आईआईटी दिल्ली समेत ये 6 इंस्टीट्यूट हैं इंडिया में बेस्ट

ब्यूरो ,अमर उजाला,नई दिल्ली Updated Mon, 09 Jul 2018 09:44 PM IST
IIT Delhi
IIT Delhi
ख़बर सुनें
आईआईटी दिल्ली, आईआईटी मुंबई, आईआईएससी बंगलूरू, जियो इंस्टीट्यूट ऑफ रिलायंस फाउंडेशन, बिट्स पिलानी और मनीपाल इंस्टीट्यूट को उत्कृष्ट संस्थान (इंस्टीट्यूट ऑफ एमिनेंस) का दर्जा दिया गया है। यूजीसी काउंसिल की बैठक में इन संस्थानों को यह दर्जा इंस्टीट्यूट ऑफ एमिनेंस डीम्ड-टू बी यूनिवर्सिटी रेगुलेशन-2017 के तहत दिया गया।
इसमें तीन सरकारी व तीन निजी संस्थान शामिल हैं। खास बात यह है कि आईआईटी दिल्ली, आईआईटी मुंबई व आईआईएससी बंगलूरू को इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार करने को पांच साल में एक हजार करोड़ रुपये की ग्रांट भी दी जाएगी। 

यूजीसी काउंसिल की सोमवार को हुई बैठक में इंस्टीट्यूट ऑफ एमिनेंस डीम्ड-टू बी यूनिवर्सिटी रेगुलेशन 2017 और डीम्ड-टू बी यूनिवर्सिटी रेगुलेशन 2018 का ड्राफ्ट पास किया गया। दुनिया के सर्वश्रेष्ठ शिक्षण संस्थानों में भारतीय संस्थानों को शामिल करने के लिए सरकार को इंस्टीट्यूट ऑफ एमिनेंस के तहत दस सरकारी व दस निजी संस्थान चुनने थे, लेकिन पहले चरण में छह नाम ही चयनित हुए हैं। 

जियो रिलायंस ग्रीन फील्ड वर्ग से टॉप छह में 
रिलायंस फाउंडेशन का जियो इंस्टीट्यूट ग्रीन फील्ड वर्ग केे तहत उत्कृष्ट संस्थान की रेस में शामिल हुआ है। यह इंस्टीट्यूट अभी कागजों में है। अगले तीन साल में इंस्टीट्यूट को अपना सेटअप तैयार कर दुनिया के सर्वश्रेष्ठ शिक्षण संस्थानों को टक्कर देनी होगी। यह इंस्टीट्यूट नवी मुंबई में स्थापित किया जाएगा, जहां पढ़ाई के साथ रिसर्च पर फोकस किया जाएगा।

दुनिया के सौ सर्वश्रेष्ठ संस्थानों में होंगे शुमार 
केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडे़कर ने कहा कि चुने गए उत्कृष्ट संस्थान अब दुनिया के सर्वश्रेष्ठ सौ शिक्षण संस्थानों को टक्कर देंगे। सरकारी तीनों संस्थानों को इंफ्रास्ट्रक्चर सुधारने के लिए केंद्र सरकार की ओर से विशेष ग्रांट भी मिलेगी। 
 

Spotlight

Most Read

Shimla

कर्मचारी चयन आयोग ने घोषित किया इस भर्ती का परिणाम

हिमाचल प्रदेश कर्मचारी चयन आयोग हमीरपुर ने पोस्ट कोड 535 का भर्ती परिणाम घोषित कर दिया है।

17 जुलाई 2018

Related Videos

VIDEO: देखिए, केदारनाथ में बनकर तैयार हुई पीएम मोदी की ‘गुफा’!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले निर्देशों के बाद केदारनाथ धाम में विशेष रूप से एक गुफा का निर्माण किया गया है। इस गुफा को बनाने के पीछे का मकसद है कि यहां आए भक्त साधना के इच्छुक हैं तो वो केदारपुरी की इस गुफा में रुक कर साधना कर सकते हैं।

17 जुलाई 2018

Recommended

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen