BJP ने गिनाए AAP के 30 झूठ, केजरीवाल देंगे जवाब

अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Wed, 29 Jan 2014 02:19 PM IST
harshwardhan said about thirty lies of kejriwal govt
भाजपा विधायक दल के नेता डॉ. हर्षवर्धन ने केजरीवाल सरकार के तीस दिनों को जनता को गुमराह करने वाला बताया है।

सरकार के तीस दिन पर तीस झूठ की सूची मीडिया को देने के साथ नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि सरकार ने जनता से किए गए वादे पूरे नहीं किए। अच्छे काम बहुत ढूंढे, लेकिन मिला कुछ नहीं।

डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि आम आदमी पार्टी की सरकार ही झूठी घोषणा से शुरू हुई। अरविंद केजरीवाल ने कहा था किसी पार्टी से समर्थन नहीं लेंगे, जबकि सबसे भ्रष्ट पार्टी का साथ लिया। महिला कमांडो फोर्स नहीं बनी।

जनलोकपाल कानून 15 दिन में बनाने की घोषणा थी, अभी तक लोकायुक्त कानून को शक्तिशाली नहीं बनाया जा सका।

पढ़ें, भाजपा-कांग्रेस में जुबानी जंग, दंगों का जिम्मेदार कौन?

मंत्रियों ने वीआईपी नंबर की गाड़ी ली, बड़ा मकान लेने की सिफारिश की, कानून मंत्री को बचाने के लिए संविधान का अपमान किया और धारा 144 तोड़ी।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि छत्रसाल स्टेडियम में भाषण के दौरान धारा 144 को गलत बताने और धरने को उचित बताकर गलत किया है।

फ्री पानी, बिजली के आधे दाम, टैंकर माफिया पर अंकुश, आंदोलन में बिजली-पानी का बिल नहीं देने वालों को अधर में अटका कर रखने, जनता दरबार वापस, महंगाई पर काबू पाने, भ्रष्टाचार की रोक, कॉमनवेल्थ गेम्स घोषणा मामले में कोई कार्रवाई नहीं करने, रैन बसेरे की घोषणा, 15 हजार ऑटो रिक्शा, अस्थायी कर्मचारियों के नियमन, सोमनाथ भारती को हटाने के लिए जनमत नहीं कराने, झुग्गी वालों को निशुल्क मकान और किसानों को राहत जैसे झूठे वादे में गिनाए।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू यादव को तीसरे केस में 5 साल की सजा, कोर्ट ने 10 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

करणी सेना बनाने वाले इस नेता की ये है पूरी सियासी कुंडली

धर्म और जाति दोनों का सहारा लेकर कोई अगर पूरे देश में शहर-शहर घूम कर हिंसा को बढ़ावा दे और कोई उसका कुछ न करे। तो सवाल उठता है कि एक ही तरह की हरकतों के लिए देश में अलग अलग कार्रवाई क्यों होती है? कौन है ये लोकेंद्र और क्या है इसका अतीत?

24 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls