विज्ञापन

बैंड-बाजा न बारात, आईएएस और आईआरएस अधिकारी ने कोर्ट में की शादी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, बुलंदशहर Updated Thu, 07 Feb 2019 02:04 AM IST
शादी
शादी - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
आईएएस या आईआरएस अधिकारी की शादी में अक्सर आपने चमक-धमक और खर्चीले इंतजाम देखे होंगे, लेकिन गाजियाबाद में बुधवार को एक आईएएस और आईआरएस अधिकारी ने बेहद सादगी से शादी की। मंदिर में शादी के बाद उन्होंने सदर तहसील में जाकर सब-रजिस्ट्रार कार्यालय में शादी का पंजीकरण कराया।
विज्ञापन
न बैंड-बाजा, न बारात और न ही शोरशराबा, उनकी शादी के दौरान दूल्हे-दुल्हन के माता-पिता, उनके अधिवक्ता और सिर्फ कुछ करीबी लोग मौजूद रहे। अफसर दंपति ने बताया कि फिजूलखर्ची रोकने का संदेश देने के लिए उन्होंने सादगी से शादी की है।

कविनगर में रहने वाले नवीन कुमार चंद्र 2017 बैच के आईएएस और राजस्थान के गांव सुजानगढ़ की रहने वाली अंजना कुमारी 2017 बैच की आईआरएस अधिकारी हैं। दोनों फिलहाल मसूरी एकेडमी में ट्रेनिंग ले रहे हैं और जल्द ही उन्हें उनकी पहली तैनाती मिलने वाली है। दोनों ने शादी करने का फैसला किया, लेकिन साथ में समाज में एक संदेश देने का भी निर्णय लिया।

दोनों के परिजनों की सहमति हुई तो उन्होंने शोरशराबे और महंगे इंतजाम से दूर रहकर सादगी से कोर्ट मैरिज करने का फैसला किया। बुधवार दोपहर करीब 12:30 बजे आईएसएस नवीन कुमार चंद्र और आईआरएस अंजना कुमारी अपने परिजनों के साथ सदर तहसील पहुंचे। अधिवक्ता अनिल आनंद ने ने बताया कि उन्होनें सब-रजिस्ट्रार प्रथम रविंद्र मेहता के कार्यालय में शादी का पंजीकरण कराया।

नवीन कुमार चंद्र उनके सादगी से कोर्ट मैरिज करने के पीछे सबसे बड़ी वजह यह है कि वह फिजूलखर्ची के खिलाफ है। शादियों में फिजूलखर्ची रोकने का संदेश देने के लिए कोर्ट मैरिज की है। शादी में फिजूलखर्च से न केवल लड़की के परिवार पर बोझ पड़ता है, बल्कि पैसों का दुरुपयोग भी होता है।

इस रकम से वह समाज के दबे-कुचले वर्ग के लोगों के लिए कोई काम करेंगे। वहीं आईआरएस अधिकारी अंजना कुमारी ने कहा कि उनकी पहले से प्लानिंग थी कि शादी बिल्कुल सादगी से करेंगी और समाज में फिजूलखर्ची को रोकने का संदेश देंगे।
 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

करोड़ों के रिश्ते ठुकराए: रामदेव

विज्ञापन

Recommended

जम्मू कश्मीर में 20 साल में सबसे बड़ा आतंकी हमला, विस्तृत कवरेज यहां पढ़ें
Pulwama Exclusive

जम्मू कश्मीर में 20 साल में सबसे बड़ा आतंकी हमला, विस्तृत कवरेज यहां पढ़ें

मोक्ष और अभय की कामना को पूर्ण करने के लिए शिवरात्रि पर ज्योतिर्लिंग काशी विश्वनाथ मंदिर में करवाएं विशेष शिव पूजा
ज्योतिष समाधान

मोक्ष और अभय की कामना को पूर्ण करने के लिए शिवरात्रि पर ज्योतिर्लिंग काशी विश्वनाथ मंदिर में करवाएं विशेष शिव पूजा

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Lucknow

बेजुबान और बेसहारा जानवरों का सहारा बनीं लखनऊ की नैना, अपने खर्चे पर कराती हैं इलाज

लखनऊ की छात्रा नैना कुमार को कोई भी बेजुबान जब किसी परेशानी में नजर आता है तो वह उनकी मदद करने पहुंच जाती है। उनका इलाज कराती है और अंगीकृत करने में सहायता करती है।

15 फरवरी 2019

विज्ञापन

गुजर रहा था शहीद का पार्थिव शरीर तभी आ गई भीड़...

पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए थे अश्वनी कुमार काछी...उनके गृहनगर जबलपुर लेकर जाया जा रहा था पार्थिव शरीर...कटनी से गुजरते वक्त भारी संख्या में लोगों ने दी श्रद्धांजलि...दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धा सुमन अर्पित किए

16 फरवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree