर बोले ये...

फिल्म मेकर करन जौहर ने बॉलीवुड फिल्म पद्मावत की रिलीजिंग में कोई अड़चन ना आने की उम्मीद जताई। आपको सुनाते हैं दावोस पहुंचे करन जौहर ने क्या कहा फिल्म पद्मावत की रिलीजिंग को लेकर।

23 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper