लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Delhi ›   Delhi NCR ›   Man shot dead teenager for iphone in Jamia Nagar Delhi

आईफोन के लिए कर दी हत्या: किशोर ने लिए थे 72 हजार रुपये, फोन नहीं दिया तो मार दी गोली, आरोपी गिरफ्तार

अमर उजाला ब्यूरो, नई दिल्ली Published by: अनुराग सक्सेना Updated Sun, 02 Oct 2022 09:27 AM IST
सार

अब्दुल्लाह ने खालिद को आईफोन दिलवाने के लिए उससे 72 हजार रुपये लिये थे। अब न तो वह खालिद को मोबाइल दिलवा रहा था और न ही उसके पैसे वापस कर रहा था। शुक्रवार शाम को हुए विवाद के बाद आरोपी ने तमंचे से उसके सीने में गोली मार दी। बाद में फरार हो गया।

मृतक अब्दुल्लाह
मृतक अब्दुल्लाह - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

जामिया नगर के बटला हाउस इलाके में शुक्रवार शाम एक किशोर की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मृतक की शिनाख्त मोहम्मद अब्दुल्लाह (17) के रूप में हुई है। वारदात को अब्दुल्लाह के पड़ोस में ही रहने वाले युवक ने अंजाम दिया। पुलिस ने आरोपी युवक खालिद उर्फ केपी भाई (24) को गिरफ्तार कर लिया है। 



दरअसल अब्दुल्लाह ने खालिद को आईफोन दिलवाने के लिए उससे 72 हजार रुपये लिये थे। अब न तो वह खालिद को मोबाइल दिलवा रहा था और न ही उसके पैसे वापस कर रहा था। शुक्रवार शाम को हुए विवाद के बाद आरोपी ने तमंचे से उसके सीने में गोली मार दी। बाद में फरार हो गया। पुलिस ने छानबीन के बाद आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस की पूछताछ में आरोपी ने हत्या करने की बात कबूल कर ली है।

पुलिस के मुताबिक अब्दुल्लाह परिवार के साथ बटला हाउस स्थित अजीम डेयरी की लाला डेयरी में रहता था। इसके परिवार में पिता मोहम्मद शफी, के अलावा चार बड़े भाई रहीस, आबिद, आरिफ और आसिफ हैं। दो साल पहले कोरोना के दौरान अब्दुल्लाह की मां की मौत हो गई थी। अब्दुल्लाह न्यू फ्रेंडस कालोनी के सरकारी स्कूल में 11वीं कक्षा का छात्र था। शुक्रवार को तबीयत खराब होने की वजह से वह स्कूल नहीं गया था। शाम करीब 4.00 बजे वह कुछ में आने की बात कर घर से निकला। इस बीच घर से चंद कदमों की दूरी पर आरोपी ने उसे गोली मार दी। वारदात के बाद आरोपी फरार हो गया।

राहगीरों ने अब्दुल्लाह को सड़क पर खून से लथपथ पड़ा देखा तो उसके घर सूचना दी। बड़ा भाई आसिफ तुरंत अब्दुल्लाह को नजदीकी होली फैमिली अस्पताल ले गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर एम्स मोर्चरी भेजा। बाद में हत्या का मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी गई।

जांच के दौरान पुलिस को कोई प्रत्यक्षदर्शी नहीं मिला। पुलिस ने घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे, मृतक के मोबाइल की जांच की। सीसीटीवी कैमरे से पुलिस को अहम सुराग मिला। जिसके बाद पुलिस ने खालिद को हिरासत में लिया। शुरुआत में वह वारदात में अपना हाथ होने की बात से इंकार करता रहा। लेकिन बाद में उसने हत्या करने की बात कबूल कर ली।

आरोपी ने बताया कि अब्दुल्लाह ने उसे महंगा आईफोन कम दामों में दिलवाने का झांसा दिया था। खालिद ने बताया कि उसने 72 हजार रुपये उसे दे दिए। लेकिन न तो अब्दुल्लाह ने रुपये वापस दिए और न ही फोन दिलवाया। शुक्रवार शाम को वह अब्दुल्लाह से अपने रुपये वापस मांगने लगा। इसी बात पर बहस के दौरान उसने तमंचे से अब्दुल्लाह को गोली मार दी। पुलिस ने खालिद की निशानदेही पर वारदात में इस्तेमाल तमंचा और खोखा भी बरामद कर लिया है। शनिवार को पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने अब्दुल्लाह का शव परिवार के हवाले कर दिया।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00