दंगों का रिकॉर्ड नष्ट करने वालों पर अब गिरेगी गाज

अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Sun, 02 Feb 2014 08:33 AM IST
anti sikh riots in 1984
नवंबर 84 दंगों का रिकॉर्ड नष्ट करने के आरोप में कई वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों पर कार्रवाई की तलवार लटक गई है। अदालत ने पश्चिमी जिला पुलिस उपायुक्त को नांगलोई थाने में दर्ज दंगों के एक मामले का रिकॉर्ड नष्ट करने संबंधी रिपोर्ट तलब की है।

रोहिणी स्थित अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश कामनी लॉ ने पुलिस उपायुक्त को सरकारी दस्तावेज नष्ट करने संबंधी रूल के तहत स्पष्ट करने का निर्देश दिया है कि ऐसे अधिकारियों के खिलाफ क्या कार्रवाई का प्रावधान है। अदालत ने उन्हें गुम होने वाले रिकॉर्ड का विवरण भी पेश करने का निर्देश दिया है। अदालत ने 7 फरवरी तक रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश दिया है।

अदालत ने नवंबर 84 दंगो के दौरान नांगलोई थाने क्षेत्र के तत्कालीन एसीपी अमरेंद्र कुमार सिंह, थानाध्यक्ष आरएस दहिया, तत्कालीन थानाध्यक्ष रामपाल, एसआई दलेल सिंह इत्यादि के खिलाफ साक्ष्य नष्ट करने व आपराधिक षड्यंत्र का मुकदमा चलाने संबंधी अभियोजन पक्ष की याचिका पर यह निर्देश दिया है।

अभियोजन पक्ष का आरोप है कि 3 नवंबर 1984 को शिकायतकर्ता के थाने में बाल काट दिए गए। इसके अलावा कई लोगों की हत्या की गई। पुलिस ने मामले में तत्कालीन थानाध्यक्ष रामपाल व एसआई दलेल सिंह के अलावा कई अन्य को दंगा करने, हत्या व कई धाराओं में आरोपी बनाया था।

मामले की सुनवाई विचाराधीन थी इसी दौरान पता चला कि मामले से जुड़ा काफी रिकॉर्ड नष्ट कर दिया गया। अभियोजन पक्ष ने आवेदन दायर कर बताया कि तत्कालीन एसीपी अमरेन्द्र कुमार सिंह, थानाध्यक्ष आरएसदहिया, तत्कालीन थानाध्यक्ष रामपाल, एसआई दलेल सिंह ने षड्यंत्र के तहत 5 फरवरी 1992 में मामले से संबंधित सरकारी रिकॉर्ड नष्ट कर दिया। इस संबंध में उन्होंने क्षेत्रीय डीसीपी को भी गुमराह किया।

Spotlight

Most Read

National

पाकिस्तान की तबाही के दो वीडियो जारी, तेल डिपो समेत हथियार भंडार नेस्तनाबूद

सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने पाकिस्तानी गोलाबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया है। भारत के जवाबी हमले में पाकिस्तान की कई फायरिंग पोजिशन, आयुध भंडार और फ्यूल डिपो को बीएसएफ ने उड़ा दिया है।

23 जनवरी 2018

Related Videos

लालच के चक्कर में कुर्सी गंवाने वाले आप के 20 विधायकों ये है पूरी कुंडली

निर्वाचन आयोग की तरफ से भेजी गई आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों को अयोग्य ठहराए जाने संबंधी सिफारिश को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंजूरी दे दी है। इस बारे में औपचारिक अधिसूचना भी जारी कर दी गई है।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper