सुरक्षा एजेंसियों को आधुनिक होने की जरूरत

New Delhi Updated Mon, 17 Sep 2012 12:00 PM IST
नई दिल्ली। सीमा और आंतरिक सुरक्षा मामलों में दुश्मनों की तरक्की को देखते हुए हुए पुलिस व पैरा मिलिट्री फोर्स को आधुनिक होने की जरूरत है। समय आ गया है कि हम दुश्मन से भी एक कदम आगे सोचें। कंपनियों को देश की जरूरतों को ध्यान में रखकर उपकरण बनाने चाहिए। हमारे दुश्मन चालाक हैं। आने वाले समय हाईटेक सुरक्षा उपकरणों की मांग बढ़ेगी। सीआरपीएफ के अतिरिक्त महानिदेशक डीके पाठक ने रविवार को प्रगति मैदान में चार दिवसीय 15वें इंडिया इंटरनेशनल सिक्योरिटी एक्सपो के समापन समारोह में यह बात कही।
मेले के समापन समारोह में तीन श्रेणियों में कंपनियों को पुरस्कार दिए गए। सुरक्षा कंपनियों में बेस्ट डिसप्ले के लिए दो श्रेणियों में छह लोगों को पुरस्कार दिया गया जिसमें होप व फोक कंपनी को गोल्ड, बीईएल व एलजी को सिल्वर जबकि आईजेएस व स्मिथ डिटेक्शन को ब्रांज दिया गया। मेले में पहली बार सुरक्षा एजेंसियों (दिल्ली पुलिस, सीआरपीएफ, बीएसएफ, सीआईएसफ) के बैंड की प्रतियोगिता रखी गई थी। आईटीपीओ महाप्रबंधक विक्रम सहगल ने कहा कि मेले का दायरा लगातार बढ़ रहा है। इस बार बीते साल की तुलना में 25 फीसदी कंपनियां ज्यादा थीं। सहगल ने अगले साल के मेले की घोषणा की और बताया कि 20 कंपनियों ने एडवांस राशि देकर अगले साल के लिए स्पेस बुक कर लिया है।

Spotlight

Most Read

Rohtak

जीएसटी विभाग ने ई-वे बिल को लेकर जांच किया अवेयरनेस कैंपेन

जीएसटी विभाग ने ई-वे बिल को लेकर जांच किया अवेयरनेस कैंपेन

19 जनवरी 2018

Related Videos

GST काउंसिल की 25वीं मीटिंग, देखिए ये चीजें हुईं सस्ती

गुरुवार को दिल्ली में जीएसटी काउंसिल की 25वीं बैठक में कई अहम मुद्दों पर चर्चा हुई। इस मीटिंग में आम जनता के लिए जीएसटी को और भी ज्यादा सरल करने के मुद्दे पर बात हुई।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper