लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttarakhand ›   Dehradun ›   World Elephant Day 2022: elephants coming in population due to Corridor ending

World Elephant Day: कॉरिडोर हो रहे खत्म, आबादी में आ रहे हाथी, लगातार बढ़ रहा मानव-वन्यजीव संघर्ष

जीवन कुमार, अमर उजाला, रामनगर (नैनीताल) Published by: अलका त्यागी Updated Fri, 12 Aug 2022 10:11 AM IST
सार

वर्ल्ड वाइल्ड लाइफ फंड (डब्ल्यूडब्ल्यूएफ) इंडिया के अनुसार वास स्थल की कमी एवं विखंडन हाथियों के अस्तित्व के लिए बड़ा खतरा है। कॉर्बेट टाइगर रिजर्व में 2019 में हुई गणना में 1300 हाथी रिकॉर्ड हुए जबकि कॉर्बेट लैंडस्केप में 1500 से अधिक हाथी विचरण कर रहे हैं।

कॉर्बेट पार्क में हाथी
कॉर्बेट पार्क में हाथी - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

बढ़ता शहरीकरण, फैलता सड़कों का जाल और सिकुड़ते जंगलों के कारण वर्तमान में सबसे बड़ा संकट वन्यजीवों के स्वच्छंद विचरण पर आ गया है। ऐसे में हाथियों के कॉरिडोर विलुप्त हो रहे हैं और हाथी आबादी क्षेत्र में आ रहे है। कॉर्बेट लैंडस्केप में 1500 से अधिक हाथी विचरण कर रहे हैं। बता दें कि हाथी कॉरिडोर यानी एक ऐसा गलियारा या रास्ता जहां बिना किसी मानवीय हस्तक्षेप के हाथी एक जगह से दूसरी जगह स्वच्छंद रूप से विचरण करते हैं। 





दक्षिण पतली दून-चिलकिया कॉरिडोर, चिलकिया-कोटा, कोट-मैलामी, फतेहपुर-गदगरिया, गौला रौखड़-गौराई टांडा, किलपुरा-खटीमा-सुरई हाथी कॉरिडोर में से कई बंद हो गए हैं। कालागढ़ डैम बनने से भी हाथियों के स्वच्छंद विचरण पर असर पड़ा है। वर्ल्ड वाइल्ड लाइफ फंड (डब्ल्यूडब्ल्यूएफ) इंडिया के अनुसार वास स्थल की कमी एवं विखंडन हाथियों के अस्तित्व के लिए बड़ा खतरा है। कॉर्बेट टाइगर रिजर्व में 2019 में हुई गणना में 1300 हाथी रिकॉर्ड हुए जबकि कॉर्बेट लैंडस्केप में 1500 से अधिक हाथी विचरण कर रहे हैं।


डब्ल्यूडब्ल्यूएफ इंडिया के मिराज अनवर के अनुसार, हाथियों की एक अर्थपूर्ण आबादी संरक्षित वन क्षेत्रों के बाहर प्रमुख रूप से कृषि भूमि और मानवीय बस्तियों के आसपास रहती है जिसके कारण अक्सर मानव-हाथी संघर्ष की घटनाएं जैसे फसल क्षति, जानमाल की क्षति आदि घटनाएं होती हैं। कम होते गलियारों को रोकना, हाथियों और मानव के बीच होने वाले संघर्ष को कम करने के लिए जागरूकता लानी होगी। 

कॉर्बेट में हाथियों का सबसे बड़ा बसेरा

वाइल्डलाइफ फोटोग्राफर दीप रजवार बताते हैं कि कॉर्बेट में करीब 1300 हाथियों का बसेरा हैं और ये हाथियों का सबसे बड़ा वास स्थल है। यहां के विशाल घास के मैदान हाथियों को आकर्षित करते हैं जो इनका पसंदीदा चारागाह है। इस बार घास के मैदानों को जलाने की वजह से हाथियों का मैदानों की ओर पलायन ज्यादा हुआ। फरवरी में इन घास के मैदानों को चरणबद्ध तरीके से जलाया गया और जब मार्च में नई कोपलें फूटी तो हाथियों का जमावड़ा होना शुरू हो गया जो पिछले कुछ सालों से घास के मैदान नहीं जलाने के कारण ना के बराबर हो गया था। मई-जून में तो पूरे घास के मैदान हाथियों के झुंडों से पटे रहे, जहां पहले गिने चुने ही हाथियों के झुंड दिखाई देते थे।



जंगल के पास से हटने चाहिए अवैध कब्जे 
मानवीय जनसंख्या बढ़ने के कारण कॉरिडोर सिकुड़ गए, जिससे हाथी इंसानी बस्तियों के करीब पहुंच गए। तराई क्षेत्र के हाथी रामनगर, कॉर्बेट और कोसी नदी पहुंचकर राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 309 का हिस्सा पार करते हैं, जहां तीन हाथी कॉरिडोर-कोटा, चिलकिया-कोटा और दक्षिण पटलिदुन-चिलकिया स्थित हैं। शासन की ओर से आवंटित खत्तों का पुनर्वास और जंगलों के पास अवैध कब्जों को हटाया नहीं जाता तब तक स्थिति जस की तस बनी रहेगी।

 

मानव-वन्यजीव संघर्ष को कम करने के लिए हजारों योजनाएं बनती हैं, लेकिन कागजों में ही सिमट कर रह जाती है। ज्यादा ध्यान बजट लाने और उसे ठिकाने लगाने पर रहता है। विभाग को चाहिए कि ऐसे खत्ते और गांव जो जंगल से सटे हैं उनसे कुछ दायरे पर जल स्रोतों को बढ़ाने, प्रचुर मात्रा में बांस और रोहनी के पेड़ हाथियों के भोजन के रूप में लगाए ताकि उनका रुख आबादी की ओर कम हो। हाथियों के प्राकृतिक आवास में सुधार और इनके साथ इंसानी टकराव कम हो। केंद्र और राज्य सरकार को वन्यजीवों की रक्षा के लिए और कठोर कदम उठाने चाहिए। 
- दीप रजवार, वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर 

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00