लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Delhi ›   Delhi NCR ›   AAP MLA Amanatullahs remand period extended by five days

वक्फ बोर्ड भ्रष्टाचार मामला: अमानतुल्लाह को कोर्ट से राहत नहीं, पांच दिनों की रिमांड पर भेजे गए

अमर उजाला नेटवर्क, नई दिल्ली Published by: विजय पुंडीर Updated Thu, 22 Sep 2022 10:55 AM IST
सार

एजेंसी ने अदालत में कहा कि वक्फ संपत्तियों को किराए पर देने में कथित अनियमितता के मामले में एक गवाह ने बताया है कि किस तरह खान अपने साथियों के साथ मिलकर वक्फ संपत्तियों में सुविधाएं दिलाने के नाम पर लोगों से कथित तौर पर मोटी रकम वसूला करता था और बोर्ड के राजकोष को नुकसान पहुंचा रहा था।

आप विधायक अमानतुल्लाह खान
आप विधायक अमानतुल्लाह खान - फोटो : amar ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

अदालत ने दिल्ली वक्फ बोर्ड भ्रष्टाचार मामले में गिरफ्तार आप विधायक अमानतुल्लाह खान की रिमांड अवधि 26 सितंबर तक बढ़ा दी। उसे दिल्ली पुलिस की भ्रष्टाचार निवारण शाखा (एसीबी) ने हालही में गिरफतार किया था।



राउज एवन्यू स्थित विशेष न्यायाधीश विकास ढुल के सामने अमानत की रिमांड अवधि खत्म होने पर पेश किया गया। जांच अधिकारी ने उनकी रिमांड 10 दिनों के लिए बढ़ाने की मांग करते हुए कहा उसे खान के खिलाफ कुछ अहम गवाह मिले हैं। अहम आरोपियों की गिरफ्तारी हुई है, जिनसे आरोपी नेता का सामना कराना है।


जांच अधिकारी ने अब तक की जांच का पूरा ब्यौरा अदालत के सामने रखा। एजेंसी ने अदालत में कहा कि वक्फ संपत्तियों को किराए पर देने में कथित अनियमितता के मामले में एक गवाह ने बताया है कि किस तरह खान अपने साथियों के साथ मिलकर वक्फ संपत्तियों में सुविधाएं दिलाने के नाम पर लोगों से कथित तौर पर मोटी रकम वसूला करता था और बोर्ड के राजकोष को नुकसान पहुंचा रहा था। दिल्ली वक्फ बोर्ड की एक महिला कर्मी के बयान को आधार बनाते हुए जांच एजेंसी ने अदालत में कहा कि भारत सरकार ने वक्फ एसेट्स मैनेजमेंट सिस्टम ऑफ इंडिया नाम से एक प्रोजेक्ट लॉन्च किया था। इसके अंतर्गत वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कंप्यूटरीकरण होना था, पर आरोपी नेता के कहने पर इस प्रोजेक्ट की फाइलें हटा दी गई थीं। 

आरोप लगाया कि खान वक्फ बोर्ड की संपत्तियों से जुड़े मामलों में पारदर्शिता नहीं चाहते थे क्योंकि ऐसा होने से उनकी अवैध गतिविधियों पर लगाम कस जाती। जांच एजेंसी के मुताबिक, अल्पसंख्यक मामलों की ब्रांच के एसडीएम ने अपने बयान में कहा कि दिल्ली वक्फ बोर्ड में मानक पद ही नहीं हैं, इसीलिए यहां कॉन्ट्रैक्ट के आधार पर नियुक्ति नहीं की जा सकती हैं।

जांच एजेंसी ने अपनी मांग के संबंध में इन तीन बयानों के अलावा और भी कई आधार अदालत के सामने रखे। कौसर इमाम उर्फ लड्डन के घर से मिली डायरियों से कथित तौर पर करोड़ों के लेनदेन का खुलासा हुआ। उनके जरिए अभी तक 37 लोगों के नाम उभर कर आए हैं, जिनकी पहचान स्थापित कर मुख्य आरोपी से उनका सामना कराना है। जांच अधिकारी ने कहा चार दिन की रिमांड के दौरान आरोपी नेता के साथ अस्पताल के चक्कर लगाने में ही खत्म हो गई। वे बीमार होने के चलते अस्पताल में भर्ती रहे और पूछताछ नहीं हो पाई।

इसके अलावा उन्होंने जांच में सहयोग नहीं किया। जामिया नगर पुलिस द्वारा तेलंगाना से गिरफ्तार कौसर के बारे में कहा गया कि यह व्यक्ति एक तरह से मुख्य आरोपी के फंड मैनेजर के तौर पर काम करता था और पैसों के लेनदेन को देखता था। उसे दिल्ली लाए जाने के आधार पर एजेंसी ने अदालत से कहा कि इन दोनों को आमने-सामने बिठाकर मनी लॉन्ड्रिंग के जरिए करोड़ों के लेनदेन से मिली जानकारी के बारे में इनसे पूछताछ करनी है। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00