विज्ञापन
विज्ञापन

बाइक बोट मामले में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने दर्ज किया मामला, 67 लाख रुपये की ठगी का आरोप

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Sun, 22 Sep 2019 02:57 AM IST
बाइक बोट
बाइक बोट - फोटो : social
ख़बर सुनें
बाइक टैक्सी चलाने के नाम पर लाखों लोगों से करोड़ों की ठगी प्रकरण में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने भी एक मामला दर्ज किया है। आरके पुरम के रहने वाले एक शख्स ने कंपनी पर 67 लाख रुपये की ठगी करने की शिकायत की है। पीड़ित की शिकायत पर पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।
विज्ञापन
जानकारी के मुताबिक आरके पुरम निवासी राजेश मणि ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि इंटरनेट के जरिए उसे बाइक बोट नाम की कंपनी के बारे में पता चला। उस पर दिए नंबर से कंपनी के कर्मचारी पुष्पेंद्र से संपर्क किया। पुष्पेंद्र, अंकित जैन और केपी सिंह ने बोट क्लब के पास आकर कंपनी के स्कीम के बारे में बताया। उसके बाद तीनों आरोपियों ने उसे कंपनी के संचालक संजय भाटी से मिलवाया।

संजय ने भरोसा दिलाया कि ढाई से तीन लाख लोगों ने कंपनी में निवेश कर रखा है और उन्हें समय पर पैसे मिल रहे हैं। उसके झांसे में आकर राजेश ने अपने, अपनी पत्नी, भाई, भाभी और अपने सहयोगियों सहित 62 बाइकों का पैसा 38.50 लाख रुपये जमा करवाए। जिसमें कंपनी ने कुछ बाइक का अनुबंध किया और कुछ बाइक का अनुबंध नहीं किया।

इस बाबत संजय भाटी से बात करने पर उसने कहा कि किसी कारणवश कंपनी बंद करनी पड़ती है, तो पूरी रकम फायदे के साथ दूंगा। उसने 12 माह में 86.97 लाख रुपये देने का वादा किया। कंपनी ने समय-समय पर राजेश और उसके सहयोगियों को कुल 18.98 लाख रुपये का भुगतान भी किया। उसके बाद भुगतान बंद कर दिया।

पीड़ित को पता चला कि संजय भाटी ने लाखों निवेशकों से करोड़ों की ठगी कर कंपनी बंद कर दी है। राजेश ने अपनी शिकायत में पुलिस से गुहार लगाई है कि उसके 67 लाख रुपये का भुगतान करवाया जाए।

ऐसे स्कीम चलाकर की ठगी
संजय भाटी की गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स लिमिटेड की तरफ से बाइक बोट स्कीम शुरू की गई थी। जो ओला उबर की तर्ज पर बाइक टैक्सी चलवाने के नाम पर एक निवेशक से 62,100 रुपये लेती थी। इसके बदले में निवेशकों को 6765 रुपये प्रतिमाह एक वर्ष तक लाभ देने की बात कही थी। लाखों लोगों से हजारों करोड़ रुपये का निवेश कराने के बाद कंपनी बंद कर दी गई। इसके बाद नोएडा पुलिस ने इसके मालिक संजय भाटी को गिरफ्तार किया, तो जांच में करीब पांच हजार करोड़ रुपये की ठगी की बात सामने आई।

अब तक गिरफ्तार हुए दस आरोपी
बाइक बोट कंपनी के फर्जीवाड़े के खुलासे के बाद अब तक दस आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी हैै। जिसमें कंपनी के एमडी, डायरेक्टर व कर्मचारी शामिल है। इस मामले में दो लोगों के खिलाफ पांच मामलों में चार्जशीट दाखिल की जा चुकी है। चार्जशीट में 38 लोगों का नाम शामिल है, जिसमें 10 आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए 25 हजार का इनाम घोषित किया गया है।
विज्ञापन

Recommended

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Delhi

डेढ़ लाख ई-चालान वापस लेगी दिल्ली ट्रैफिक पुलिस, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने डेढ़ लाख ई-चालान वापस लेने का फैसला किया है। इनमें से ज्यादातर चालान राष्ट्रीय राजमार्ग 24 पर अगस्त से लेकर 10 अक्तूबर के बीच तेज रफ्तार से वाहन चलाने के लिए काटे गए थे। 

15 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

मध्य-प्रदेश सरकार में मंत्री पीसी शर्मा ने कैलाश विजयवर्गीय और हेमा मालिनी पर दिया बेतुका बयान

मध्य-प्रदेश सरकार में मंत्री पीसी शर्मा ने सड़कों के बहाने कैलाश विजयवर्गीय और भाजपा सांसद हेमा मालिनी को लेकर बेतुका बयान दिया है।

15 अक्टूबर 2019

Related

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree