JNU Violence: हिंसा के खिलाफ दिल्ली से लेकर मुंबई और कोलकाता तक बवाल

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: शाहरुख खान Updated Tue, 07 Jan 2020 12:07 AM IST
JNU Violence Live Updates: police files fir students dicharge from aiims
जेएनयू हिंसा के विरोध में छात्रों का प्रदर्शन - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन

खास बातें

जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में रविवार को हुई हिंसा के बाद सोमवार को पुलिस ने इस मामले में एफआईआर दर्ज कर ली है। पुलिस का कहना है कि सीसीटीवी और सोशल मीडिया को जांच का आधार बनाया जाएगा। वहीं एम्स में भर्ती सभी छात्रों को छुट्टी दे दी गई और केंद्रीय गृह मंत्रालय भी इस पूरे मामले पर नजर रखे हुए है। मुंबई-पुणे, कोलकाता समेत देश के कई हिस्सों में बड़ी संख्या में छात्र सड़कों पर उतर आए। इसको लेकर राजनीति भी तेज हो गई है। हर अपडेट यहां पढ़ें...
विज्ञापन

लाइव अपडेट

12:00 AM, 07-Jan-2020

मुंबई : प्रदर्शन में शामिल हुईं बॉलीवुड हस्तियां

जेएनयू हिंसा के खिलाफ मुंबई में कार्टर रोड पर चल रहे प्रदर्शन में कुछ बॉलीवुड हस्तियां भी आ गई हैं। इनमें फिल्म निर्देशक विशाल भारद्वाज, अनुराग कश्यप, जोया अख्तर और अभिनेत्री तपसी पन्नू, रिचा चड्ढा व स्वरा भास्कर शामिल हैं। 
 

 
09:57 PM, 06-Jan-2020
गेटवे ऑफ इंडिया पर छात्रों का प्रदर्शन

जेएनयू हिंसा के विरोध में मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया में छात्रों का प्रदर्शन, इस दौरान एक छात्रा के हाथ में फ्री कश्मीर का पोस्टर भी नजर आया। 
 

 
09:44 PM, 06-Jan-2020
इंडिया गेट पर टॉर्च रैली 

जेएनयू हिंसा के विरोध में भारतीय युवा कांग्रेस ने इंडिया गेट पर टॉर्च रैली निकाली। 
 

 
06:44 PM, 06-Jan-2020
दिल्ली पुलिस ने कहा, मिले अहम सुराग 

दिल्ली पुलिस के पीआरओ एमएस रंधावा ने जेएनयू हिंसा मामले में कहा कि दो गुटों में झगड़ा हुआ था लेकिन हालात काबू में है। जांच के लिए एक समिति बनाई गई है। हमें कुछ महत्वपूर्व सुराग भी मिले हैं। हम कोशिश कर रहे हैं कि मामला जल्दी सुलझ जाए। उन्होंने कहा कि एफआईआर दर्ज की गई है। 34 लोग घायल हुए हैं जिन्हें उपचार के बाद एम्स के ट्रामा सेंटर से छुट्टी दे दी गई है। 
06:26 PM, 06-Jan-2020
एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया ने की आलोचना 

मानवाधिकार संगठन एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया ने संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे छात्रों की सुरक्षा में “बार-बार विफल रहने पर” सोमवार को दिल्ली पुलिस की आलोचना की। संस्था के अखिल भारतीय कार्यकारी निदेशक अविनाश कुमार ने एक बयान में कहा कि दिल्ली पुलिस छात्रों पर भीड़ के बर्बर हमले की शर्मनाक मूकदर्शक बनी रही। उन्होंने कहा कि प्राधिकारी छात्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के अपने कर्तव्य में विफल रहे, यह सरकारी मशीनरी के साथ शर्मनाक सहअपराध का संकेत दे रहा है। 
06:10 PM, 06-Jan-2020
संगठित हमला था: आइशी घोष 

जवाहर लाल नेहरू छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष ने सोमवार को आरोप लगाया कि परिसर पर हुआ हमला संगठित था। घोष ने कहा कि यह संगठित हमला था। वे लोगों को छांट-छांट कर उन पर हमला कर रहे थे। जेएनयू सुरक्षा और तोड़फोड़ करने वालों के बीच पक्का कोई साठगांठ थी। उन्होंने हिंसा रोकने के लिए हस्तक्षेप नहीं किया। 

उन्होंने कहा कि पिछले चार-पांच दिन से आरएसएस से जुड़े कुछ प्रोफेसर हिंसा को बढ़ावा दे रहे थे ताकि हमारे आंदोलन को तोड़ा जा सके। क्या जेएनयू और दिल्ली पुलिस से सुरक्षा मांग कर हम कोई गलती कर रहे हैं? 
 
05:49 PM, 06-Jan-2020
जदयू ने की कुलपति को हटाने की मांग

भाजपा के सहयोगी दल जदयू ने सोमवार को जेएनयू के कुलपति को हटाने की और रविवार रात को हुई हिंसा के मामले में उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश से जांच कराने की मांग की। जदयू प्रवक्ता के सी त्यागी ने एक बयान में कहा कि उनकी पार्टी जेएनयू परिसर में गुंडा तत्वों की हिंसक गतिविधियों की कड़ी निंदा करती है और नकाबपोश बाहरी तत्वों ने जिस तरीके से जेएनयू छात्र संघ के निर्वाचित पदाधिकारियों पर हमला किया, उसकी समाज के सभी वर्गों को निंदा करनी चाहिए।

 
05:39 PM, 06-Jan-2020

सुरक्षाकर्मियों और उपद्रवियों के बीच सांठगांठ से किया गया हमला: आइशी घोष

जेएनयू में रविवार की हिंसा पर आइशी घोष ने कहा कि पिछले 4-5 दिनों से आरएसएस से जुड़े कुछ प्रोफेसर हमारे आंदोलन को दबाने के लिए हिंसा को भड़का रहे थे। यह एक संगठित हमला था, वे लोगों को चुन-चुनकर बाहर निकाल रहे थे और उन पर हमला कर रहे थे। जेएनयू के सुरक्षा कर्मियों और उपद्रवियों के बीच सांठगांठ है, उन्होंने हिंसा रोकने के लिए हस्तक्षेप नहीं किया। 
 


कुलपति को तत्काल हटाने की मांग

जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष आइशी घोष ने तत्काल प्रभाव से कुलपति को हटाने की भी मांग की है।

 

 
05:27 PM, 06-Jan-2020

विश्वविद्यालयों को राजनीति का 'अड्डा' नहीं बनने देंगे: मानव संसाधन विकास मंत्री

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल ने कहा कि विश्वविद्यालय शिक्षा के लिए हैं और इन्हें कभी भी राजनीतिक आधार नहीं बनाना चाहिए। जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। विश्वविद्यालयों को राजनीति का 'अड्डा' कभी नहीं बनने देंगे। 
 

 
05:17 PM, 06-Jan-2020

जेएनयू हिंसा पर अभिनेता अनिल कपूर बोले मैं पूरी रात सो नहीं सका

जेएनयू हिंसा पर अभिनेता अनिल कपूर ने कहा कि यह घटना निंदनीय है। काफी दुखद और चौंकाने वाला है। जो मैंने देखा, वह बहुत परेशान करने वाला था। मैं इसके बारे में सोचकर पूरी रात सो नहीं सका। हिंसा से हमें कुछ हासिल नहीं होगा, जिन्होंने ये किया है उन्हें सजा मिलनी चाहिए।
 

 
05:11 PM, 06-Jan-2020

चिदंबरम ने की अपराधियों के 24 घंटे में गिरफ्तारी मांग 

जेएनयू हिंसा पर पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम ने कहा यह घटना शायद सबसे बड़ा सबूत है कि हम तेजी से अराजकता की तरफ बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह घटना भारत की राजधानी में अग्रणी यूनिवर्सिटी में गृहमंत्री, एलजी और पुलिस आयुक्त की निगरानी में हुई।

चिंदबरम ने कहा कि हम मांग करते हैं कि हिंसा के अपराधियों की पहचान की जाए और उन्हें 24 घंटे के भीतर गिरफ्तार कर न्याय किया जाए। हम यह भी मांग करते हैं कि अधिकारियों की जवाबदेही तय की जाए और तुरंत कार्रवाई की जाए।

 

वहीं, माकपा महासचिव और जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष सीताराम येचुरी ने कहा कि कुलपति भी इस हमले में संलिप्त रहे। उन्हें तत्काल हटाया जाना चाहिए। 
 
05:01 PM, 06-Jan-2020

कोलकाता: जेएनयू में हिंसा के खिलाफ जादवपुर विश्वविद्यालय के छात्रों ने किया विरोध प्रदर्शन

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में कल हुई हिंसा के खिलाफ जादवपुर विश्वविद्यालय के छात्रों ने विरोध प्रदर्शन किया।

 

 
04:59 PM, 06-Jan-2020

जेएनयू शिक्षक संघ ने की कुलपति को हटाने की मांग

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (जेएनयूटीए) ने नकाबपोश लोगों द्वारा विद्यार्थियों एवं शिक्षकों पर हमला होने के बाद सोमवार को कुलपति एम जगदीश कुमार को हटाने की मांग की।

इसके अलावा जेएनयू के शिक्षकों ने हिंसा की जांच की भी मांग की।
03:07 PM, 06-Jan-2020

मोदी सरकार की शह पर हुआ हमलाः सोनिया गांधी

जेएनयू हिंसा पर सोनिया गांधी ने कहा है कि भारत के युवाओं और छात्रों की आवाज रोजाना रौंदी जा रही है। सत्तारूढ़ मोदी सरकार की शह पर गुंडों द्वारा भारत के युवाओं पर भयावह और अभूतपूर्व हिंसा की गई, यह बहुत ही निराशाजनक और अस्वीकार्य है। 

 
02:45 PM, 06-Jan-2020

अखिलेश यादव बोले होनी चाहिए निष्पक्ष जांच

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने जेएनयू हिंसा पर कहा है कि देश और दुनिया ने देखा कि कैसे जेएनयू कैंपस में नकाबपोश लोग घुसे और एक नियोजित तरीके से कैंपस में कहर बरपाया। इसकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए ताकि ये पता चल सकके कि इस पूरे कांड के पीछे कौन षड्यंत्रकारी है।

 
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00