सीएम विंडो पर छह माह से लटकी है भ्रष्टाचार की शिकायत

Noida Bureau Updated Fri, 10 Nov 2017 11:34 PM IST
सीएम विंडो : छह माह में भी शिकायत का समाधान नहीं

फरीदाबाद। जनता की शिकायतें और समस्या एक माह के अंदर सुलझाने के लिए शुरू की गई सीएम विंडो सुविधा अधिकारियों की लापरवाही की वजह से पूरी तरह सफल नहीं हो पा रही है। सेहतपुर स्थित सरकारी स्कूल में सर्व शिक्षा अभियान के तहत इमारत निर्माण में भ्रष्टाचार की शिकायत की जांच छह माह बाद भी पूरी नहीं हो सकी है। सितंबर माह में प्राथमिक शिक्षा निदेशक ने जांच के आदेश जारी किए लेकिन वह भी ठंडे बस्ते में चली गई।
सेहतपुर निवासी भूपेंद्र शर्मा आरटीआई कार्यकर्ता हैं। उन्होंने सेहतपुर स्थित सरकारी स्कूल में इमारत निर्माण में वित्तीय हेराफेरी की शिकायत 15 अप्रैल 2017 में सीएम विंडो पर की थी। भूपेंद्र शर्मा के मुताबिक सर्व शिक्षा अभियान के तहत वर्ष 2009-13 के बीच सेहतपुर स्थित राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल में 16 क्लासरूम, विज्ञान प्रयोगशाला, पुस्तकालय, रसोईघर, महिला शौचालय और एक शौचालय बनवाए जाने के लिए एक करोड़ से अधिक रुपये जारी किए गए। उनका आरोप है कि स्कूल प्रबंधन और शिक्षा विभाग के अधिकारियों की मिली भगत से कुछ ही कमरे छोड़कर कुछ भी नया निर्माण नहीं किया गया। घटिया और मानक से कम निर्माण सामग्री लगाकर कमरों की छत ढाली गई। उनका आरोप है कि छत का लेंटर सिर्फ तीन इंच मोटा है और कई जगह लटक चुका है। नए की जगह पुराने शौचालयों की घटिया मरम्मत करवाई गई। रसोई घर और शौचालय अधूरे पड़े हैं, दीवारों पर प्लास्टर भी नहीं किया गया। निर्माण की गुणवत्ता जांच कराए बिना ही विभाग के अधिकारियों ने ठेकेदार को भुगतान भी करवा दिया। भूपेंद्र शर्मा बताते हैैं कि शिकायत के बाद सीएम विंडो से मामले की जांच करने के आदेश हुए लेकिन एक जनप्रतिनिधि के करीबी शिक्षक के दबाव में आकर विभागीय अधिकारियों ने जांच आगे नहीं बढ़ाई। पांच माह बीतने पर उन्होंने सीएम विंडो पर रिमाइंडर डाला।
शिकायत का असर हुआ कि निदेशक प्राथमिक शिक्षा गरिमा मित्तल ने स्टेट काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग गुरुग्राम की उप निदेशक प्रेमलता को 22 सितंबर 2017 को मामले की जांच सौंपी। उन्हेें मामले की जांच कर एक माह के भीतर रिपोर्ट देनी थी। भूपेंद्र शर्मा का कहना है कि डेढ़ माह बीत चुके आज तक कोई उनसे शिकायत के संदर्भ में पूछताछ करने नहीं आया।

एसडीओ सर्व शिक्षा अभियान ने भी दी थी गड़बड़ी की रिपोर्ट
भूपेंद्र शर्मा के मुताबिक, निर्माण में धांधली की शिकायत के बाद एसडीओ सर्व शिक्षा अभियान ने इसकी जांच की थी। एसडीओ ने अपनी जांच रिपोर्ट में इमारत का निर्माण अधूरा होने, छह क्लासरूम, रसोईघर, शौचालय का निर्माण पूरा न होना दर्शाया था। रिपोर्ट में इस इमारत को छात्र और वहां रहने वाले लोगों के लिए खतरा बताया गया था। उनका आरोप है कि निर्माण में करीब चालीस लाख रुपये की हेराफेरी की गई।

कोट
इस मामले में सोमवार को स्कूल का निरीक्षण किया जाएगा। निर्माण कार्य की रिपोर्ट मंगाई गई हैं। नई प्रिंसिपल ने एक सप्ताह पूर्व ही कार्यभार संभाला है। इसलिए उन्होंने दस्तावेज जुटाने के लिए एक सप्ताह का समय मांगा था। जांच के बाद रिपोर्ट भेजी जाएगी।
- सतेंद्र कौर वर्मा, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी, फरीदाबाद

Spotlight

Most Read

National

पुरुष के वेश में करती थी लूटपाट, गिरफ्तारी के बाद सुलझे नौ मामले

महिला लड़कों के ड्रेस में लूटपाट को अंजाम देती थी। अपने चेहरे को ढंकने के लिए वह मुंह पर कपड़ा बांधती थी और फिर गॉगल्स लगा लेती थी।

20 जनवरी 2018

Related Videos

हरियाणा के उद्योग मंत्री ने प्रधानमंत्री राहत कोष के लिए इस तरह जुटाए 2.5 करोड़

हरियाणा के उद्योग मंत्री विपुल गोयल द्वारा फरीदाबाद स्थित सूरजकुंड के सिल्वर जुबली हॉल में उपहारों की प्रदर्शनी लगाई। उपहारों की इस प्रदर्शनी के जरिए पीएम राहत कोष के लिए 2.5 करोड़ की धन राशि जुटाई गई।

15 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper