लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Delhi ›   Delhi NCR News ›   supreme court warns delhi government over water crisis in delhi

राष्ट्रपति भवन के पास भी गिरा जलस्तर, SC ने चेताया पानी को लेकर दिल्ली में युद्ध जैसे हालात

ब्यूरो/अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Wed, 09 May 2018 01:03 PM IST
सुप्रीम कोर्ट
सुप्रीम कोर्ट - फोटो : social media
विज्ञापन

दिल्ली में भूजल के गिरते स्तर पर सुप्रीम कोर्ट ने चिंता जताई है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हालत यह है कि राष्ट्रपति भवन व उसके पास भी भूजल का स्तर काफी नीचे आ गया है।



केंद्रीय भूजल बोर्ड की ओर से पेश रिपोर्ट देखने पर न्यायमूर्ति मदन बी लोकुर की अध्यक्षता वाली पीठ ने पाया कि राजधानी में भूजल का स्तर दिनोंदिन गिरता जा रहा है। स्थिति यह हो गई कि राष्ट्रपति भवन व बिरला मंदिर के पास भी भूजल स्तर बेहद नीचे चल गया है। पीठ ने कहा कि स्थिति गंभीर है।


सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार की ओर से पेश एडिशनल सॉलिसिटर जनरल एएनएस नादकर्णी ने भी भूजल के गिरते स्तर पर चिंता जताते हुए कहा कि अगला विश्वयुद्ध पानी को लेकर होगा। इस पर पीठ ने कहा कि आप विश्वयुद्ध की बात भूल जाइए दिल्ली में पानी को लेकर युद्ध शुरू होने जैसी स्थिति है।

नल से पानी पीता बच्चा
नल से पानी पीता बच्चा - फोटो : अमर उजाला
पीठ ने कहा कि दिल्ली की स्थिति गंभीर हो चुकी है। भूजल के लगातार हो रहे अत्यधिक दोहन से दिल्ली केअधिकतर हिस्से में समस्या गंभीर है। मई 2000 से मई 2017 के बीच दिल्ली में भूजल स्तर को लेकर बोर्ड द्वारा तैयार इस रिपोर्ट पर गौर करने के बाद पीठ ने कहा कि यह दर्शाता है कि अथॉरिटी सही तरीके  से अपने कामों को अंजाम नहीं दे रही है।

पीठ ने पाया कि दक्षिण, नई दिल्ली, दक्षिण-पूर्व, उत्तर पूर्व जिलों में स्थिति अधिक खराब है। सिर्फ पश्चिम और सेंट्रल जिले में थोड़ी बेहतर स्थिति है। पीठ ने कहा कि  हम उम्मीद करते हैं कि दिल्ली की संबंधित अथॉरिटी बोर्ड की रिपोर्ट को देखने के बाद पानी की समस्या को दूर करने के लिए उचित कदम उठाने का प्रयास करेगी।

पीठ ने जल संसाधन मंत्रालय के सचिव, दिल्ली सरकार और दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को इससे निपटने के लिए समाधान निकालने के लिए कहा है। अगली सुनवाई 11 मई को होगी।
भूजल का मसला दिल्ली में सीलिंग के मामले में दौरान उठा। सुप्रीम कोर्ट ने स्पेशल टास्क फोर्स को खान मार्केट और संजय मार्केट में अवैध निर्माण और कब्जे को हटाने के लिए कदम उठाने के लिए कहा है।

सुनवाई के दौरान अमाइकस क्यूरी वरिष्ठ वकील रंजीत कुमार ने बताया कि खान मार्केट में दुकानदारों ने आठ-आठ फीट तक दुकानें बढ़ा रखी है। वहीं संजय मार्केट में मल्टी स्टोरी बनाई गई है। उन्होंने आरोप लगाया कि झुग्गियों पर तो कार्रवाई होती है लेकिन पॉश मार्केट में कार्रवाई नहीं होती।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00