लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   Uttarakhand ›   Dehradun News ›   Uttarakhand Congress High command fixed 1700 annual fee But PCC is charging 2500 Rupees

Uttarakhand Congress: सालाना शुल्क पर गरमाई सियासत...आलाकमान ने तय किए 1700, पीसीसी वसूल रही 2500

अमर उजाला ब्यूरो, देहरादून Published by: अलका त्यागी Updated Fri, 24 Mar 2023 09:57 PM IST
सार

आलाकमान के पत्र में सदस्यता शुल्क 1700 रुपये निर्धारित किया गया है लेकिन प्रदेश कांग्रेस की ओर से जारी पत्र में प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) से 2500 रुपये सालाना शुल्क जमा करने का जिक्र है।

Uttarakhand Congress High command fixed 1700  annual fee But PCC is charging 2500 Rupees
कांग्रेस - फोटो : social media

विस्तार

कांग्रेस को लेकर देश में सियासत राहुल गांधी की सजा और उनकी लोकसभा की सदस्यता रद्द होने से गरमाई है। वहीं उत्तराखंड में कांग्रेस अपने पीसीसी सदस्यों से ज्यादा सालाना शुल्क वसूले जाने के पत्र को लेकर विवादों में है। सोशल मीडिया पर शुल्क वसूली के संबंध में एआईसीसी और पीसीसी के पत्र वायरल हो रहे हैं।



Uttarakhand: 31 मार्च को उत्तराखंड आएंगे अमित शाह, सहकारिता विभाग की विभिन्न योजनाओं का करेंगे शुभारंभ


आलाकमान के पत्र में सदस्यता शुल्क 1700 रुपये निर्धारित किया गया है लेकिन प्रदेश कांग्रेस की ओर से जारी पत्र में प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) से 2500 रुपये सालाना शुल्क जमा करने का जिक्र है। प्रदेश संगठन महामंत्री मथुरा दत्त जोशी ने शुल्क निर्धारण को लेकर किसी भी तरह के घपले की संभावना से साफ इंकार किया है। उनका कहना है कि जो फीस वसूली जा रही है, पार्टी उसकी रसीद दे रही है।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा पत्र

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा एक पत्र अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के महासचिव संगठन केसी वेणुगोपाल का है। इस पत्र में हर पीसीसी सदस्य से पार्टी 1700 रुपये शुल्क लेने का जिक्र है। दूसरा पत्र प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करन माहरा ने जारी किया है। इसमें 2500 रुपये सालाना शुल्क जमा करने के निर्देश दिए गए हैं।

ऐसे में पीसीसी सदस्यों से सालाना फीस को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं। मजेदार बात यह है कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करन माहरा को इसकी कोई जानकारी नहीं है। उनका कहना है कि वह पहाड़ में हैं। प्रकरण उनकी जानकारी में नहीं है।

प्रदेश संगठन महासचिव मथुरादत्त जोशी के मुताबिक यह किसी तरह का कोई घपला नहीं है। जो शुल्क लिया जा रहा है, वह सही है। इस शुल्क में से 1700 रुपये एआईसीसी में जमा किए जा रहे हैं जबकि आठ सौ रुपये पीसीसी में जमा किए जा रहे हैं। जो शुल्क लिया जा रहा है, पीसीसी सदस्यों को इसकी रसीद दी जा रही है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election

फॉन्ट साइज चुनने की सुविधा केवल
एप पर उपलब्ध है

बेहतर अनुभव के लिए
4.3
ब्राउज़र में ही
एप में पढ़ें

क्षमा करें यह सर्विस उपलब्ध नहीं है कृपया किसी और माध्यम से लॉगिन करने की कोशिश करें

Followed