शीला पहले वॉक करती हैं फिर टॉक करती हैं

अमर उजाला,दिल्ली Updated Fri, 22 Nov 2013 02:16 PM IST
विज्ञापन
daily schedule of political leader

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
राजधानी दिल्ली की कुर्सी मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के पास है। पार्टी के 43 विधायक हैं और सरकार बनाने के लिए 36 जरूरी हैं।
विज्ञापन

त्रिकोणीय मुकाबले की गूंज और चुनावी भागदौड़ के बावजूद मुख्यमंत्री मॉर्निंग वॉक और योग करना नहीं भूलती हैं। हालांकि इन दिनों नींद 6-7 घंटे की ही पूरी हो पाती है।
मुख्यमंत्री के सहयोगी बताते हैं कि मुख्यमंत्री सुबह 6-7 बजे उठती हैं। मॉर्निंग वॉक करके फिर योग भी रोज करती हैं। इसके बाद नाश्ता करती हैं। फिर क्षेत्र के लोगों से मुलाकात करती हैं।
इसके बाद क्षेत्र में निकल पड़ती हैं या कोई कार्यक्रम शेड्यूल में होता है तो वहां जाती हैं।

मुख्यमंत्री लंच करने डेढ़ बजे घर पर लौटने की कोशिश रहती हैं। ज्यादातर घर में ही लंच करती हैं। लंच करके पब्लिक मीटिंग के लिए निकल पड़ती हैं।

अपने क्षेत्र के अलावा दूसरी जगह जहां जाना होता है या फिर कोई मीटिंग होती है तो उसमें हिस्सा लेती हैं। रात को लौटने का समय अमूमन 8-9 बजे के बीच रहता है।

जैसा भी समय मिलता है रात 9-10 बजे के बीच डिनर करती हैं और रात 11 बजे के बाद ही सोती हैं।

लंच-डिनर का टाइम तक भूले यूसुफ
दिल्ली सरकार के मंत्री हारून यूसुफ बल्लीमारान से चुनाव मैदान में हैं। वे उन एक दर्जन विधायकों को शामिल हैं जो विधायक बनने की सिल्वर जुबली मनाने वाले हैं।

फिर भी वोट के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। खुद स्वीकारते हैं कि लंच और डिनर का तो टाइम ही भूल गया हूं। नींद सिर्फ 4-5 घंटे की मिलती है।

हारून यूसुफ का शेड्यूल सुबह 7 बजे उठने का है। उठने के बाद तैयार होते हैं और नाश्ता करके 8:30 बजे अपने क्षेत्र के लोगों से घर में एक घंटा मुलाकात करते हैं। फिर चुनाव क्षेत्र में निकल पड़ते हैं।

दो बजे तक सभी कार्यक्रम खत्म करते हैं और घर लौटते हैं। इस दौरान जो कार्यकर्ता घर आते हैं उनसे मुलाकात करके आगे का शेड्यूल तय करते हैं।

लंच की बात पूछने पर हारून यूसुफ कहते हैं कि सैंडविच या कुछ हल्का फुल्का गाड़ी में बैठे-बैठे ही ले लेता हूं। तीन बजे क्षेत्र में निकल पड़ते हैं और रात 10 बजे तक पदयात्रा या संपर्क करते हैं।

चुनाव आयोग ने प्रचार की अनुमति 10 बजे तक की ही दी है। फिर कार्यकर्ताओं से मुलाकात करना, किसी के घर आना जाना करते हैं।

घर लौटते-लौटते रात के एक से डेढ़ बज जाते हैं। फिर सो जाते हैं। रात का खाना लेने के समय को लेकर कहते हैं कि कभी खा लेता हूं कभी यूं ही सो जाता हूं।

अंकुरित मूंग-चना, अमरूद का ही सहारा है: हर्षवर्धन
भाजपा के सीएम इन वेटिंग डॉ. हर्षवर्धन पेशे से तो डॉक्टर हैं, लोगों को खाने की नसीहत देते नहीं थकते, लेकिन इस चुनावी भागदौड़ में खुद ही ब्रेक फास्ट, लंच और डिनर से दूर हो गए हैं। जहां जो मिलता है वही खा लेते हैं और चाय-कॉफी की चुस्की ले लेते हैं।

डॉ. हर्षवर्धन सुबह पांच-छह बजे बिस्तर से उठने के बाद रात के डेढ़-दो बजे ही अपनी थकान मिटाने के लिए नींद ले पाते हैं। दिनचर्या की अगर बात करें तो वे मीडिया को अगर ब्रेकफास्ट का शॉट देना होता है तभी ब्रेकफास्ट लेते हैं।

नहीं तो वे अपने क्षेत्र में प्रचार के लिए निकल पड़ते हैं। सुबह दस बजे के बाद वे पार्टी की अन्य योजनाओं से जुड़ जाते हैं। शाम के करीब पांच बजे से रात के दस बजे के बीच करीब पांच विधानसभा के दौरे पर रहते हैं।

आजकल डॉ. हर्षवर्धन अपनी कार में कुछ फल लेकर चल रहे हैं। इनका पसंदीदा फल अमरूद और आलू बुखारा है।

सेब, संतरा, सैंडविच और वोटरों का प्यार
: विजेंद्र गुप्ता
मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के खिलाफ चुनावी रण में उतरे पूर्व प्रदेश अध्यक्ष विजेंद्र गुप्ता भी अपनी दिनचर्या भूल गए हैं। पूरे दिन तरोताजा रहने के लिए इनदिनों 3-4 घंटे की ही नींद ले पा रहे हैं।

सुबह छह बजे पार्कों में प्रचार के लिए निकल जाते हैं। उनकी कार में ब्रेकफास्ट के लिए सैंडविच और फल में सेब-संतरा ही होता है। दोपहर का लंच वे अपने कार्यकर्ताओं के साथ ले रहे हैं।

रात में अपने घर वे करीब 2 बजे पहुंचते हैं। उनका मानना है कि नई दिल्ली क्षेत्र में प्रचार का रिस्पांस इतना अच्छा मिल रहा है कि उसी से वे बराबर तरोताजा महसूस करते हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us