गलती हमारी... हिंडन के अस्तित्व पर पड़ रही भारी-Ghaziabad city

Ghaziabad Bureau Updated Thu, 14 Sep 2017 01:32 AM IST
गलती हमारी... हिंडन के अस्तित्व पर पड़ रही भारी
कभी गाजियाबाद की पहचान रही हिंडन नदी (पूर्व में हरनंदी) का अस्तित्व यूं ही खतरे में नहीं पड़ा। इसके लिए जिला प्रशासन के साथ यहां के बाशिंदे ही जिम्मेदार हैं। बढ़ते औद्योगिकीकरण और शहरीकरण के कारण यह नदी अब केमिकल और सीवरेज ढोने वाले नाले में तब्दील होकर रह गई है। रही सही कसर शासन और भूमाफियाओं के गठजोड़ ने पूरी कर दी। डूब क्षेत्र में कालोनियां बसाकर इस नदी का ‘गला’ घोंट दिया गया।
अफसरों अनदेखी से हिंडन नदी की ‘गोद’ में एक दर्जन से ज्यादा कालोनियां और सैकड़ों की संख्या में आशियाने बन गए हैं। डूब क्षेत्र में अंधाधुंध हो रहे पक्के निर्माण के चलते हिंडन नदी का बहाव भी मोड़ दिया गया है। ऐसे में कभी भी मानसूनी सीजन में नदी का थोड़ा सा जलस्तर भी बढ़ने पर तबाही मच सकती है। जीडीए ने करीब तीन साल पहले डूब क्षेत्र में बने मकानों को हटाने के नोटिस जारी किए थे, लेकिन आज तक कार्रवाई नहीं की गई।

बंधे बनते गए... नदी का नदी का दम घुटता गया
गाजियाबाद के बुजुर्गों की मानें तो पहले हिंडन नदी का पानी दूधेश्वरनाथ मंदिर तक पहुंच जाता था। सरकारी तंत्र ने पुश्ते बनाकर हिंडन को एक सीमित दायरे तक कैद कर दिया। 1978 में आई बाढ़ के दौरान ठाकुरद्वारा तक हिंडन का पानी पहुंच गया और पटेल नगर समेत कई क्षेत्रों में मकान की एक-एक मंजिल डूब गई थीं। इसलिए पुश्तों की परंपरा की नींव पड़ी। पहला पुश्ता पुराना बस अड्डा रोड को बनाया और इसके बाद दूसरे पुश्ते के रूप में मेरठ रोड को बनाया। मेरठ रोड के बनने के बाद पटेल नगर कालोनी तो सुरक्षित हो गई लेकिन रिवरबेड की इकोलॉजी बिगड़ने लगी।1995 से शुरू हुई तबाही ने पहले पानी से आक्सीजन खत्म किया, जिसके चलते पहले जलचर खत्म हुए। फिर आसपास चहकने वाले परिंदे यहां से रूठ गए। नगर निगम ने एक लाख मछलियां भी डाली लेकिन नतीजा सिफर ही रहा। उस पर एक के बाद एक बनते पुश्तों ने रही सही कसर निकाल दी। शासन ने राजनगर एक्सटेंशन रोड बनाकर नंदग्राम को सुरक्षित किया और हाल ही में कनावनी व प्रताप विहार, सिद्धार्थ विहार को भी बचाने के लिए पुस्ता रोड बन जाने से नदी का फ्लड बैड बेहद सिमट गया है।

डूब क्षेत्र में बनी बस्तियां
कनावनी, हिंडन विहार, नूरनगर, सिहानी, नंदग्राम, मोरटी, करहेड़ा, प्रताप विहार, राहुल विहार।

Spotlight

Most Read

Lucknow

ब्राइटलैंड स्कूल दो दिन के लिए बंद, छात्रा हुई जुवेनाइल कोर्ट में पेश

राजधानी के ब्राइटलैंड स्कूल में छात्र को चाकू मारने की घटना के बाद बच्चों में बसे खौफ को दूर करने के लिए स्कूल को दो दिनों के लिए बंद कर दिया है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: इस बंदर और कुत्ते की दोस्ती एक मिसाल है

अक्सर हम सब ने बंदर और कुत्ते की दुश्मनी देखी है लेकिन हापुड़ में बंदर और कुत्ते के बच्चे का प्यार इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है।

15 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper